स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बलात्कार के आरोपी को बचाने बड़े भाई ने पीडि़ता का किया अपहरण, जिले की इस महिला पुलिस अफसर ने निकाला खोज, जानिए कैसे

Dharmendra Pandey

Publish: Aug 22, 2019 21:14 PM | Updated: Aug 22, 2019 21:14 PM

Katni

-45 दिन तक छत्तीसगढ़ और जबलपुर में अलग-अलग स्थानों पर रखा, पुलिस ने दबिश देकर आरोपी को किया गिरफ्तार

कटनी. बलात्कार के आरोप में सजा काट रहे आरोपी को बचाने के लिए बड़े भाई ने नाबालिग पीडि़ता का अपहरण किया और बयान बदलने दबाव बनाया। लगभग 45 दिन से ज्यादा दिनों तक छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों के साथ ही जबलपुर में रखा। इधर, सूचना मिलने पर जिले की निवार पुलिस ने दबिश देकर नाबालिग का अपहरण करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया और पीडि़ता को सुरक्षित परिजनों के हवाले किया।
निवार पुलिस चौकी से मिली जानकारी मुताबिक जबलपुर के रांझी निवासी आरोपी विक्की लोधी ने जबलपुर की ही रहने वाली एक नाबालिक से बलात्कार की घटना को अंजाम दिया था। आरोपी को गिरफ्तार कर जबलपुर की पुलिस ने उसे जेल भेज दिया। इधर, आरोपी पक्ष की ओर से लगातार दबाव देने के बाद पीडि़ता परिजनों के साथ कटनी के निवार चौकी अंतर्गत किसी गांव में आकर रहने लगी। कुछ दिन बाद इसकी जानकारी आरोपी के परिजनों के लगी और उस पर बयान बदलने का दबाव बनाया जाने लगा। पीडि़ता नहीं मानी तो जेल में बंद छोटे भाई को बचाने के लिए उसके बड़े भाई निवार के गांव पहुंचा और एक जुलाई को पीडि़ता का अपहरण कर लिया। उसे छत्तीसगढ़ लेकर चला गया। वहां से लौटकर आने के बाद आरोपी ने पीडि़त को जबलपुर के रांझी स्थित रिश्तेदार के सूने घर पर भी कई दिनों तक बंधक बनाकर रखा। मामले की रिपोर्ट पीडि़ता के परिजनों ने निवार चौकी में दर्ज कराई। पुलिस ने नाबालिग की खोजबीन शुरू की। जानकारी मिलने पर रांझी स्थित रिश्तेदार के घर पर पुलिस ने दबिश दी और आरोपी को गिरफ्तार कर कटनी ले आई। पुलिस टीम में सौरभ सोनकर, रणविजय ङ्क्षसह, नीलम सहित एक अन्य महिला आरक्षक शामिल रहीं।
-बलात्कार के मामले में सजा काट रहे आरोपी छोटे भाई को बचाने के लिए बड़े भाई ने पीडि़ता का अपहरण किया था। उस पर बयान बदलने का दबाव बनाया जा रहा था। अपहरणकर्ता ने पीडि़ता को छत्तीसगढ़ व जबलपुर में बंधक बनाकर रखा था। अपहरणकर्ता को गिरफ्तार कर लिया गया है।
प्रियंका राजपूत, चौकी प्रभारी निवार।