स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

plantation: समाजसेवी शहर में रोप रहे ऐसे पौधे जिससे दूर हो जाएगी बुखार सहित संक्रामक बीमारियां

Balmeek Pandey

Publish: Oct 19, 2019 11:24 AM | Updated: Oct 19, 2019 11:24 AM

Katni

शहर के समाज सेवियों द्वारा एक पखवाड़े से अनूठी पहल शुरू की गई है। संक्रामक बीमारियों सहित अन्य रोगों से लोगों को बचाने के लिए पहल शुरू की है। टेंट लाइट एसोसिएशन द्वारा शहर के दो दर्जन से अधिक स्थानों पर गिलोय के पौधे रोपे जा रहे हैं।

कटनी. शहर के समाज सेवियों द्वारा एक पखवाड़े से अनूठी पहल शुरू की गई है। संक्रामक बीमारियों सहित अन्य रोगों से लोगों को बचाने के लिए पहल शुरू की है। टेंट लाइट एसोसिएशन द्वारा शहर के दो दर्जन से अधिक स्थानों पर गिलोय के पौधे रोपे जा रहे हैं। एसोसिएशन से जुड़े सदस्यों द्वारा पीरबाबा से लेकर कलेक्ट्रेट तक, जिला जेल झिंझरी, राधा स्वामी सत्संग भवन, कलेक्ट्रेट सहित शहर के प्रमुख मार्गों के किनारे पर स्थित नीम के पेड़ों के नीचे गिलोय के पौधे रोपे गए हैं। इसमें अबतक पांच सौ से अधिक पौधे रोपे गए हैं। उक्त कार्य समाजसेवी अजय सरावगी के नेतृत्व में किया जा रहा है। इसमें खियलदास पंजवानी, सौरभ जैन, जिला पंचायत सदस्य डॉ. एके खान, सतीश खंपरिया, अजय सिंह, वेंकटेश गुप्ता, विंदेश्वरी पटेल, महेंद्र मिश्रा, छोटू पांडेय, राजू पटेल, केशव साहू, मामू, मोन गुप्ता, संजय तिवारी आदि की भूमिका रही। अजय सरावगी ने कहा कि समाजसेवियों द्वारा यह पहल इसलिए की जा रही है कि लोग वैद्यों के बताए अनुसार इसके काढ़े का सेवन करें और असाध्य रोगों से छुटकारा पाएं।

 

कुआं में डूबने से तीन लोगों की मौत: तत्कालीन सचिव निलंबित, कौन-कौन दोषी इसकी शुरू हुई जांच

 

गजब के हैं फायदे
वैद्य सुरेंद्र विश्वकर्मा के अनुसार गिलोय एक ऐसा चमत्कारी पौधा है, जो सभी तरह के मर्ज की दवा साबित होता है। गिलोय मानव जीवन को हर तरह के रोगों से छुटकारा दिलाकर रोगमुक्त करती है। गिलोय एक ऐसी औषधि है, जिसे अमृत तुल्य वनस्पति माना जाता है। आयुर्वेदिक द्रष्टिकोण से रोगों को दूर करने में सबसे उत्तम औषधि के रूप में गिनी जाती है। गिलोय की एक सबसे अच्छी खासियत ये है कि यह जिस भी पेढ़ पर चढ़ जाती है, उसके गुण को अपने भीतर चढ़ा लेती है। नीम पर चढ़ी हुई गिलोय सबसे उत्तम मानी जाती है। खास तौर पर ज्वर का नाश करने, आंखों की रोशनी बढ़ाने, पाचन क्रिया को दुरुस्त करने, डायबिटीज को नियंत्रित करने, मोटापे को कम करने, इम्युनिटी को बढ़ाने, सर्दी-खासी को दूर भगाने में रामबाण औषधि है।

 

उमरियापान क्षेत्र के डूडी गांव पहुंचे कलेक्टर, लोकसुनवाई में सुनी लोगों की समस्याएं, इस बात को लेकर असमंजस

 

सुरक्षा की सौंप रहे जिम्मेदारी
समाजसेवियों द्वारा पौधों की सुरक्षा को लेकर भी पहल कर रहे हैं। जिस स्थान पर पौधे रोपे हैं वहां के लोगों से संपर्क कर उस पौधे की सुरक्षा के लिए जिम्मेदारी सौंप रहे हैं। स्थानीय लोगों से पौधों को पानी देने प्रेरित कर रहे हैं। अजय सरावगी ने बताया कि अभी और पौधे लगाए जाएंगे।