स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहर के दक्षिण इलाके में युवाओं के सिर चढ़कर बोल रहा प्रेम विवाह का खुमार

Alok Pandey

Publish: Jul 20, 2019 15:08 PM | Updated: Jul 20, 2019 15:08 PM

Kanpur

कानपुर साउथ में इस साल सबसे ज्यादा जोड़ों ने कराया रजिस्ट्रेशन
पुराने कानपुर में लवमैरिज करने वालों का आंकड़ा सबसे नीचे

कानपुर। शहर के प्रेमी जोड़ों में प्रेम विवाह का चलन बढ़ गया है। मैरिज रजिस्ट्रार आफिस के आंकड़ों पर नजर डालें तो इस काम में शहर के दक्षिण इलाके के प्रेमी जोड़े सबसे आगे हैं। कानपुर साउथ में लवमैरिज का ग्राफ तेजी से ऊपर बढ़ा है, जबकि शहर के पुराने हिस्से यानि पुराना कानपुर कहे जाने वाले क्षेत्र से रजिस्ट्रेशन कराने वाले प्रेमी जोड़ों की संख्या सबसे कम है।

इंटरनेट और मोबाइल क्रांति का असर
बदलते दौर में इंटरनेट और मोबाइल क्रांति का जीवन पर भी असर पड़ा है। युवाओं में एक दूसरे से संपर्क करने और आसानी से एक दूसरे से जुडऩे का यह सरल माध्यम बन गया है। घर बैठे ही वीडियो कॉल और चैटिंग के जरिए इनकी मुलाकात होती रहती है और किसी को भनक तक नहीं लगती। कब दोनों एक दूसरे के साथ जीवन भर साथ निभाने के लिए तैयार हो जाते हैं इसका किसी को पता नहीं चल पाता है। मामला तब खुलता है जब वे मैरिज रजिस्ट्रार ऑफिस में आकर प्रेम विवाह कर लेते हैं।

रोजाना ४५ रजिस्ट्रेशन होते
आंकड़ों के मुताबिक रजिस्ट्रार आफिस में रोजाना औसत 45 विवाह के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन होते हैं। इसमें 70 फीसदी लव मैरिज कर आए जोड़ों के होते हैं। इस लिहाज से महानगर में औसतन रोजाना लगभग 20-24 जोड़े जीवन भर साथ निभाने को रजिस्ट्रेशन कराते हैं। लगातार बढ़ रही आबादी के आधार पर मैरिज रजिस्ट्रेशन चार जोन में बंटे शहर के मोहल्लों की चक संख्या (मकान पता) के आधार पर होता है।

पुराने कानपुर के युवा इसमें पीछे
पुराने कानपुर इलाके को जोन एक में गिना जाता है। इसमें सिविल लाइंस, झकरकटी से जाजमऊ तक, हटिया, कलक्टरगंज, जनरलगंज, सीसामऊ, हूलागंज, बिरहानारोड आदि इलाके आते हैं। इन क्षेत्रों से इस साल में अब तक ८१४ युवाओं ने ही मैरिज रजिस्ट्रार आफिस में रजिस्ट्रेशन कराया है। जिनमें कई के विवाह हो चुके हैं।

जोन दो के युवा भी पीछे नहीं
शहर में जोन दो के तहत ऐसे इलाके आते हैं, जहां साधन संपन्न मध्यम वर्गीय परिवार ज्यादा हैं। इस क्षेत्र में सीसामऊ से नंदलाल चौराहा तक, दर्शनपुरवा, गुमटी, कबाड़ी, कमलानगर फजलगंज, बम्बारोड, गोविंदनगर आदि इलाके आते हैं। यहां से अब तक ८३५ रजिस्ट्रेशन कराए जा चुके हैं।

सबसे लंबे क्षेत्र में पे्रम विवाह सबसे ज्यादा
शहर में अफीमकोठी से रमईपुर तक सबसे लंबा क्षेत्र हैं। यह जोन तीन में आता है। इसमें शहर का अधिकांश दक्षिणी इलाका शामिल होता है। यहां के युवा प्रेम विवाह में सबसे अव्वल हैं। इस जोन में किदवईनगर, जूही, नौबस्ता, यशोदा नगर, गोपालनगर, घाटमपुर तक का क्षेत्र शामिल है, जिसमें ग्रामीण आबादी और गरीब वर्ग के लोग भी शामिल हैं। यहां से इस साल अब तक सबसे ज्यादा ९७७ प्रेम विवाह के लिए रजिस्ट्रेशन कराए गए हैँ।

जोन चार में भी लवमैरिज का खुमार
जोन चार के तहत शहर का वह एरिया आता है, जिसमें कई नई बस्तियां भी शामिल हैं। कोचिंग मंडी भी इसी क्षेत्र में आती है। यहां प्रेमी जोड़ों को अक्सर घूमते फिरते देखा जाता है। काकादेव, सर्वोदयनगर, स्वरूपनगर, रावतपुर, काकादेव, गुमटी नंबर नौ, गीतानगर, अशोक नगर से लेकर मंधना तक जोन चार में शामिल है। यहां से भी अब तक ९१३ रजिस्टे्रशन कराए जा चुके हैं।