स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रेपिस्टों को चौक चौराहों पर फांसी देने का बने कानून

Devkumar Singodiya

Publish: Dec 22, 2019 17:47 PM | Updated: Dec 22, 2019 17:47 PM

Karnal

अभिभावकों को चाहिए कि वे अपनी बेटियों को इस तरह के परिधान न पहनने दें जिनसे अंग प्रदर्शन होता हो।

करनाल/फिरोजपुर झिरका. आर्य जगत की वैदिक प्रवक्ता साध्वी डॉ. पुष्पा शास्त्री ने कहा केंद्र सरकार एवं देश के सभी राजनीतिक पार्टियों के नेता कानून में संशोधन करें और आरोप साबित होने के बाद रेपिस्टों को सरेआम चौक-चौराहों पर फांसी पर लटकाए। ताकि किसी भी बेटी के साथ रेप करने की हिम्मत नहीं पड़ सके। इसके लिए न्यायिक प्रक्रिया भी शीघ्र ही पूरी हो ताकि पीडि़ता को इंसाफ मिलने में देरी न हो।

गुरुकुल में शिक्षा ग्रहण कर वेदों में पीएचडी कर विश्व के 41 देशों में आर्य समाज का प्रचार कर चुकी आर्य जगत की तेज तर्रार साध्वी डॉ. पुष्पा ने कहा अभिभावकों को चाहिए कि वे अपनी बेटियों को जूड़ो कराटे, लाठी एवं तलवार चलाने के साथ-साथ बंदूक चलाना भी सिखाएं। उन्होंने कहा बेटियों को शारीरिक एवं मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए उनको कुश्ती खिलाएं, ताकि समय पडऩे पर वे अपनी सुरक्षा स्वयं कर सकें।

आर्य समाज में पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा बेटियों को महारानी लक्ष्मीबाई और दुर्गा की तरह बनाने का समय आ गया है। अभिभावकों को चाहिए कि वे अपनी बेटियों को इस तरह के परिधान न पहनने दें जिनसे अंग प्रदर्शन होता हो। बेटियों को शिक्षित करने के साथ-साथ संस्कारवान बनाएं और उनका ध्यान रखें। बेटियों को भी चाहिए कि हिंदुस्तान की संस्कृति और माता-पिता की मान मर्यादा को ध्यान में रखते हुए जीवन को जिएं।

उन्होंने कहा आर्य समाज देश ही नहीं बल्कि बच्चों, युवाओं एवं लोगों को अच्छी राह पर चलना, माता-पिता, सास-ससुर की सेवा, सम्मान करना, पाखंंड़ों से दूर रहना, धर्म के मार्ग पर चलकर देश एवं समाज की रक्षा करना सिखाता है।

हरियाणा की अधिक खबरों के लिए क्लिक करेें...
पंजाब की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
जम्मू कश्मीर की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...

[MORE_ADVERTISE1]