स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सूरजगढ़ बीडीओ ने कर दिए नियम विरूद्ध तबादले तो हो गया हंगामा

Jitendra Kumar Yogi

Publish: Sep 12, 2019 13:06 PM | Updated: Sep 12, 2019 13:06 PM

Jhunjhunu

जिला परिषद सभागार में बुधवार को जिला परिषद की साधारण सभा में बिजली-पानी, सड़क, चिकित्सा व पंचायतीराज विभाग विभाग के कार्यों पर चर्चा के दौरान कई बार सदस्यों ने हंगामा किया। सदस्यों में इस बात की नाराजगी रही कि करीब साढ़े चार साल पहले जिला परिषद की साधारण सभाओं में उठाए गए मुद्दे जिनका प्रस्ताव भी लिया गया वे भी आज तक अटके हुए हैं। ऐसे में सदस्यों ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए जानबूझकर लोगों को राहत नहीं पहुंचाने के आरोप जड़े।

झुंझुनूं. जिला परिषद सभागार में बुधवार को जिला परिषद की साधारण सभा जिला प्रमुख सुमन रायला की अध्यक्षता में हुई। दोपहर साढ़े 12 बजे से लेकर साढ़े तीन बजे तक चली सभा में बिजली-पानी, सड़क, चिकित्सा व पंचायतीराज विभाग विभाग के कार्यों पर चर्चा के दौरान कई बार सदस्यों ने हंगामा किया।सदस्यों में इस बात की नाराजगी रही कि करीब साढ़े चार साल पहले जिला परिषद की साधारण सभाओं में उठाए गए मुद्दे जिनका प्रस्ताव भी लिया गया वे भी आज तक अटके हुए हैं। ऐसे में सदस्यों ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए जानबूझकर लोगों को राहत नहीं पहुंचाने के आरोप जड़े। जिला परिषद सदस्य सोमवीर लांबा ने सूरजगढ़ विकास अधिकारी पर बिना पंचायत समिति की प्रशासनिक एवं स्थाई समिति के प्रधान की अभिषंशा पर ग्रामसेवकों व लिपिकों के नियम विरूद्ध तबादलों करने का मामला उठाया। सांसद नरेंद्र खींचड़, सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनियां ने नियम विरूद्ध तबादले को निरस्त करने की बात की। इस मामले पर कलक्टर रवि जैन ने तबादलों के बारे में संबंधित अधिकारी से पूछा तो उन्होंने स्वीकार कर लिया कि तबादले नियम विरूद्ध हैं। ऐसे में सदन में प्रस्ताव लिया गया कि अगर तीन दिन में तबादले निरस्त नहीं किए गए तो विकास अधिकारी को एपीओ किया जाए।

प्रधान सुशीला ने उठाए मुद्दे

झुंझुनूं प्रधान सुशीला सीगड़ा ने नरेगा में श्रमिकों को तुरंत भुगतान करने, सीगड़ा से मेहरादासी, पीपलकाबास व तोलियासर से दिलोई व रूपनगर से मंडावा की स्वीकृत सड़क का निर्माण शीघ्र करवाने, खराब हैंडपंप सुधरवाने, बिजली की नियमित आपूर्ति करने तथा अर्जुनराम पोकरराम के घर से ऊपर से गुजर रही बिजली की लाइन को ऊपर करवाने का मुद्दा प्रमुखता से उठाया।ऐसे में जिला प्रमुख सुमन रायला ने अधिकारी को लताड़ लगाते हुए 15 दिन में कार्य पूरा करने के निर्देश दिए।
ताराचंद गुप्ता ने छावश्री में श्मशान भूमि में गुरु गोवलकर योजना में टीनशैड निर्माण का कार्य व चंवरा से नांगल तक पेयजल संकट का समाधान नहीं करने का मामला उठाया। प्यारेलाल ढूकिया ने झुंझुनूं से मंडावा सड़क निर्माण कार्य की धीमी गति, तोलियासर से दिलाई सड़क का कार्य करने की बात कही। सदस्य सरोज श्योराण, बजरंगसिंह चारावास, सहीराम गुर्जर आदि ने चिकित्सा, बिजली-पानी, सड़क आदि से जुड़े मुददे उठाए। बैठक में सीइओ राजपालसिंह, एसीइओ प्रतिष्ठा पिलानियां, एडिश्नल एसपी, उप जिला प्रमुख बनवारीलाल सैनी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

साढ़े चार साल से एक बिजली का पोल नहीं हटा
जिला परिषद सदस्य सिलोचना देवी की ओर से गोवला से चनाना सड़क के बीच बिजली के पोल को हटाने की मांग की।

अस्पताल की बजाए घर पर देखते हैं रोगी
जिला परिषद सदस्य राजेंद्रप्रसाद ने कहा कि सीएचसी गुढ़ा में डाक्टर समय पर नहीं रहते हैं। सीएचसी में रोगियों की भीड़ लगी रहती है, परंतु रोगियों को अपने घरों पर देखते हैं। ऐसे में कलक्टर रवि जैन ने सीएमएचओ को सभी सीएचसी-पीएचसी का निरीक्षण करने और वहां पर 15 दिन में सीसीटीवी कैमरे लगाने की हिदायत दी।

दिनेश सुडा बोले 25 लाख का मुआवजा व नौकरी दो
जिला परिषद सदस्य दिनेश सुंडा ने सीकर-लोहारू रोड पर सड़क बनाने वाली आरएसआरडीसी की ओर से काटे गए पेड़ों के एवज में दोगुने पेड़ लगाने का सवाल उठाया। सदन में बिजली से जुड़े मुददे पर सुंडा ने यहां तक बोल दिया कि बिजली निगम के अधिकारियों से नालायक कोई नहीं। इन्होंने बीडीके अस्पताल में अव्यवस्थाओं के सुधार की मांग की। साथ ही कहा कि बिजली से आए दिन मौत हो रही है। मृतकों को 25 लाख का नकद मुआवजा व परिजन को सरकारी नौकरी दी जाए।

रीको फाटक और बाकरा रोड का प्रस्ताव भेजा
जिला परिषद सदस्य कैप्टन बालूराम ने बाकरा रोड पर बाकरा रोड में जमा होने वाले पानी और टूटी पड़ी सड़कों का मामला उठाया। सभा में सदस्यों ने पहली, दूसरी या तीसरी बैठक में उठाए गए मुददों पर समीक्षा बैठक बुलाने की मांग उठाई। सदस्यों की मांग थी कि सभी बैठकों की प्रोसेडिंग का अवलोकन करवाकर उनकी समीक्षा के लिए एक विशेष बैठक बुलाई जाए और उन उठाई गई बातों का समाधान करवाया जाए। जिस पर भी सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया।

सबसे ज्यादा छाए तीन सदस्य
पूरी बैठक में सबसे ज्यादा प्रधान सुशीला सीगड़ा, दिनेश सुंडा व सोमवीर लांबा छाए रहे। इनके अलावा भी अनेक सदस्यों ने अपने क्षेत्र की मांग उठाई।