स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मोबाइल किसानों को सिखाएगा खेतीबाड़ी, मौसम की जानकारी के साथ मिट्टी जांचेगा

Alok Pandey

Publish: Jul 14, 2019 13:50 PM | Updated: Jul 14, 2019 13:50 PM

Kannauj

आईआईटी के छात्रों ने किसानों के लिए बनाया नया मोबाइल एप
एप को आईआईटी में दिया गया समर ऑफ कोड पुरस्कार

कानपुर। आईआईटी कानपुर के छात्रों ने एक ऐसा मोबाइल एप तैयार किया है, जिससे किसानों को खेतीबाड़ी की पूरी जानकारी मिलेगी। इससे न केवल आपको मौसम की जानकारी मिलेगी, बल्कि आप यह भी जान सकेंगे कि कब, किस फसल की कैसे खेती कर सकते हैं। यही एप मिट्टी की जांच आसानी से कर सकेगा।

एप को मिला पुरस्कार
इस एप को आईआईटी कानपुर में दो माह से चल रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम समर ऑफ कोड में पहला पुरस्कार मिला। एप बनाने वाली टीम का नाम टेक ऐट फार्म है। टीम में ईशान मिश्रा, यशवर्धन रायजादा, दिव्यज्योती सिन्हा, आदित्य दीक्षित, शुभम गुप्तांद रहे। इन्हें यशार्थ वाजपेयी ने मेंटरशिप प्रदान की। यशार्थ ने बताया कि यह एप किसानों का प्रोफाइल तैयार कर सकती है। तब उन्हें पूर्वानुमान के तहत सारी जानकारी उपलब्ध कराएगी।

स्टार्टअप को मिलेगी मदद
मुख्य अतिथि प्रो. बीवी फणी ने छात्रों को बधाई देते हुए कहा कि अगर आप सभी अच्छे से मेहनत करें तो इस प्रोजेक्ट को अगले एक साल में बेहतर स्टार्टअप के रूप में स्थापित कर सकते हैं। इसके लिए संस्थान आपकी मदद करेगा। इस दौरान प्रो. नीशीथ श्रीवास्तव, प्रो. देबदत्ता मिश्रा और प्रो. नितिन सक्सेना ने निर्णायक की भूमिका निभाई।

ऑनलाइन खर्चे का हिसाब रखेगा माय मनी एप
इस दौरान यह एक ऐसा एप पेश किया गया जो यूपीआई, पेटीएम सहित अन्य ऑनलाइन ट्रांजेक्शन एप का पूरा हिसाब एक जगह सहेजकर रखने का काम करेगा। इसका नाम है माय मनी एप। इस एप से आप ऑनलाइन खरीदारी या ट्रांजेक्शन करते हैं, तो यह एप आपको प्रतिदिन, साप्ताहिक और मासिक हिसाब बता देगा। इस एप के जरिए आप यह जान सकेंगे कि किस दिन आपने कितना और कहां खर्च किया था। इसे विक्रांत मलिक, दिव्यांशु भारद्वाज, मानस अग्रवाल, अमन मित्तल, दर्श शर्मा ने बनाया है। इन छात्रों को तनमय यादव ने मेंटरशिप प्रदान की।

मरीज का पूरा रिकार्ड होना ऑनलाइन
इस दौरान हेल्थ बडी प्रोजेक्ट भी प्रस्तुत किया गया। यह एक ऐसा ऑनलाइन प्रोजेक्ट है, जो अस्पताल की पूरी प्रक्रिया को कागजों से मुक्ति दिला देगी। यशार्थ वाजपेयी ने इन्हें मेंटरशिप प्रदान की। यशार्थ ने बताया कि इस एप में किसी भी मरीज का पूरा रिकॉर्ड होगा। मतलब उसे क्या-क्या बीमारी है, उसके सभी चेकअप रिपोर्ट, उसे क्या दवाएं दी जा रही हैं और क्या डॉक्टर ने प्रिस्क्राइब्ड की है, डॉक्टर का अप्वाइनमेंट, अस्पताल का खर्चा आदि सबकुछ ऑनलाइन होगा।