स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शादीशुदा प्रेमिका के चक्कर में युवक की हत्या कर मोटरसाइकिल से झुंझुनूं से यूपी पहुंच गया आरोपी

rajesh sharma

Publish: Jul 19, 2019 17:28 PM | Updated: Jul 19, 2019 17:28 PM

Jhunjhunu

खास बात यह है कि आरोपी हत्या के बाद मोटरसाइकिल से झुंझुनंू से यूपी स्थित अपने गांव पहुंच गया। मोटरसाइकिल बिना नंबर की थी, फिर किसी ने करीब सवा तीन सौ किलोमीटर तक नहीं पकड़ा।

 

jhunjhunu news
झुंझुनूं. प्रेम संबंधों में रोडा बनने के कारण बाकरा रोड निवासी विक्रम उर्फ होशियार (35) की हत्या उसके पड़ौस में रहने वाले दोस्त जगतपुर अलीगढ़ (यूपी) निवासी 21 साल के अजीत बंजारा ने की थी।आरोपित की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस ने पांच दिन पहले पुरोहितो की ढाणी इण्डाली रोड पर हुए विक्रम सिंह हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। खास बात यह है कि आरोपी हत्या के बाद मोटरसाइकिल से झुंझुनंू से यूपी स्थित अपने गांव पहुंच गया। मोटरसाइकिल बिना नंबर की थी, फिर किसी ने करीब सवा तीन सौ किलोमीटर तक नहीं पकड़ा।
पुलिस अधीक्षक गौरव यादव ने बताया कि आरोपित रेहड़ी लगाकर बर्तन बेचने का काम करता है। विक्रम के मकान के निकट ही तीन-चार साल से किराए का मकान लेकर रहने से दोनों में दोस्ती हो गई।ऐसे में उसका घर में आना-जाना शुरू हो गया।इस दौरान आरोपित के एक महिला जो कि उम्र में उससे करीब दस साल बड़ी है से अजीत के प्रेम संबंध स्थापित हो गए। पुलिस ने आरोपित को कोर्ट में पेशकर 24 जुलाई तक रिमांड पर लिया है।
हत्या के बाद महिला से बात
हत्या करने के बाद आरोपित ने महिला से बात की थी, यूपी जाने के बाद भी विक्रम के परिवार की महिला से बात करने का प्रयास किया।लेकिन फोन स्वीच ऑफ होने बात नहीं हो पाई।
चारों की भूमिका नहीं
मामले को लेकर परिजनों की ओर से चार अन्य पर हत्या का शक जाहिर किया था।लेकिन पुलिस ने बताया कि अनुसंधान में प्रारम्भिक तौर पर चारों के किसी भी तरह शामिल होने की बात सामने नहीं आई है। इस संबंध में खाजपुर पुराना के ओमवीर व हरिसिंह तथा कुलोद खुर्द के मुकेश व हेजमपुरा के कैलाश के खिलाफ भी आरोप लगाया था। रुपए खत्म होने पर आया था घर हत्या के बाद अजीत बंजारा को पुलिस के पीछा करते हुए यूपी आने का अंदेशा हो गया था।लेकिन रुपए खत्म होने पर रात को घर पर आया था।

पुलिस अधीक्षक यादव ने बताया कि घटना वाले दिन विक्रम के ताऊ के लड़के की शादी थी।ऐसे में आरोपित ने हत्या के लिए यही दिन चुना। शराब पीने के आदी विक्रम को सुबह से ही शराब पिलाना शुरू कर दिया। इधर, अधिक शराब पीने से परिजनों ने उसे बारात में ले जाने से इंकार कर दिया। रात को मौका पाकर अजीत उसे बाइक में बैठाकर पुरोहितों की ढाणी इण्डाली रोड ले गया।जगह सुनसान होने पर लघुशंका का बहाना बनाकर उतर गया।इस दौरान विक्रम का ध्यान कहीं ओर होने पर अचानक छुरे से गर्दन पर वार कर दिया।

सिम व जगह बदलता रहा
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बचने के लिए आरोपित लगातार सिम व जगह बदलता रहा।लोकेशन मिलने पर पुलिस पहुंचती इससे पहले आरोपित जगह बदल लेता था।हत्या के बाद पुलिस तलाशते हुए घर पहुंची परिजनों ने कुछ देर पहले निकलने की बात कही।परिजनों ने बताया कि इससे पहले अजीत दो साल पहले ही घर आया था।परिवार की स्थिति अच्छी नहीं बताई जा रही है।एक भाई दिव्यांग व पिता बीमार हैं।गांव में आरोपित को बहुत कम लोग जानते हैं।