स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

थैले में मिले कागजों ने बढ़ाई जीआरपी की परेशानी, होशंगाबाद करेंसी पेपर मिल जाएगी टीम, उधर खंडवा में चल रही संदिग्ध की तलाश

Balmeek Pandey

Publish: Oct 21, 2019 11:43 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:43 AM

Katni

- मैहर अमानती सामान गृह में शनिवार को एक यात्री द्वारा रखे गए बैग को न ले जाने के बाद हुई जांच में नोटों जैसे मिले कागजों की जांच शुरू हो गई है।

- जीआरपी ने अब कागज के सत्यापन और संदिग्ध की तलाश शुरू कर दी है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही यह खुलासा हो पाएगा कि आखिरकार ये कागज के बंडल व्यक्ति के पास कैसे पहुंचे और किन परिस्थितियों यहां पर रखे गए।

- मैहर बुकिंग कार्यालय के लॉकर में मिले कागजों की जांच के लिए जीआरपी की टीम होशंगाबाद जाएगी।

कटनी. मैहर अमानती सामान गृह में शनिवार को एक यात्री द्वारा रखे गए बैग को न ले जाने के बाद हुई जांच में नोटों जैसे मिले कागजों की जांच शुरू हो गई है। जीआरपी ने अब कागज के सत्यापन और संदिग्ध की तलाश शुरू कर दी है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही यह खुलासा हो पाएगा कि आखिरकार ये कागज के बंडल व्यक्ति के पास कैसे पहुंचे और किन परिस्थितियों यहां पर रखे गए। मैहर बुकिंग कार्यालय के लॉकर में मिले कागजों की जांच के लिए जीआरपी की टीम होशंगाबाद जाएगी। क्योंकि इन कागजों की साइज नोटों के आकार की है। इसके अलावा बंडलों में 'फॉर ट्रेजरी यूज ऑनली' लिखा है। इसका पता लगाने टीम होशंगाबाद पेपर सिक्योरिटी मिल जाएगी। यहां से कागजों का सत्यापन कराया जाएगा। बता दें कि यहां पर नोटों वाले कागज तैयार होते हैं। यहां से देवास-जलगांव में नोट छपाई की प्रक्रिया के लिए जाते हैं इसके बाद नागपुर कार्यालय से आरबीआइ द्वारा नोट जारी किए जाते हैं। क्योंकि इस बंडल में जो पेपर निकले हैं उनके अंदर एक सफेद कलर का पेपर है।

 

कचहरी में हो रही स्टॉम्प की कालाबाजारी, 100 रुपये के एक स्टॉम्प में 170 रुपये तक की वसूली, देखें वीडियो

 

खंडवा में हो रही तलाश
शनिवार को जब पता चला कि बालकदास 401 पुनासा डेम खंडवा निवासी द्वारा 24 जुलाई को बैग मैहर अमानती गृह में रखा गया था। इसके बाद जीआरपी ने खंडवा थाना प्रभारी को संदिग्ध की पताशाजी के लिए कहा है। वहीं बैग से मिले मोबाइल नंबर की सीडीआर लोकेशन टै्रस कराई जा रही है। रेलवे द्वारा यात्री का स्थाई पता न लेने व यात्री का आइडी कार्ड जमा ना कराने के कारण जीआरपी को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

 

रेलवे के अमानती गृह में डेढ़ करोड़ रखे होने की फैली खबर, जांच में सामने आए चौकाने वाले तथ्य, देखें वीडियो

 

आज विभागों में होगी जांच
रविवार को सभी कार्यालय बंद होने के कारण जांच विशेष आगे नहीं बढ़ सकी। जीआरपी सोमवार को ट्रेजरी कार्यालय, पोस्ट ऑफिस, बैंक व महिला बाल विकास में जाकर पूछताछ करेगी। उनको कागजों को दिखाकर पूछताछ की जाएगी की क्या इनका उपयोग इन विभागों में हो रहा है।

 

अतिक्रमण हटाने हिम्मत नहीं जुटा पा रहा नगर निगम व प्रशासन, जगन्नाथ चौक से जुहला बायपास तक होना है सड़क चौड़ीकरण


खास-खास:
- 17 अक्टूबर को आरपीएफ और जीआरपी को दी गई थी सूचना, कोई नहीं पहुंचा, 18 को डिवीजन को बताया गया।
- टेलीफोन से अधिकारियों कहा कि डिस्पोज करने के लिए सील खोलिए, सील खोलने पर नोटो जैसा प्रतीत हुआ।
- 18 को कमांडेंट व सतना से एरिया मैनेजर भी पहुंचे, रात 12 बजे निर्णय लिया गया कि इसे जीआरपी को सौंपा जाए।
- 19 को डीसीएम, आरपीएफ और जीआरपी की मौजूदगी में बैग को खेाला गया, जिसमें संदिग्ध सादे कागज निकले।
सादा कागज ही लग रहा है।
- मैहर स्टेशन प्रबंध ने लेकर डिवीजन के अधिकारियों ने बरती लापरवाही, एक माह बाद भी नहीं डिस्पोज किया केस।
- विभागीय कर्मचारी-अधिकारियों की लापरवाही पर शुरू होगी विभागीय जांच, दोषियों पर होगी कार्रवाई।

इनका कहना है
खंडवा में संदिग्ध की तलाश स्थानीय पुलिस द्वारा शुरू करा दी गई है। पेपर की जांच के लिए टीम होशंगाबाद एसपीएम जाएगी। सोमवार को ट्रेजरी सहित अन्य कार्यालयों में नोटों जैसे मिले कागजों के संबंध में पूछताछ की जाएगी।
डीपी चड़ार, टीआइ जीआरपी।