स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

KANPUR POLICE का “धड़ाधड़ एनकाउंटर“ जारी, डी 121 गैंग के बादशाह को गोली लगी

Vinod Nigam

Publish: Jul 20, 2019 08:01 AM | Updated: Jul 20, 2019 00:15 AM

Kanpur

पशु कारोबारी से लूटे थे 19 लाख 20 हजार रूपए, बिठूर पुलिस ने गंगाबैराज के बाद मुठभेड़ के बाद बदमाश को घायल अवस्था में किया गिरफ्तार।

कानपुर। प्रदेश में अपराध पर लगाम कसनें और अपराधियों को उनके अंजाम तक पहुंचाने के तहत यूपी पुलिस का Uttar Pradesh Police encounter ऑपरेशन क्लीन जारी है। ऐसा ही खुंखार अपराधी व डी-121 गैंग के सदस्य नौशाद उर्फ बिल्लू बादशाह निवासी ढकनापुरवा थाना बाबूपुरवा के साथ हुआ। 19 लाख 20 हजार की लूट का आरोपी पिछले एक सप्ताह से पुलिस को चकमा दे रहा था, लेकिन देररात वो शिकंजे में फंस गया। पुलिस ने सरेंडर करने को कहा तो शातिर तो तोबड़ोताड़ फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली बदमाश के पैर में लग गई और वो जमीन पर गिर गया। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर अस्पताल में एडमिट कराया।

पशु करोबारी को लूटा था
अपराधी नौशाद उर्फ छोटा राजन ने अपने साथियों के साथ पशु कारोबारी के साथ लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर डी-121 के बदमाशों की धड़कपड़ के लिए लगातार दबिश दे रही थी। देररात ब्लू वर्ल्ड तिराहे पर मंधना चौकी इंचार्ज मोहित चौधरी और टिकरा चौकी इंचार्ज अनूप सिंह चेकिंग कर रहे थे। तभी मुखबिर से पशु व्यापारी को लूटने वाले नौशाद उर्फ बिल्लू बादशाह के बाइक से गंगा बैराज हाईवे की तरफ आने की सूचना मिली। वह जैसे ही बिठूर मंधना गंगा बैराज हाईवे तिराहे के पास पहुंचा तो पुलिस ने रुकने को कहा। इस पर बदमाश ने फायर झोंक दिया। जवाबी फायरिंग में पुलिस की एक गोली नौशाद के पैर में लगी।

बरामद हुई लूट की रकम
बिठूर थाना प्रभारी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि नौशाद को पुलिस ने उर्सला अस्पताल में भर्ती कराया है। आरोपी के खिलाफ गैंगस्टर, चोरी, लूट समेत आधा दर्जन मुकदमे हैं। उसके पास से एक लाख पचासी हजार रुपये, 315 बोर का तमंचा, पांच कारतूस व लूट में शामिल नीली कलर की अपाचे मोटर साइकिल बरामद हुई। थाना प्रभारी के मुताबिक नौशाद पहले छोटी-मोटी चोरी की वारदात करता था। जिसे पुलिस ने जेल भी भेजा। जमानत पर आने के बाद अपराधी ने डी-121 गैंग में शामिल हो गया और फिर बड़ी घटनाओं को अंजाम देने लगा।

80 से ज्यादा अपराधी घायल
पिछले दस माह के दौरान ऑपरेशन क्लीन के तहत करीब 80 अपराधी पुलिस की गोली से घायल होकर जेल भेजे गए हैं। पुलिस फाइल में नाम दर्ज करा चुके बड़े से बड़े गैंगस्टरघर से बाहर निकलने से पहले दस बार सोच रहे हैं तो सौ से ज्यादा जमानत कटवा कर जेल चले गए हैं। पर जो अपराध नहीं छोड़ रहे पुलिस उन्हें लंगड़ा कर लाठी पकड़ा रही है। एनकाउंटर स्पॉट पर खुद एडीजी प्रेमप्रकाश और एसएसपी अनंत देव तिवारी जाते हैं और पुलिस की पीट थप-थपाते हैं।