स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बंदूक से गोली मारकर हत्या करने के आरोपी को आजीवन कारावास

Datar singh Shekhawat

Publish: Sep 06, 2019 10:11 AM | Updated: Sep 06, 2019 10:11 AM

Jhunjhunu

झुंझुनूं. अपर सेशन न्यायाधीश संख्या दो झुंझुनूं मुज्जफर चौधरी ने हत्या के आरोप में जीवणराम बलाई निवासी ढाणी खातियान की तन गिरावड़ी थाना उदयपुरवाटी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इस मामले में दूसरे आरोपी पालाराम बावरिया निवासी ढाणी धावड़ा की तन गिरावड़ी की ट्रायल के दौरान मृत्यु हो जाने के कारण उसकी कार्रवाई ड्रॉप कर दी गई।

बंदूक से गोली मारकर हत्या करने के आरोपी को आजीवन कारावास
झुंझुनूं. अपर सेशन न्यायाधीश संख्या दो झुंझुनूं मुज्जफर चौधरी ने हत्या के आरोप में जीवणराम बलाई निवासी ढाणी खातियान की तन गिरावड़ी थाना उदयपुरवाटी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इस मामले में दूसरे आरोपी पालाराम बावरिया निवासी ढाणी धावड़ा की तन गिरावड़ी की ट्रायल के दौरान मृत्यु हो जाने के कारण उसकी कार्रवाई ड्रॉप कर दी गई।
मामले के अनुसार 11 अक्टूबर 2016 को कानाराम ने एक रिपोर्ट पुलिस थाना उदयपुरवाटी पर दी कि 5 अक्टूबर 2016 को वह तथा उसका भाई राजूराम, उसकी पत्नी आशा देवी, आशा देवी पत्नी रमेश, जीवणराम, कैलाश बावरिया, राजू बावरिया व उसकी पत्नी सतावरी स्वामीवाला कुआं तन गिरावड़ी मोड़ पर बाजरे की लावणी कर रहे थे।उस दिन सुबह वह गाड़ी लेकर सीकर चला गया तथा दोपहर को रमेश बलाई अपनी पुत्री को दूध पिलाने के लिए घर से अपनी पत्नी के पास खेत में आया। दोपहर को खाना खाने के समय राजूराम, जीवणराम, राजू बावरिया, कैलाश बावरिया व राजू बावरिया का ***** साथ बैठकर शराब पीने लगे। राजू बावरिया का ***** व कैलाश बावरिया तो खेत से चले गए तथा राजूराम, जीवणराम, राजू बावरिया व उसकी घरवाली ने दोपहर का खाना खाने के बाद राजू बावरिया व उसकी पत्नी गोशाला में चले गए।इतने में ही कमरे से धमाके की आवाज आई तथा धमाके की आवाज सुनकर वहां उपस्थित लोग कमरे की तरफ भागे। उसकी पत्नी जब कमरे के पास पहुंची तो पता चला की जीवणराम ने बंदूक से राजूराम की हत्या कर दी। पुलिस ने जीवणराम के विरूद्ध हत्या, आम्र्स एक्ट व पालाराम के विरूद्ध आम्र्स एक्ट आदि का चालान सम्बन्धित न्यायालय में पेश कर दिया। विशिष्ट लोक अभियोजक कमल किशोर शर्मा व पीडि़त पक्षकार की तरफ से पैरवी कर रहे गोकुलचंद सैनी ने कुल 13 गवाहान के बयान करवाए तथा 51 दस्तावेज प्रदर्शित करवाए। न्यायाधीश ने जीवणराम को आजीवन कारावास की सजा के साथ-साथ 10 हजार रुपए के अर्थदण्ड की सजा भी सुनाई है।

बंदूक से गोली मारकर हत्या करने के आरोपी को आजीवन कारावास