स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

क्रमोन्नति का तमगा, लेकिन सुविधाओं का इंतजार

Vinod Sharma

Publish: Sep 11, 2019 12:12 PM | Updated: Sep 11, 2019 12:12 PM

Karauli

गुढ़ाचन्द्रजी.राज्य सरकार ने धवान गांव के (The condition of government school in Karauli is bad) राजकीय सीनियर माध्यमिक विद्यालय को क्रमोन्नति का तमगा तो दे दिया, लेकिन असुविधाओं के चलते विद्यालय की व्यवस्थाएं प्रभावित है।

गुढ़ाचन्द्रजी.राज्य सरकार ने धवान गांव के (The condition of government school in Karauli is bad) राजकीय सीनियर माध्यमिक विद्यालय को क्रमोन्नति का तमगा तो दे दिया, लेकिन असुविधाओं के चलते विद्यालय की व्यवस्थाएं प्रभावित है। विद्यालय में बैठने के लिए न तो पर्याप्त भवन है और ना ही प्रार्थना सभा के लिए जगह। अव्यवस्थाओं के बीच स्कूल का संचालन हो रहा है। मुख्यालय होने के कारण राज्य सरकार ने गत वर्ष माध्यमिक विद्यालय को क्रमोन्नत कर सीनियर माध्यमिक विद्यालय में तब्दील कर दिया। लेकिन विद्यालय में मूलभूत सुविधाओं का टोटा बना है। विद्यालय में १२ कक्षाओं के लिए मात्र ६ कमरे हंै। इनमें से दो कमरे बिल्कु ल क्षतिग्रस्त अवस्था में है। इन कमरों की तो पट्टियां भी टूटकर गिर चुकी है। वही फर्श भी क्षतिग्रस्त अवस्था में है। इस कारण घास सहित खरपतवार उग गई है। वही मलबा भी पड़ा हुआ है। इस कारण विद्यालय स्टाफ चार कमरों में ही सभी कक्षाओं को बिठाते है। वही दो कक्षाओं को तो बाहर चबूतरे पर बिठाते है। अधिकांश कक्षाओं को सम्मिलित कर अध्यापकों को पढ़ाने की मजबूरी बनी हुई है। बारिश आने पर तो छात्रों की छुट्टी कर दी जाती है। विद्यालय में प्रार्थना करने के लिए भी जगह नहीं है। इस कारण बरामदों में छात्रों को प्रार्थना करवानी पड़ती है। विद्यालय में क्षतिग्रस्त कमरे में रसेाईघर चलता है। बारिश के दौरान पोषाहार बनाना मुश्किल भरा है। ग्रामीण राजन मीना ने बताया कि कई बार विभागीय अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी सुध नहीं ली गई है।
अधिकांश पद रिक्त
विद्यालय में करीब एक माह से प्रधानाचार्य का पद रिक्त होने के साथ एक व्याख्याता व दो तृतीय श्रेणी के अध्यापकों सहित लिपिक व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी का पद रिक्त है। जिससे छात्रों की पढाई बाधित हो रही है।
डिब्बों में बंद है कम्प्यूटर
विद्यालय के कार्यवाहक प्रधानाचार्य हरीलाल मीना, अध्यापक जगदीश प्रसाद ने बताया कि विद्यालय में जगह का अभाव होने से बच्चों को कम्प्यूटर शिक्षा नहीं मिल पा रही है। भवन के अभाव में कम्प्यूटर बक्सों में रखे हैं। उनका उपयोग नहीं हो पा रहा। जगह नहीं होने से कम्प्यूटर कक्षाएं नहीं चल रही।