स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र आज से, सुनाई देगी इन चुनावी मुद्यों की गूंज

Prateek Saini

Publish: Aug 01, 2019 22:06 PM | Updated: Aug 01, 2019 22:06 PM

Karnal

Haryana Assembly Monsoon session: टुकड़ा-टुकड़ा विपक्ष ने सरकार की घेराबंदी को बनाई रणनीति, कुलदीप ( Kuldeep Bishnoi ) की रेड व हुड्डा ( Bhupinder Singh Hooda ) से ईडी की पूछताछ पर कांग्रेस को चुप करवाने की तैयारी में भाजपा

 

 

(करनाल, संजीव शर्मा): हरियाणा विधानसभा (Haryana Assembly ) का मानसून सत्र आज से शुरू होने जा रहा है। मौजूदा भाजपा सरकार ( Haryana government ) के कार्यकाल का यह अंतिम सत्र होगा। इसके बाद विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। ऐसे में यह सत्र बेहद छोटा लेकिन महत्वपूर्ण होगा। एक तरफ जहां विधानसभा सचिवालय ने सत्र की तैयारियां कर ली हैं वहीं विपक्षी राजनीतिक दलों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए रणनीति तैयार कर ली है। विपक्ष द्वारा राज्य में अवैध खनन, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, राजधानी चंडीगढ़ पर हरियाणा के अधिकार, अलग हाईकोर्ट तथा एसवाईएल जैसे मुद्दे इस सत्र में विपक्ष द्वारा उठाए जाएंगे, ताकि उन पर सरकार द्वारा दिए जाने वाले जवाब को चुनावी मुद्दा बनाया जा सके।


बिखरी विपक्षी पार्टी इनेलो

भले ही निवर्तमान विपक्षी दल इनेलो ( INLD ) बिखराव की तरफ बढ़ रहा है लेकिन अभय चौटाला ( Abhay Chautala ) इस सत्र के दौरान अपने बल पर पार्टी की उपस्थिति दर्ज करवाने का पूरा-पूरा प्रयास करेंगे। हालांकि चौटाला का फोकस पुराने एसवाईएल के मुद्दे पर ही रहेगा लेकिन वह कर्मचारियों व किसानों के मुद्दे उठाकर ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करने का पूरा प्रयास करेंगे। सत्र के दौरान अभय ऐसा कोई मुद्दा उठाने से बचेंगे जिसमें उन्हें साथी विधायकों के समर्थन की जरूरत पड़े, क्योंकि इस समय इनेलो के साथ बैठने वाले चार विधायक जननायक जनता पार्टी के साथ और एक विधायक कांग्रेस के साथ है।


हुड्डा करेंगे समर्थन लेने की कोशिश

टुकड़ों में बंटी कांग्रेस की कमान इस बार सदन में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ( Bhupinder Singh Hooda ) संभाल सकते हैं। अंतिम सत्र के दौरान हुड्डा जहां सदन के भीतर विधायकों के समर्थन हासिल होने का संदेश देने का प्रयास करेंगे वहीं हुड्डा कुछ ऐसे मुद्दे भी उठा सकते हैं जिसमें उन्हें अपने साथी विधायकों का समर्थन मिलेगा। कर्ण दलाल राजधानी चंडीगढ़ का मुद्दा भी उठाएंगे।


दूसरी तरफ सत्तारूढ़ भाजपा ने भी अपनी तैयारी पूरी कर ली है। भाजपा के कुछ विधायक पूर्व में हुए सत्रों की तरह इस बार भी कुछ ऐसे मुद्दे उठाकर अपनी ही सरकार को असहज कर सकते हैं, जिसमें उन्हें विपक्ष का साथ मिलेगा। भाजपा विधायक असीम गोयल एसवाईएल और नरवाना नहर के टूटे किनारों की आज तक मरम्मत नहीं हो पाने का मुद्दा सदन में उठाएंगे। असीम गोयल को अपनी सरकार की घेराबंदी की वजह से विपक्ष के विधायकों का भरपूर साथ मिल सकता है।


कैसे चलेगी सदन की कार्यवाही

हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र आज दोपहर दो बजे बाद शुरू होगा। तीन व चार अगस्त को अवकाश है। पांच अगस्त को फिर से सदन की कार्यवाही दोपहर के समय शुरू होगी। छह अगस्त को डबल सीटिंग किए जाने की संभावना है। जिसमें सरकार द्वारा कई महत्वपूर्ण बिल पास किए जाएंगे।


हरियाणा की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: VIDEO: इसलिए इंद्रेश कुमार ने कांग्रेस पर लगाया प्रज्ञा ठाकुर को परेशान करने का आरोप