स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महिला बाल विकास विभाग व जिला पंचायत की पहल: वॉशबेसिन के साथ जिले में बनेंगे 266 बाल टॉयलेट

Balmeek Pandey

Publish: Oct 19, 2019 11:34 AM | Updated: Oct 19, 2019 11:34 AM

Katni

महिला बाल विकास विभाग और जिला पंचायत द्वारा स्वच्छता को लेकर जिले में एक और खास पहल की जा रही है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले की आंगनवाडिय़ों में बाल टायलेट निर्माण कराए जाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए राशि जारी करते हुए निर्माण कार्य भी शुरू करा दिया गया है।

कटनी. महिला बाल विकास विभाग और जिला पंचायत द्वारा स्वच्छता को लेकर जिले में एक और खास पहल की जा रही है। (child toilet) स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले की आंगनवाडिय़ों में बाल टायलेट निर्माण कराए जाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए राशि जारी करते हुए निर्माण कार्य भी शुरू करा दिया गया है। (Swachhat Bharat Mission) जानकारी अनुसार अभी जिले की 266 आंगनवाड़ी केंद्रों में बाल टॉयलेट का निर्माण कराया जाना है। बाल टॉयलेट निर्माण के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग ने 266 आंगनवाडिय़ों में टॉयलेट निर्माण के लिए प्रति टॉयलेट 12 हजार रुपये के मान से 31 लाख 92 हजार रुपये जिला पंचायत को जारी कर दिए हैं। अब जनपद व ग्राम पंचायतों के माध्यम से टॉयलेट का निर्माण शुरू करा दिया गया है। ग्राम पंचायत निर्माण एजेंसी नियुक्त किए गए है। मॉनीटरिंग जनपद पंचायत व जिला पंचायत द्वारा की जाएगी।

 

VIDEO: नियमितिकरण हुआ न रुका निष्कासन, मांग को लेकर फिर सड़क पर उतरे संविदा कर्मचारी, शुरू किया स्वराज आंदोलन

 

हाथ धुलाई के लिए रहेगी व्यवस्था
खास बात यह है कि इसमें बच्चों के लिए अलग से वॉश बेसिन बनाया जाएगा। ताकि बच्चे निस्तार के बाद, खाना खाने से पहले सहित अन्य काम से पहले हाथ धुलना खेल-खेल में सीख सकें। इसमें सीट बच्चों वाली लगाई जाएगी ताकि प्रयोग में बच्चों को सुविधा हो। इसके अलावा दरवाजा कम ऊंचाई का रहेगा, ताकि बच्चे को कोई परेशानी न हो। निर्माण के लिए 21 दिन की समय सीमा निर्धारित की गई है। एक माह में कंपलीट करके देना है।

 

plantation: समाजसेवी शहर में रोप रहे ऐसे पौधे जिससे दूर हो जाएगी बुखार सहित संक्रामक बीमारियां

 

इनका कहना है
बाल टॉयलेट निर्माण के लिए जिला पंचायत को राशि जारी कर दी गई है। एक माह के अंदर जनपद व ग्राम पंचायतों के माध्यम से निर्माण कराया जाना है। बच्चों को सुविधा अनुसार प्रसाधनों का निर्माण होगा।
नयन सिंह, जिला परियोजना अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग।

सभी 266 पंचायतों को बाल टॉयलेट निर्माण की राशि जारी कर दी गई है। संबंधित जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी व उपयंत्री सहित सचिवों को निर्देश दिए गए हैं कि 21 दिन के अंदर प्रसाधन तैयार कराएं।
जगदीश चंद्र गोमे, जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी।