स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ओडिशा से आ रही ट्रक पर हुआ शक, जब ली तलाशी तो निकला इतना गांजा देखते ही दंग रह गई पुलिस

Akanksha Agrawal

Publish: Jul 19, 2019 12:20 PM | Updated: Jul 19, 2019 12:20 PM

Kanker

ओडिशा गांजा तस्करी करते दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गांजा की कीमत लगभग 35 लाख और ट्रक 15 लाख रुपए का बताया जा रहा है।

कांकेर. कोतवाली पुलिस को बीती रात बड़ी सफलता मिली, ओडिशा (Odisha to Prayagraj) से इलाहाबाद के लिए 350 किलो गांजा तस्करी (350 kilo ganja Trafficking) करते दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। बरामद गांजा (Police Recovered Hemp) की कीमत लगभग 35 लाख और ट्रक 15 लाख रुपए का बताया जा रहा है। ट्रक की केबिन और डाला से सटी 60 सेमी चौड़ी डिक्की में गांजा रखा गया था। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने घेराबंदी कर ट्रक को पकड़ा तो 17 बोरियों में गांजा बरामद हो गया।

पुलिस को बीती रात मुखबिर से सूचना मिली कि ट्रक क्रमांक यूपी 63-टी 0642 से बड़ी मात्रा में गांजा की तस्करी की जा रही है। गांजा की तस्करी ओडिशा से इलाहाबाद के लिए हो रही है। उक्त सूचना के आधार पर कोतवाली पुलिस अलर्ट हो गई।

ट्रक जैसे ही नगर के अंदर प्रवेश किया वैसे पुलिस पीछे लग गई। पुलिस टीम पुराना कम्युनिटी हाल काली मंदिर के पास नाकेबंदी कर ट्रक रोककर आरोपी हरिशंकर पटेल (41) पिता चंन्द्रमा प्रसाद निवासी ग्राम बिकापुर वाराणसी उत्तर प्रदेश और लाल प्रताप पटेल (40) पिता नंदलाल ग्राम पचौरा वाराणसी उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने खाली ट्रक की तलाशी ली तो कुछ देर के लिए सोच में पड़ गई, आखिर इसमें गांजा की तस्करी कैसे होगी।

पुलिस टीम केबिन एवं ढाला को चेक किया तो पहले कुछ नहीं मिला। कांकेर टीआई ने केबिन के ऊपर के भाग को बारिकी से देखने के लिए कहा तो कुछ संदेह हुआ। ऊपर 60 सेमी चौड़ी डिक्की बनी हुई थी। डिक्की को खोला तो उसमें बोरियां रखी दिखीं। पुलिस टीम ने जब एक बोरी को बाहर निकाला तो गांजा होने की पुष्टि हो गई। पुलिस टीम ने इससे पहले ट्रक चालक और कंडक्टर को दबोच चुकी थी। ट्रक से 17 बोरी गांजा बरामद किया गया है। पुलिस ने तौल कराया तो 350 किलो गांजा मिला। बरामद गांजा की कीमत 35 लाख रुपए और ट्रक 15 लाख का है।

एएसपी कीर्तन राठौर ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस की अलग से टीम बनाकर जगदलपुर, कोंडागांव, धमतरी जैसे जगहों पर मुस्तैद थी। जैसे ही हमें सूचना मिली कि गांजा तस्करी की जा रही है। थाना प्रभारी अमर केमरो, संदीप बंजारे, आरक्षक ओमप्रकाश, शक्तिसिंग, यशवंत सिंग ने नाकेबंदी की ट्रक की तलाशी ली तो लाखों का गांजा बरामद किया गया। एनडीपीएस एक्ट के तहत अपराध दर्ज आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया जहां से जेल भेजा गया।

CGNews

10-10 हजार में ट्रक पार करने की थी करार
आरोपियों ने पुलिस को बताया कि किशुनपुर इलाहाबाद से राजीव जायसवाल और विकास ने हमें खाली ट्रक जगदलपुर जाने के लिए बोला था। वहां से आलू भरकर वापस आने के लिए कहा था। 10-10 हजार रुपए आने जाने पर मेहनताना देने बोले थे। हम दोनों 11-12 जुलाई को जगदलपुर पहुंचे, वहां से ट्रक को कोई तीसरे चालक को दे दिया, वह ओडिशा लेकर चला गया था। हम जगदलपुर के एक ढाबा में रूके थे। फोन के माध्यम से हमें सूचना मिली कि ओडिशा से ट्रक आ रहा है। आलू नहीं लोड हो पाया है। खाली ट्रक लेकर वापस जाना है। ओडिशा से ट्रक जगदलपुर आया तो हम दोनों ट्रक लेकर इलाहाबाद के लिए जा रहे हैं। ट्रक में गांजा रखा गया था नहीं हमें नहीं पता था।

chhattisgarh crime News की खबर यहां बस एक क्लिक में

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें