स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाहर की चकाचौंध के बीच, अंदर की हकीकत झांक रही

Avinash Kewaliya

Publish: Sep 11, 2019 23:55 PM | Updated: Sep 11, 2019 21:13 PM

Jodhpur

- इ-ऑक्शन में जोधपुर के कई मकान-फ्लैट्स शामिल

- आवासन आयुक्त भी इ-ऑक्शन प्रक्रिया देखने आए जोधपुर

 

जोधपुर.
राजस्थान आवासन मंडल इ-ऑक्शन प्रक्रिया में 25 से लेकर 50 प्रतिशत की रियायत देकर आवास व फ्लैट बेचने की तैयारी कर चुका है। यह प्रक्रिया ऑनलाइन शुरू हो चुकी है। इसी का जायजा लेने आवासन आयुक्त पवन अरोड़ा के साथ कई अधिकारी जयपुर से आए। कार्यालय में बैठक ली और ऑक्शन प्रक्रिया की पूरी जानकारी ली। लेकिन इनके कार्यालय से चंद कदम दूर वह कॉलोनी जिसमें आवास बेचने के लिए सबसे ज्यादा चमकाया गया है पत्रिका ने उसकी हकीकत देखी को कई पोल सामने आई।

सेक्टर आठ की गोकुल धाम कॉलोनी। यहां कई आवासों में लोग निवास कर रहे हैं। लेकिन 100 से ज्यादा आवास 2 बीएचके है। कॉलोनी का स्वरूप बाहर से बहुत की आकर्षक है। पिछले चार-पांच माह से यहां रंगरोगन का कार्य करवाया जा रहा है। सरकारी कॉलोनी पर सुरक्षा गार्ड, गार्डन जैसी कई व्यवस्थाएं बेहतरीन लगी। शायद यह दृश्य किसी को भी यहां मकान लेकर निवास करने के लिए प्रेरित कर सकता है। लेकिन जैसे ही हम खाली मकानों में गए अलग हकीकत सामने आई। खाली मकानों में शराब की बिखरी बोतलें। कई दीवारों से प्लास्टर गिरा हुआ। शौचालयों की बदहाली तो कहीं बिजली बोर्ड ही टूटे पड़े थे। ऐसी हकीकत शायद ऑक्शन में हिस्सा लेने वालों के सामने नहीं रखी गई। बाहर से चकाचौंध दिखा कर अंदर की हकीकत को ढकने के प्रयास किए गए। यह हालात उस कॉलोनी के है जिसे हाउसिंग बोर्ड सबसे बेहतरीन बताता है।

कहां कितने हैं फ्लैट व आवास
कुड़ी भगतासनी में - 252

चौपासनी योजना में - 12
विवेक विहार योजना के समीप - 1235 आवास व फ्लैट्स

------

किया निरीक्षण

आयुक्त अरोड़ा ने ऑक्शन स्थल का निरीक्षण किया। कुड़ी में आवासों का निरीक्षण किया। इसके बाद चौपासनी कार्यालय भी देखा। अरोड़ा ने केरू और बड़ली की प्रस्तावित योजना की जमीन का भी निरीक्षण किया। मुख्य अभियंता जी.एस बाघेला, अतिरिक्त मुख्य अभियंता द्वितीय एम.सी उपाध्याय, उपायुक्त के.एस चौधरी व उपायुक्त नरेन्द्र बोहरा भी उनके साथ रहे।