स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कक्षा में प्रचार से रोका, न्यू कैंपस गेट बंद किया

Gajendra Singh Dahiya

Publish: Aug 19, 2019 23:59 PM | Updated: Aug 19, 2019 18:51 PM

Jodhpur

jnvu news
- जेएनवीयू छात्रसंघ चुनाव: ओल्ड केंपस और न्यू कैंपस में विभिन्न छात्र संगठन एक दूसरे की आवाजाही कर रहे हैं बंद
- पुलिस के साथ प्रचार करेंगे कई प्रत्याशी

जोधपुर. जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय (jnvu) के पुराना परिसर (old campus) और नया परिसर (news campus) में कुछ छात्र संगठन अन्य छात्र संगठन व उनके समर्थकों के घुसने पर मनमर्जी की रोक लगा रहे हैं। नया परिसर में एमएससी की कक्षा में प्रचार कर रहे एसएफआई अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अजय सिंह टाक को सोमवार दोपहर को अन्य छात्र संगठन के प्रत्याशियों ने रोक दिया। भारी हंगामे के बीच अजय सिंह को बाहर आना पड़ा। इसके बाद उनके समर्थकों ने नया परिसर का मुख्य दरवाजा बंद कर विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस की समझाइश के बाद दरवाजा खोला गया। अब कुछ प्रत्याशी पुलिस सहायता के साथ मंगलवार को प्रचार करेंगे।


पिछले सप्ताह एबीवीपी, एनएसयूआई और एसएफआई की ओर से टिकट के बंटवारे के बाद कई छात्र नेता नाराज हो गए। एबीवीपी प्रत्याशी त्रिवेंद्र पाल सिंह की गाडिय़ों पर दो बार हमला करके कांच फोड़ दिए गए। उनको पुराना परिसर में नहीं घुसने की धमकी दी गई। इसके बाद सोमवार को पुराना परिसर के मुख्य द्वार पर भारी संख्या में पुलिस तैनात की गई। पुलिस ने सभी विद्यार्थियों के आईडी कार्ड जांच करने के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया। किसी अनहोनी की आशंका में पुलिस दिन भर वहां रही, लेकिन नया परिसर में उतना जाप्ता नहीं होने के कारण हल्की-फुल्की झड़प देखने को मिली। अजय सिंह टाक ने अपने समर्थकों के साथ विज्ञान संकाय में चुनाव प्रचार किया और कक्षा में वोट देने की अपील कर रहे थे तब दूसरे छात्र संगठन के समर्थक आ गए और वह हल्ला करने लगे। हुड़दंगियों ने अजय और उसके समर्थकों को बाहर निकलने पर मजबूर कर दिया और नया परिसर में नहीं आने की चेतावनी दी। निवर्तमान महासचिव बबलू सोलंकी के नेतृत्व में टाक व उसके समर्थकों ने नया परिसर का मुख्य दरवाजा बंद कर प्रदर्शन किया। शास्त्री नगर पुलिस थाने के थानाधिकारी रमेश शर्मा ने मौके पर पहुंचकर समझाइश की और अगली बार पुलिस सहायता देने का आश्वासन दिया।