स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मास्साब अब नही कर पाएंगे मनमानी, ग्रामीण व पालकों से लिया जाएगा फीडबैक

Dharmendra Pandey

Publish: Aug 18, 2019 15:38 PM | Updated: Aug 18, 2019 15:38 PM

Katni

शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने व लापरवाह मास्साबों पर नकेल कसने जिला पंचायत सीइओ ने बनाई कार्ययोजना

कटनी. सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने की जगह कमचोरी करने वाले मास्साबों पर लगाम लगाने जिला पंचायत सीइओ ने एक खास योजना बनाई हैं। गांव में पदस्थ मास्साब के काम की हकीकत अब ग्रामीणों व पालकों से लिया जाएगा। इनसे मिलने वाले फीडबैक के आधार पर ही शिक्षक का भविष्य तय होगा। योजना को अमल पर लाने के लिए सारी तैयारी भी पूरी हो चुकी हैं।
मास्साबों की लापरवाही के चलते जिले के सरकारी स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से गड़बड़ा गई है। सरकारी स्कूलों की हालत यह है कि अधिकांश स्कूलों में समय पर शिक्षक नहीं पहुंच रहे हैं। इनता ही नहीं कुछ शिक्षक बहाना बनाकर आए दिन गायब रहते हैं। या फिर किसी न किसी राजनीतिक कार्यक्रमों में शामिल होते हैं। बच्चों की पढ़ाई का नुकसान होता है। इसके अलावा सरकारी स्कूलों का नाम भी बदनाम होता है। जिसके चलते सरकारी स्कूलों की शिक्षण व्यवस्था व दूसरी अन्य व्यवस्थाओं में सुधार लाने खास योजना तैयार की गई है। योजना के तहत गांव जाकर ग्रामीणों से अफसर शिक्षक का फीड बैक लेंगें कि वे कैसा काम कर रहे हैं। इसके बाद स्कूल जाकर उसका परीक्षण किया जाएगा।

Education: तबादले की खबर सुन शिक्षक के साथ लिपटकर फूट-फूटकर रोने लगे बच्चे, मास्साब भी हुए भावुक, देखें वीडियोhttps://www.patrika.com/katni-news/education-news-unique-relationship-between-teacher-and-student-4982753/

 

अधिकारियों को दिया एक-एक स्कूल गोद

जिला पंचायत सीइओ ने बीआरसी, बीइओ, बीएसी व संकुल प्राचार्य को डी ग्रेड वाली एक-एक स्कूलों को गोद दिया है। अब ये अफसर स्कूलों में हर दिन जाकर पढ़ाई व व्यवस्थाओं का जायजा लेंगे। एक माह में कितनी प्रगति हुई हई, इसकी जानकारी गूगल सीट पर अपलोड करेंगे। जिला पंचायत सीइओ के सामने प्रजेटेशन देंगे। इसके बाद सीइओ खुद स्कूल जाकर परीक्षण करेंगे। गलत जानकारी भेजने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

-स्कूलों की शिक्षण व्यवस्था में सुधार लाने के लिए योजना बनाई गई है। शिक्षक कैसा काम कर रहे हैं इसका ग्रामीणों से फीडबैक लिया जाएगा। अच्छा काम करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत किया जाएगा। लापरवाह शिक्षकों पर सख्त कार्रवाई होगी।
जगदीश गोमे, सीइओ, जिला पंचायत।