स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नौकरी के लिए अब एक बार ही देना पड़ेगा आवेदन शुल्क

Chandra Prakash sain

Publish: Oct 14, 2019 07:02 AM | Updated: Oct 13, 2019 18:03 PM

Karnal

Haryana: आउटसोर्सिंग कर्मियों को भी मिलेगा डीसी रेट पर वेतन, प्राइवेट सेक्टर में बेरोजगारों को मिलेगा आरक्षण

चंडीगढ़. हरियाणा में बेरोजगारी की समस्या को गंभीर मानते हुए भाजपा ने सरकारी नौकिरयों के लिए हरियाणा लोकसेवा आयोग और हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की भारी-भरकम आवेदन फीस से बेरोजगारों को मुक्ति दिलाने का ऐलान किया है। भाजपा ने वादा किया है कि सत्ता में आने के बाद 'वन टाइम फीसÓ योजना शुरू होगी। यानी एक बार जमा करवाई गई फीस नौकरी पाने तक मान्य होगी। अगर पहली भर्ती में नंबर नहीं लगता तो आवेदन को दूसरी नौकरी के लिए फीस नहीं देनी होगी। यही नहीं, एचपीएससी में अधिकतम 1000 और एचएससीसी में 500 रुपये फीस तय होगी। आउटसोर्स की सभी नौकरियों में डीसी रेट लागू होंगे। सभी प्रकार की नौकरियों के लिए कॉमन पात्रता परीक्षा होगी और इसके लिए परीक्षा केंद्र भी जिला स्तर पर ही बनेंगे।

किसानों, युवाओं और दलितों के सहारे भाजपा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल तथा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि दोबारा सत्ता में आने पर आउटसोर्सिंग कर्मियों को डीसी रेट के अनुसार वेतन दिया जाएगा। इसके अलावा युवाओं को उच्च एवं व्यवसायिक शिक्षा के लिए बिना गारंटी ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा।

हरियाणा में चुनाव के दौरान विपक्ष द्वारा बेरोजगारी को मुद्दा बनाए जाने के बाद अब भाजपा ने प्राइवेट सेक्टर में स्थानीय युवाओं को रोजगार का वादा किया है। संकल्प-पत्र में कहा गया है कि स्थानीय लोगों को 95 प्रतिशत रोजगार देने वाले उद्योगों को विशेष लाभ सरकार की ओर से दिए जाएंगे। युवाओं को उच्च एव व्यावसायिक शिक्षा के लिए बिना गारंटी ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा। सभी जिला मुख्यालयों पर साल में कम से कम तीन रोजगार मेले लेगेंगे।

हरियाणा की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें