स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खुशखबरी: 25 हजार किसानों के अकाउंट में जल्द पहुंचेगा पांच करोड़

Ashish Gupta

Publish: Jul 15, 2019 19:46 PM | Updated: Jul 15, 2019 19:53 PM

Kanker

PM KISAN scheme: किसान समृद्धि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) के तहत छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के 25 हजार किसानों के खातों में पहुंचेगा 5 करोड़।

कांकेर. केंद्र की पहल (PM KISAN scheme) पर छह माह की उठापठक के बाद किसान समृद्धि योजना (kisan samriddhi yojana) के तहत छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के 17 हजार किसानों के खातों में 3.44 करोड़ की पहली खेप और 8 हजार किसानों के खातों में 1.63 करोड़ की दूसरी खेप आ चुकी है। राजस्व विभाग की अनदेखी एक लाख से अधिक किसानों का पंजीयन नहीं होने से अनुदान की राशि पर ब्रेक लगा है। केंद्र की पहल पर करीब 25 हजार से अधिक किसानों के खाते में पांच करोड़ से अधिक अनुदान की राशि आने पर किसानों ने राहत की सांस ली है।

लोकसभा चुनाव से पहले किसान मतदाताओं पर डोरा डालने केंद्र सरकार ने प्रति चार-चार माह में दो-दो हजार रुपए अनुदान देने की घोषण की थी। चुनाव से पहले सभी किसानों का आनलाइन पंजीयन किया जाना अनिवार्य था। राजस्व विभाग की ओर से सभी पटवारियों और तहसीलदारों को आनलाइन पंजीयन के इस अभियान में लगा दिया गया था। लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद पंजीयन की प्रक्रिया पर ब्रेक लग गया।

रेल यात्रियों के अच्छी खबर: अब इस तरीके से आपको मिलेगी कन्फर्म टिकट

लोस चुनाव से पहले जिले में 43 हजार किसानों का आनलाइन पंजीयन की प्रक्रिया पूरी हुई थी। चुनाव की घोषणा होते ही अनुदान वितरण रोग दिया गया। चुनाव से पहले केंद्र सरकार ने यह अनुदान राशि 5 एकड़ तक भूमि वाले किसानों को पात्र माना था। चुनाव के बाद केंद्र सरकार ने पांच एकड़ की बाध्यता को समाप्त कर सभी कृषकों को साल में 6-6 हजार देने की घोषण कर दी।

राजस्व विभाग की ओर से मिले आंकड़ों पर गौर करें तो जिले में अभी तक 52 हजार किसानों के खातों का आनलाइन पंजीयन कराया गया है। करीब 6 माह की उठापठक के बाद कांकेर जिले में आनलाइन पंजीकृत 17,211 किसानों के खाते में 3 करोड़ 44 लाख 22 हजार के अनुदान की पहली खेप हितग्राहियों के खातों में पहुंच चुका है।

पैंट-शर्ट पहनकर खेतों में जुताई करने वाला शख्स किसान नहीं, निकला IAS अफसर

वहीं दूसरी खेप की राशि 8,170 किसानों के बैंक खातों में एक करोड़ 63 लाख 34 हजार रुपए पहुंच जाने का दावा किया जा रहा है। यानी आनलाइन पंजीयन के बाद भी 27 हजार 345 किसानों के खातों में फूटी कौड़ी नहीं पहुंची है। पत्रिका टीम ने पड़ताल किया तो किसान नेता केशरीचंद जैन ने कहा कि केंद्र सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले सभी किसानों के बैंक खाता में 2-2 हजार देने दावा किया था।

शासन-प्रशासन की ठीली प्रक्रिया के चलते अभी तक तो सभी किसानों का पंजीयन तक नहीं हो पाया है। ऐसे में सभी को लाभ मिलना कहां तक संभव होगा। जैन ने कहा चुनावी मौसम में तो हर दल बड़ा-बड़ा दावा करता है। चुनाव के बाद हितग्राहियों को मिलने वाले अनुदान प्रक्रिया में जानबूझकर लेट किया जाता है।

इस IPS अफसर ने डीजे की धुन पर किया गजब का डांस, देखिए वीडियो

कांकेर के गणना के आधार पर 2,19,027 किसान
कांकेर और रायपुर राजस्व भू अभिलेख शाखा के रिकार्ड पर गौर करें तो किसानों की संख्या में बड़ा अंतर दिखाई दे रहा है। कांकेर शाखा से किसानों की संख्या दो लाख 19 हजार 27 बताई जा रही तो वहीं रायपुर भू-अभिलेख शाखा के रिकार्ड के अनुसार एक लाख 33 हजार 703 किसान हैं। अब ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा कि एक ही विभाग की दो शाखाओं में 80 हजार से अधिक किसानों की संख्या में अंतर भू अभिलेख विभाग के जिम्मेदारों को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है।

रायपुर भू अभिलेख शाखा का दावा कांकेर में 1,33,703 किसान, अभी तक 52 हजार पंजीकृत
राजस्व विभाग भू अभिलेख शाखा रायपुर के गणना पर गौर करें तो कांकेर जिले में एक लाख 33 हजार 703 किसान को किसान समृद्धि योजना में लाभ मिलेगा। ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा कि अभी तक 80 हजार 977 किसानों का पंजीयन तक नहीं हो पाया है। राजस्व विभाग की अनदेखी के चलते किसान समृद्धि योजना के अनुदान पर ग्रहण लगा है। 6 माह से राजस्व विभाग किसानों का आनलाइन पंजीयन कर रहा है फिर हजारों किसानों का रिकार्ड आनलाइन नहीं हो पाया है।

PM KISAN scheme से जुड़ी खबरें यहां पढ़िए

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर या Download करें patrika Hindi News App.