स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खींच मेरी फोटो पिया...देखो, हम एक सी हैं ना

Sikander Pareek

Publish: Aug 19, 2019 22:52 PM | Updated: Aug 19, 2019 22:52 PM

Jodhpur

पहनावा और बोली भले ही अलग-अलग हैं, लेकिन शक्ति का रूप तो एक ही है

जोधपुर। जोधपुर में भ्रमण के लिए पहुंची विदेशी मेम ने जब यहां की महिलाओं को देखा तो उनके साथ फोटो खिंचवाने की इच्छा जताई। पहले दोनों ने साथ में फोटो ली और बाद में पति को मोबाइल देकर यहां की महिलाओं के साथ फोटो खिंचवाया। इशारों से यह जताने का प्रयास भी किया कि मैं भी इनके जैसी ही हूं ना। पहनावा और बोली भले ही अलग-अलग हैं, लेकिन शक्ति का रूप तो एक ही है। असल में इस फोटो में यह संदेश भी है कि महिलाएं चाहे भारतीय हो या फिर विदेशी, इनके मान से ही देश का अभिमान है। इनका सम्मान जरूरी है। अब इस फोटो में भी देख लीजिए कि हाव-भाव, बोली से लेकर पहनावा, सब कुछ अलग है, लेकिन अंदर से यह भाव तो समान है ही कि हम सभी नारी हैं। कोमल हैं लेकिन कमजोर नहीं। उल्लेखनीय है कि जोधपुर के घंटाघर क्षेत्र में इन दिनों पर्यटकों की खूब रेलमपेल हैं। घंटाघर में कई विदेशी महिलाएं साड़ी भी खरीदती हैं। दुकानदार महिलाएं पहले इन्हें साड़ी पहनना सिखाती है और बाद में मैंचिंग के अनुसार विदेशी महिलाएं यहां से साड़ी खरीदती हैं। इस दरम्यिान फोटो सेशन खूब चलता है।