स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मनोहर सरकार का ऐलान, नौकरियों में हरियाणा के युवाओं को मिलेगी प्राथमिकता

Chandra Prakash sain

Publish: Sep 24, 2019 21:39 PM | Updated: Sep 24, 2019 21:41 PM

Karnal

Haryana:क्लर्क के लिए भी होगी पात्रता परीक्षा, आन लाइन परीक्षा पर विचार

चंडीगढ़. हरियाणा में विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने युवाओं को लुभाने के लिए ऐलान कर दिया है कि हरियाणा में भविष्य में होने वाली भर्तियों में प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी, यही नहीं मुख्यमंत्री ने साफ कर दिया है कि भविष्य में होने वाली किसी भी भर्ती परीक्षा के लिए दूर-दराज परीक्षा केंद्र नहीं बनाए जाएंगे आसपास के जिलों में ही अभ्यर्थियों को परीक्षा के लिए भेजा जाएगा।
नौकरियों में हरियाणा के युवाओं को प्राथमिकता मिलेगी। कंप्यूटराÓड सिस्टम लागू किया गया। हाल ही में बिजली निगमों में एसडीओ के पदों के लिए शॉर्ट-लिस्ट किए गए उम्मीदवारों में 80 में से 78 हरियाणा से बाहर के हैं। इसे भी विपक्ष ने

मुद्दा बनाया हुआ है। इस पर सीएम ने कहा है कि सरकारी नौकरियों में हरियाणा के मूल निवासियों को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की भर्ती के लिए तय किए गए शिक्षक पात्रता परीक्षा की तर्ज पर क्लर्क व अन्य पदों के लिए भी टेस्ट का प्रावधान करने पर विचार कर रही है।
संकल्प पत्र में होगा नौकरी देने का रोड मैप

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने स्पष्ट किया कि विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा द्वारा जारी किए जाने वाले संकल्प-पत्र में नौकरियों में स्थानीय युवाओं को प्राथमिकता देने का प्रारुप होगा। यही नहीं, सीएम ने इसके भी संकेत दिए कि राÓय के युवाओं को और अधिक रोजगार के अवसर मुहैया करवाने का विजन भी संकल्प-पत्र में नजर आएगा।

सीएम का दावा, प्रदेश में हैं नाममात्र बेरोजगार
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा ही पांच वर्षों में 70 हजार युवाओं को नौकरी दी जा चुकी है। हरियाणा लोकसेवा आयोग द्वारा इस अवधि में & हजार युवाओं को क्लास-टू और क्लास-1 के पदों पर नियुक्त किया है। सीएम ने कहा, प्राइवेट फैक्टरियों व उद्योगों में राÓय के 4 लाख युवाओं को रोजगार मिला है। एक सवाल पर सीएम ने कहा, पांच वर्षों के कार्यकाल में राÓय में छोटे और बड़े 58 हजार नए उद्योग लगे हैं।

युवाओं को रोजगार मुहैया करवाने के लिए शुरू की गई 'सक्षम युवाÓ योजना के तहत 97 हजार युवाओं ने अप्लाई किया था। इनमें से 82 हजार युवाओं को 100 घंटे काम के बदले रोजगार दिया गया। अभी भी 42 हजार युवा इस योजना के तहत काम कर रहे हैं। सरकार ने पोस्ट ग्रेजुएट युवाओं को 100 घंटे काम के बदले 9000 और ग्रेजुएट युवाओं को 7500 रुपये मासिक वेतनमान देना तय किया। इस योजना का लाभ युवाओं को केवल तीन वर्षों के लिए मिलेगा। इस अवधि में वे अपने लिए स्थायी रोजगार का प्रबंध कर सकते हैं। 82 हजार में से 40 हजार युवा विभिन्न प्रकार की नौकरियों में एडजस्ट हो चुके हैं। सीएम ने कहा, पांच वर्षों में सरकार ने 4&4 रोजगार मेलों का आयोजन किया। इनके जरिये 82 हजार 600 युवाओं को रोजगार हासिल हुआ। एक सवाल के जवाब में सीएम ने कहा, सरकारी रिकार्ड के अनुसार प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की संख्या 80 हजार के करीब है। इन्हें भी बेरोजगार नहीं कहा जा सकता क्योंकि ये किसी न किसी काम में लगे हुए हैं। स्किल यूनिवर्सिटी में ऐसे युवाओं के लिए नए कोर्स शुरू होंगे। अभी तक स्किल इंडिया योजना के तहत प्राइवेट उद्योगपतियों के साथ एमओयू करके 17 हजार ऐसे युवाओं को ट्रेंड किया गया।