स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इत्रनगरी में भक्ति पर भारी दिखी देशभक्ति, कांवरियों ने पेश की एक अलग मिशाल

Ruchi Sharma

Publish: Aug 03, 2019 10:41 AM | Updated: Aug 03, 2019 10:41 AM

Kannauj

इत्रनगरी में भक्ति पर भारी दिखी देशभक्ति, काँवरियों ने पेश की एक अलग मिशाल

कन्नौज. जनपद के बिलग्राम से आए हजारों कांवड़िये ने सिद्धपीठ बाबा गौरी शंकर मंदिर पहुंचकर जलाभिषेक किया। इत्रनगरी के लोगों ने कांवड़िये के लिए विशाल भंडारे का आयोजन कर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। किसी ने फूलों की बारिश से कांवड़िये ने रिझाया तो किसी ने शर्बत पिलाकर खूब दुआएं बिटोरी। इस बीच भक्ति पर देश भक्ति उस समय भारी नजर आई जब हजारों की संख्या में भोले के दर्शन करने पहुंचे काँवड़ियों के हाथ में कावड़ की जगह 110 फीट का तिरंगा नजर आया ।


दूर दराज से आये हजारों कांवरिये

बताते चले कि हर साल शहर के सिद्धपीठ बाबा गौरीशंकर मंदिर में हजारों श्रद्धालु पूजा-अर्चना के लिए आते हैं। श्रद्धालुओं के लिए यह मंदिर आस्था का केन्द्र है। खासकर सावन के महीने में हर दिन यहां मेला लगता है। इसी कड़ी में शुक्रवार को बड़ी संख्या में कांवरियां इत्रनगरी पहुंचे। जीटी रोड पर लगे स्टॉलों के अलावा सरायमीरा-कन्नौज रोड स्थित बोर्डिंग खेल मैदान पर बाबा गौरी शंकर कांवड़िये सेवा मंदिर की ओर से कांवड़िये के लिए विशाल भंडारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम में दूरदराज से बाबा के दर्शनों के लिए आए हजारों कांवड़िये ने हिस्सा लिया। कांवड़िये की भीड़ से इत्रनगरी की सड़कें व गलियां केसरिया रंग से सराबोर हो गई।

भक्ति पर भारी देशभक्ति

हर साल की भांति ही इस साल भी हरदोई के बिलग्राम से हजारों कांवरिया बाबा गौरी शंकर के दर्शन करने के लिए कन्नोज पहुंचे । तिरंगे की झांकी के साथ 110 फीट का तिरंगा लिए हजारों कांवरिये जब शहर से गुजरे तो एक अलग नजारा ही दिखाई पड़ा । इस बीच देश भक्ति के गीतो में सराबोर होते हुए इन कांवरिया ने पाकिस्तान मुर्दाबाद की नारे भी लगाए इनके देशभक्ति के जज्बे की शहर में इनकी खूब चर्चा हुई ।

 

पुरातन काल से चली आ रही परंपरा

पुरातन काल से चली आ रही परंपरा समिति के सदस्य बृजकिशोर वैश्य ने बताया कि यह परंपरा पुरातन काल से चली आ रही है। राजाओं के समय में भी दूसरे राज्यों से हजारों कांवड़िये पैदल आकर बाबा गौरीशंकर का जलाभिषेक करते थे। यह परंपरा आज भी जीवंत है। अंतर केवल इतना है कि अब पैदल आने वाले कांवड़ियों की संख्या कम ही रह गई है।

 

चरण धोकर किया गया स्वागत

इत्र और ऐतिहासिक नगरी पहुंचे हजारों का कांवड़ियों का योगी सेना के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने कांवड़ियों के चरण धोकर उनका भव्य स्वागत किया। शहर के बोर्डिंग मैदान पहुंचे कांवड़ियों का शहर के लोगों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।