स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डीजीपी के आदेश ताक पर रख बजरी डम्पर से वसूली में लिप्त है पुलिस, वीडियो हो रहा है वायरल

Harshwardhan Singh Bhati

Publish: Sep 23, 2019 09:42 AM | Updated: Sep 23, 2019 09:42 AM

Jodhpur

पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र यादव ने भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए पुलिस को खनिज विभाग अथवा सक्षम विभागीय अधिकारियों के साथ ही बजरी से भरे डम्पर रोकने और कार्रवाई करने के निर्देश दे रखें हैं, लेकिन जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस अब भी कथित तौर पर डम्पर चालकों से वसूली में लिप्त है।

जोधपुर. पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र यादव ने भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए पुलिस को खनिज विभाग अथवा सक्षम विभागीय अधिकारियों के साथ ही बजरी से भरे डम्पर रोकने और कार्रवाई करने के निर्देश दे रखें हैं, लेकिन जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस अब भी कथित तौर पर डम्पर चालकों से वसूली में लिप्त है। सांगरिया फांटा के पास पुलिस की हाइवे मोबाइल-2 का एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें पुलिस की हाइवे मोबाइल-2 बजरी के एक डम्पर चालक से अवैध वसूली करते नजर आ रहे हैं।

हाइवे-2 मोबाइल का यह वीडियो शनिवार का बताया जाता है। सांगरिया फांटा से कुछ आगे हाइवे-2 मोबाइल ने बजरी के एक डम्पर को रुकवाया। सडक़ के दूसरी तरफ डम्पर खड़ा कर चालक ने हाइवे-2 मोबाइल के पास पहुंचकर पेंट की जेब से पर्स निकाला और उसमें से रुपए निकाले और बोलेरो में बीच वाली सीट पर मौजूद पुलिसकर्मी को कथित नोट थमाया और फिर निकल गया। तभी हाइवे-2 के चालक ने बोलेरो स्टार्ट कर रवाना कर दी। हाइवे-2 में एक एएसआइ, एक कांस्टेबल व चालक सवार थे।

इस संबंध में पुलिस कमिश्नर प्रफुल्ल कुमार का कहना है कि पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) को वीडियो में नजर आ रहे पुलिसकर्मियों का पता लगाकर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। गौरतलब है कि बजरी डम्पर मालिक से रिश्वत व बंधी लेने के मामले में बासनी थाने में उप निरीक्षक गजेन्द्रसिंह बीस हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ा गया था। मौके से फरार हेड कांस्टेबल तेजाराम मेघवाल ने कोर्ट में समर्पण किया था।