स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

video: एसपी पहुंचे ऑर्डिनेंस फैक्ट्री, हड़ताली कर्मचारियों से की बात

raghavendra chaturvedi

Publish: Aug 22, 2019 17:26 PM | Updated: Aug 22, 2019 17:26 PM

Katni

ऑर्डिनेंस फैक्ट्री गेट पर मंगलवार को हड़ताल के पहले दिन कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन, विरोध में लगाए नारे

कटनी. ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में निगमीकरण के विरोध में कर्मचारी लगातार तीसरे दिन भी हड़ताल पर रहे। गुरुवार को हड़ताल कर रहे कर्मचारियों से मुलाकात करने के एसपी कटनी ललित शाक्यवार ऑर्डिनेंस फैक्ट्री गेट पहुंचे। एसपी ने कर्मचारियों से अपील की कि वे शांतिपूर्ण ढंग से अपनी बात रखें। बतादें कि हड़ताल के पहले दिन मंगलवार को कटनी स्थित ऑर्डिनेंस फैक्ट्री गेट के सामने कर्मचारियों ने केंद्र सरकार की नीतियों को रक्षा संस्थानों के लिए नुकसानदायक बताते हुए विरोध में नारे लगाए। ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारी 20 अगस्त से 19 सितंबर तक हड़ताल पर रहेंगे। यूनियन नेताओं ने बताया इस बीच सरकार ने ध्यान नहीं दिया तो कर्मचारी अनिश्चितकॉलीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

बतादें कि 20 अगस्त से एक माह के लिए हड़ताल की घोषणा यूनियन नेताओं ने पहले ही की थी। इस संबंध में कलेक्टर सहित अन्य अधिकारियों को सूचना दी गई थी। मंगलवार को कर्मचारियों के हड़ताल के मद्देनजर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री गेट और परिसर पर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया, बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई।

 

गोदाम में तुअर की जांच करने पहुंचे मंडी अधिकारी तो दाल मिल मालिकों ने बंद कर दिया काम, शुरू की हड़ताल

Ordinance factory workers shouting slogans against corporatization
निगमीकरण के विरोध में नारे लगाते ऑर्डिनेंस फैक्ट्री कर्मचारी IMAGE CREDIT: Raghavendra

ऑडिनेंस फैक्ट्री कर्मचारियों के हड़ताल में पहले दिन कांग्रेस पार्टी के शहर अध्यक्ष मिथिलेश जैन शामिल हुए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी कर्मचारियों के साथ है। केंद्र सरकार की नीतियों के कारण ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियां बंद होने की कगार पर पहुंच गई है।
यूनियन नेता महेंद्र तिवारी ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के सभी कर्मचारी इस स्थिति में इसलिए पहुंचे हैं कि सरकार को बता सकें कि आपकी नीति सही नहीं है। आजादी के बाद जितने भी युद्ध हुए उसमें फैक्ट्री के कर्मचारियों ने जी तोड़ मेहनत की। ऐसे में सरकार का ये कहना कि कर्मचारी निकम्मा है, सही नहीं है।
यूनियन नेता मनोज निगम ने बताया कि देशभर में 41 ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारी हड़ताल पर हैं। सरकार मांग नहीं मानती है तो आगे उग्र आंदोलन होगा। अभी कर्मचारी काम पर नहीं जा रहे हैं। सरकार ने एक भी नई निर्माणी खोली नहीं है। दूसरी ओर पूर्व से संचालित निर्माणी में निगमीकरण और फिर निजीकरण की तैयारी की है।
वहीं यूनियन नेता अजय परौहा ने बताया कि आयुध निर्माणियों का इतिहास 218 वर्षों का है। हमारी निर्माणी ने कारगिल युद्ध में अहं भूमिका निभाई। सरकार कह रही है कि आयुध निर्माणी कुछ नया नहीं कर रही है। जबकि यह काम डीआरडीओ का है। जिसे सेना अप्रुव करती है। सरकार द्वारा निजीकरण को बढ़ावा देने और 60 हजार एकड़ जमीन पर कब्जा का हम विरोध करते हैं।

 

इंजीनियर बोले कलेक्टर के निर्देश पर डायवर्ट हो रहा नाला, नागरिकों ने कहा खाली जमीन पर होगा अतिक्रमण