स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बच्चों की पढ़ाई के लिए भेंट किए कम्प्यूटर पर डीइओ की दबंगई, कार्यालय में लगवाया

Dharmendra Pandey

Publish: Sep 23, 2019 11:04 AM | Updated: Sep 23, 2019 11:04 AM

Katni

-तकनीकी शिक्षा से कैसे परिचित होंगे विद्यार्थी, आईटी की पढ़ाई के लिए कटनी-मुड़वारा विधायक ने साल 2015-16 में स्कूल प्रबंधन को दिए थे 6 कम्प्यूटर

 

कटनी. तकनीकी शिक्षा से बच्चों को जोडऩे के लिए शासन की योजनाओं के अलावा जनप्रतिनिधि, सामाजिक संस्थाएं भी सरकारी स्कूलों में कम्प्यूटर व अन्य सामग्री भेंट कर रही हैं। जिससे विद्यार्थी तकनीकी शिक्षा से जुड़कर अपने ज्ञान बढ़ा सके। दूसरी तरफ कटनी जिले की शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय को विधायक द्वारा भेंट गए कम्प्यूटरों पर जिला शिक्षाधिकारी की नजर लग गई हैं। इन कम्प्यूटरों को डीइओ ने उठाकर अपने कार्यालय में लगवा लिया है। स्कूल में कम्प्यूटर की कमी के चलते विद्यार्थियों को तकनीकी शिक्षा का पर्याप्त ज्ञान नही मिल पा रहा हैं।
सरकारी हाइस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूलों के बच्चों को कम्प्यूटर की पढ़ाई का ज्ञान हो। इसके लिए प्रदेश सरकार ने उत्कृष्ट विद्यालयों ने साल 2015-16 में आईटी की पढ़ाई शुरू कराई। साल 2015-16 में जिले की शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय माधवनगर में भी आईटी (इनफॉरमेशन टेक्नॉलाजी) की कक्षाएं प्रारंभ हुई। स्कूल में कम्प्यूटर की कमी को देखते हुए कटनी-मुड़वारा शहरी क्षेत्र से विधायक संदीप जायसवाल किसी कार्यक्रम में शामिल होने स्कूल पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने आइटी की पढ़ाई के लिए 6 कम्प्यूटर भेंट किए थे। इधर, कम्प्यूटर के स्कूल में पहुंचते ही डीइओ ने 2 कम्प्यूटर मंगवा लिया। अब पिछले पांच साल से दान किए दो कम्प्यूटर डीइओ कार्यालय की शोभा बढ़ा रहे है।

180 बच्चों के बीच है 13 कम्प्यूटर
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय माधवनगर में कक्षा 9वीं से लेकर 12वीं तक के 180 विद्यार्थी आईटी की पढ़ाई करते हैं। इनके बीच सिर्फ 13 ही कम्प्यूटर बचे हंै। विद्यार्थियो को तकनीकी ज्ञान दिलाने के लिए स्कूल प्रबंधन को एक कम्प्यूटर पर दो से तीन छात्रों को बिठाना पड़ रहा है। चार पालियों में कक्षाएं लगानी पड़ रही है। स्कूल प्रबंधन की मानें तो यदि दो कम्प्यूटर मिल जाते है तो चार की जगह तीन पालियों में ही आईटी कक्षाएं शुरू हो जाएंगी।

-कम्प्यूटरों को मंगाने के लिए कई बार मौखिक रूप से मांग की गई लेकिन वापस नही किया गया। कम्प्यूटर की कमी होने की वजह से बच्चों की पढ़ाई सही तरीके से नही हो पा रही है।
विभा श्रीवास्तव, प्राचार्य

-मुझे डीइओ का प्रभार का मिले हुई कुछ माह का ही समय हुआ है। कम्प्यूटर डीइओ कार्यालय में कहा पर लगा है पता लगवाता हूं। वापस किया जाएगा।
बीबी दुबे, जिला शिक्षाधिकारी।

-स्कूल प्रबंधन द्वारा मुझे कोई जानकारी नही दी गई है। आपके माध्यम से जानकारी मिली है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों से बातकर कम्प्यूटर दिलाया जाएगा।
संदीप जायसवाल, विधायक, शहरी क्षेत्र।