स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आनंद कुमार की बोगस कंपनियों के जरिए कानपुर सहित कई बड़े शहरों में खरीदी गई जमीनें

Alok Pandey

Publish: Jul 20, 2019 13:44 PM | Updated: Jul 20, 2019 13:44 PM

Kanpur

आयकर विभाग की जांच में हो रहे रोज नए-नए खुलासे
अघोषित कमाई के जरिए जमीन खरीद का खुला मामला

कानपुर। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के भाई आनंद कुमार का बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। आनंद की कई फर्जी कंपनियों के नाम पर कानपुर और लखनऊ समेत कई बड़े शहरों में जमीन की खरीद की गई। यह बात भी सामने आयी है कि जिस रकम से जमीन खरीदी गई उस रकम की आय का कोई श्रोत भी नहीं है। मतलब साफ है कि काले धन से आनंद कुमार ने फर्जी कंपनियों के नाम पर कई एकड़ जमीनी संपत्ति हासिल की है। इस मामले को लेकर कई शहरों में जांच तेज हो गई है।

नोएडा में ४०० करोड़ में जमीन खरीदी
आनंद कुमार ने नोएडा में 400 करोड़ में जमीन खरीदी थी। आयकर की जांच में इन बोगस कंपनियों का पूरा खुलासा हुआ है। आयकर विभाग की बेनामी विंग ने नोएडा सेक्टर-92 में जिस 21 एकड़ जमीन को अटैच किया था, उसकी जांच में पता चला कि 21 एकड़ में 7 एकड़ जमीन विजन टाउन प्लानर्स लिमिटेड के नाम से 400 करोड़ में खरीदी गई। इस रकम का भुगतान कैसे और किस स्रोत से किया गया? इसकी तलाश में अघोषित कमाई की पूरी कड़ी सामने आ गई।

कानपुर समेत कई शहरों में जांच
संपत्ति के बेनामी होने के साथ ही आयकर विभाग के पास सभी संपत्तियों की जांच के रास्ते खुल गए हैं। यूपी वेस्ट में प्रधान आयकर निदेशक जांच अमरेन्द्र कुमार के नेतृत्व में कानपुर, लखनऊ और गाजियाबाद सहित उन सभी शहरों में जांच की प्रक्रिया शुरू की गई है, जहां आनंद कुमार और उनके परिजनों की संपत्तियां हैं। यूपी विंग को भी अलर्ट कर दिया है। आनंद के अलावा एक दर्जन से अधिक अन्य रिश्तेदार अभी भी नोएडा प्राधिकरण में कार्यरत हैं।

नोएडा प्राधिकरण भी घेरे में
आनंद के भूखंड को अटैच करने की कार्रवाई के बाद उसके साथ नोएडा प्राधिकरण में काम कर चुके अधिकारियों पर भी अब सीबीआई की नजर है। प्राधिकरण के अधिकतर विभागों में आनंद प्रकरण को लेकर चर्चा होती रही। नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने इस भूखंड से संबंधित मामले की जानकारी लेने के लिए फाइल मंगाई। सीईओ ने व्यावसायिक विभाग से संबंधित अधिकारियों से इस भूखंड के बारे में पूरी जानकारी ली। अधिकारिक सूत्रों की मानें तो सेक्टर-94 स्थित इस भूखंड को एक अन्य नामी कंपनी को आवंटित किया गया था। इसके बाद यह भूखंड अन्य को बेचा गया। नोएडा प्राधिकरण के नोडल अधिकारी सलिल यादव का कहना है कि इस मामले की फाइल सीईओ ने मंगाई है, इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।

फाइव स्टार होटल बनाना चाहता था आनंद
आयकर विभाग द्वारा आनंद के जिस भूखंड को जब्त किया गया है, आयकर विभाग के अधिकारियों के अनुसार दिल्ली से सटी प्राइम लोकेशन की इस जमीन पर फाइव स्टार होटल बनाया जाना था। इसकी पूरी तैयारी चल रही थी। आयकर विभाग ने मायावती के भाई आनंद कुमार और भाभी विचित्रलता का व्यवसायिक प्लॉट जब्त कर लिया है। आयकर विभाग के मुताबिक, इस प्लॉट को बेनामी संपत्ति माना गया है। नोएडा के सेक्टर 94 में स्थित 7 एकड़ के इस प्लॉट की कीमत करीब 400 करोड़ है।

भाजपा अपने नेताओं पर भी कराए जांच
बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि बसपा और वह खुली किताब हैं। भाजपा कुछ भी कर ले वह घबराने वाली नहीं हैं। भाई आनंद पर हुई कार्रवाई पर मायावती ने कहा है कि भाजपा अपने गिरेबान में भी झांके। भाई आनंद पर हुई कार्रवाई पर उन्होंने कहा है कि भाजपा अपने नेताओं की भी जांच कराए कि राजनीति में आने से पहले क्या थे और अब क्या हैं? आम चुनाव में 2000 करोड़ रुपये से अधिक भाजपा को मिले थे। इस धन का खुलासा करे। उन्होंने कहा है कि भाजपा दलितों और किसानों को परेशान कर रही है।