स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जहां पहले था डंपिंग स्टेशन, अब बन गया सेल्फी पॉइंट

Arvind Singh Rajpurohit

Publish: Sep 16, 2019 20:33 PM | Updated: Sep 16, 2019 20:33 PM

Jodhpur

- प्रशिता ने श्रम रूपी चित्रकारी से बदली पार्क के दीवारों की तस्वीर
-अब बच्चे से लेकर बड़े तक आ रहे सेल्फी लेने

जोधपुर. 'कुछ किए बिना ही जय-जय कार नहीं होती ओर कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।Ó कुछ ऐसा ही प्राइडफुल वर्क कर दिखाया है मधुबन हाउसिंग बोर्ड क्षेत्र के सेक्टर चार में रहने वाली होनहार बेटी प्रशिता सारस्वत ने। जिसने अपने टैलेंट के दम पर डंपिंग स्टेशन बन चुकी पार्क की दीवार को न सिर्फ संवारा बल्कि आकर्षक पेंटिंग्स के जरिए दीवार की तस्वीर ही बदलकर रख दी। इतना ही नहीं पहले जिस पार्क की दीवारों के आस-पास डंपिंग स्टेशन सा नजर आता था। गंदगी बदबू से लोग मुंह ढक कर निकलते थे। आज उसी पार्क की दीवारों के पास लोग सेल्फी लेने के लिए आ रहे हैं। पार्क की दीवारों पर स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण सरीखे स्लोग्न उकेरे गए हैं। अब पार्क की सुंदर दीवारों को देखकर हर कोई प्रशिता की मेहनत को दिल खोलकर शाबाशी दे रहा है।

स्वच्छ भारत कैंपेन से मिली प्रेरणा

प्रशिता ने बताया कि वो पीएम मोदी के 'स्वच्छ भारतÓ अभियान से प्रभावित हुई। जागरुकता के अभाव में पढ़े लिखे लोग भी पार्क की दीवारों के सहारे कचरा डम्प करके चले जाते थे। इसके चलते पार्क के आस-पास रहने वाले लोगों को काफी परेशानी हो रही थी। कई बार समझाने के बाद भी लोग कचरा डाल कर चले जाते थे। पार्क को संवारने के लिए अटल उद्यान विकास समिति का गठन स्थानीय पार्षद रेंवत सिंह इंदा के नेतृत्व में किया गया था। जिन्हें मैंने लोगों को जागरुक करने व स्वच्छता के प्रति संदेश देने के लिए अपने आइडिया के बारे में बताया ओर सभी की सहमति से पार्क की दीवारों को संवारने का कार्य शुरु किया।

कॉलेज व कोचिंग के बीच निकाला टाइम
प्रशिता ने बताया कि इस पेंटिंग्स को बनाने में ओवरऑल 63 घंटे लगे। स्वतंत्रता दिवस के दिन ही मैंने कुछ अलग करने का निश्चय किया था। इसलिए कॉलेज व कोचिंग स्टडी के बीच टाइम निकालकर पार्क की दीवारों को पेंट करने का कार्य शुरू किया। प्रतिदिन घंटों दीवारों को संवारने का कार्य करती थी। इस पर लगभग दो हजार रुपए का खर्च आया। अब खुशी है कि लोग दीवारों पर कचरा नहीं फैंकते बल्कि सेल्फी लेते हैं। प्रशिता ने बताया कि वो पीएम के जन्मदिन पर कुछ अलग हटकर करना चाहती थी। मेरी तरफ से उनके लिए इससे बेहतर गिफ्ट कोई और नहीं हो सकता।