स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षक के तबादले पर बोले बच्चे: मास्साब के स्थानांतरण से स्कूल आने का नहीं करता मन, कलेक्टर ने कही ये बात

Balmeek Pandey

Publish: Aug 19, 2019 11:59 AM | Updated: Aug 19, 2019 12:11 PM

Katni

- ढीमरखेड़ा के तिलमन स्कूल में पदस्थ शिक्षक मंगलदीन पटेल के तबादला हो जाने के बाद शनिवार को बच्चों के रोने और शिक्षक के भावुक होने का सोशल मीडिया में वीडियो वायरल हुआ था। इसके लेकर रविवार को दिनभर यह विषय चर्चाओं में रहा।

- एक ओर जहां ग्रामीण शिक्षक को मिसाल बता रहे हैं तो वहीं बच्चे भी कह रहे हैं कि हमें हमारे मास्साब वापस दिए जाएं। विद्यार्थी अभयराज सिंह ने कहा कि मास्साब बहुत अच्छे थे, बहुत अच्छे से पढ़ाते थे आसानी से समझ में आता था।

- ग्रामीण खेमराज सिंह ने कहा कि नैंसी को शिक्षक मंगलदीन पटेल की मेहनत से प्रदेश स्तरीय गणित ओलंपियाड में चयन हुआ।

कटनी. ढीमरखेड़ा के तिलमन स्कूल में पदस्थ शिक्षक मंगलदीन पटेल के तबादला हो जाने के बाद शनिवार को बच्चों के रोने और शिक्षक के भावुक होने का सोशल मीडिया में वीडियो वायरल हुआ था। इसके लेकर रविवार को दिनभर यह विषय चर्चाओं में रहा। एक ओर जहां ग्रामीण शिक्षक को मिसाल बता रहे हैं तो वहीं बच्चे भी कह रहे हैं कि हमें हमारे मास्साब वापस दिए जाएं। विद्यार्थी अभयराज सिंह ने कहा कि मास्साब बहुत अच्छे थे, बहुत अच्छे से पढ़ाते थे आसानी से समझ में आता था। ग्रामीण खेमराज सिंह ने कहा कि नैंसी को शिक्षक मंगलदीन पटेल की मेहनत से प्रदेश स्तरीय गणित ओलंपियाड में चयन हुआ। इस स्कूल के 11 बच्चे पास हुए थे। हमेशा बच्चे बढिय़ा रिजल्ट लाते हैं। संस्कार भी अच्छे मिल रहे थे। बच्चों ने कहा कि स्कूल आने का मन नहीं कर रहा। उनकी हर बात आसानी से समझ आती थी। शिवराज ने कहा कि हमेशा वे अच्छी शिक्षा देते थे।

 

Education: तबादले की खबर सुन शिक्षक के साथ लिपटकर फूट-फूटकर रोने लगे बच्चे, मास्साब भी हुए भावुक, देखें वीडियो

 

शिक्षक कर रहे अनुशरण
आशीष बडग़ैंया ने कहा कि पांच साल से अतिथि शिक्षक हैं। हमेशा शिक्षक मंगलदीन ने अपना समय बच्चों को दिया। इनकी लगन से स्कूल के अन्य शिक्षक अनुशरण करते हैं और बच्चे अच्छे से पढ़ते हैं। बच्चे दुखी हैं। बच्चे कह रहे हैं कि पटेल सर के जाने से स्कूल में मन नहीं लग रहा। राज्यपाल और कलेक्टर, ग्रामीण सम्मानित कर चुके हैं। खेमराज ने कहा कि शिक्षक सिर्फ बच्चों के भविष्य निर्माता ही नहीं होते बल्कि अच्छे शिक्षक बच्चों के लिए माता-पिता और दोस्त से भी कम नहीं होते। जिनसे बच्चे बिछड़ते हैं तो कुछ ऐसा ही नजारा सामने आता है। हमारी मांग है कि ऐसे शिक्षक को गांव में ही रखा जाए।

 

जाम से कराह रही इस शहर की जनता, अंडरपाथ निर्माण में सामने आई निगम की बड़ी बेपरवाही, तीन साल पहले बना था प्रस्ताव


आलंपियाड में बच्चों ने किया बेहतर प्रदर्शन
शिक्षक मंगलदीन बच्चों के चहेते सिर्फ और सिर्फ इसलिए बने कि वे विद्यार्थियों की अपने बच्चों की तरह देखभाल करते थे। पढ़ाई में हमेशा बच्चों को क्षेत्र में आगे रखा। 2017-18 में स्कूल के बच्चों का चयन गणित ओलंपियाड में हुआ। स्कूल के 11 बच्चे चयनित हुए थे। इस पर तत्कालीन कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने शिक्षक को विशेष रूप से सम्मानित किया था। खास बात यह है कि शिक्षक मंगलदीन बच्चों को बड़े चाव से पढ़ाते हैं, ताकि बच्चे उसे आसानी से अपने दिमाग में बैठा लें और सीख सकें। शिक्षक ने रेखा गणित को कभी भी स्कूल के अंदर नहीं पढ़ाया। ग्राउंड के बाहर धागा, रस्सी, कील लेकर कोण, आयत, वर्ग, चतुर्भुज, घन सहित संपूर्ण रेखा गणित का प्रयोगिक अध्ययन कराते हैं।

 

जीआरपी के हाथ लगे डकैत, सराफा कारोबारी व नेता की दुकान से बरामद हुए जेवर, कई चोरियों का हो सकता है खुलासा

 


इनका कहना है
मैं अपनी स्वेच्छा से तबादला कराया है। गृहग्राम रीवा है। कटनी के कुठला माध्यमिक शाला में स्थानांतरण हुआ है। वहां से मैं अप-डाउन कर सकता हूं। मैं जिस स्कूल में भी रहूंगा वहां भी बच्चों को पूरी इमानदारी से पढ़ाऊंगा।
मंगलदीन पटेल, शिक्षक।

शिक्षक नि:संदेश अच्छे हैं। स्कूल को काफी बेहतर बनाया है। ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत तबादला भोपाल से हुआ है। इसमें हम कुछ नहीं कर सकते।
बीबी दुबे, जिला शिक्षा अधिकारी।

इनका कहना है
इसमें देखा जाएगा कि शिक्षक का तबादला जिला शिक्षा विभाग व राज्य स्तर पर हुआ है। बच्चों के प्रिय शिक्षक उसी स्कूल में रहें इसके लिए पहल की जाएगी। जिला शिक्षा अधिकारी यदि तबादला निरस्त करने के लिए प्रतिवेदन देते हैं तो जरुर इसपर विचार किया जाएगा।
शशिभूषण सिंह, कलेक्टर।