स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रातभर बही भजनों की बयार

Surendra Kumar Chaturvedi

Publish: Sep 11, 2019 20:38 PM | Updated: Sep 11, 2019 20:38 PM

Karauli

गुढाचन्द्रजी. कस्बे में नड़े वाले बालाजी के स्थापना दिवस पर मंगलवार रात को भजन संध्या में गायकों ने रातभर भजनों की प्रस्तुति दी। इस मौके पर राधा-कृष्ण सहित विभिन्न झांकियां सजाई गईं।

गुढाचन्द्रजी. कस्बे में नड़े वाले बालाजी के स्थापना दिवस पर मंगलवार रात को भजन संध्या में गायकों ने रातभर भजनों की प्रस्तुति दी। इस मौके पर राधा-कृष्ण सहित विभिन्न झांकियां सजाई गईं।
बालाजी के स्थापना दिवस पर मंगलवार को मंदिर को पुष्प मालाओं व गुब्बारों आदि से सजाया गया। रात ८ बजे बालाजी की महाआरती की गई। इसके बाद पचमेड़ी धाम के संत रामनिवास दास व समाजसेवी धर्मेन्द्र सिंह गुढ़ा द्वारा सरस्वती मां के चित्र पट्ट के समक्ष दीप प्रज्वलित करने से भजन संध्या की शुरूआत हुई।
कार्यक्रम की शुरूआत में गायक अशोक खंडेला दौसा वाले ने गणेश व सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। गायिका मंजू शर्मा ने मेरे वीर बंजरगी देते सबको सहारा.. तथा प्रेम तंवर ने खूब सजा है दरबार मेरे बाबा का व शिवानी सैनी ने काली कमली वाला मेरा यार है.. आदि भजन प्रस्तुत किए। अलवर के कलाकारों ने रामदरबार, शिव पार्वती, मां काली, भोलेनाथ, कृष्ण-राधा की जीवंत झांकी सजाई। कार्यक्रम में रातभर भजनों की सरिता में श्रोता डुबकी लगाते रहे। सुबह ४ बजे कार्यक्रम के समापन पर प्रसादी वितरण किया गया। इससे पूर्व गायक कलाकर व अतिथियों का प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया।