स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वीरांगनाएं बोली, शहीदों को अब सच्ची श्रद्धांजलि

Gunjan Shekhawat

Publish: Aug 06, 2019 11:50 AM | Updated: Aug 06, 2019 11:50 AM

Jhunjhunu

jhunjhunu news: झुंझुनूं. देश की सीमाओं की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वाले शेखावाटी के अमर शहीदों को सरकार ने जम्मू-कश्मीर को केन्द्रशासित राज्य बनाकर अब सच्ची श्रद्धांजलि दी है। सरकार के इस फैसले के बाद आतंकवाद का खात्मा होगा। सरकार की घोषणा के बाद राजस्थान पत्रिका की टीम शहीद वीरांगनाओं के घर पहुंची। शहीदों के परिवारों में सोमवार को होली-दिवाली जैसी खुशियां नजर आई। शहीदों वीरांगनाओं ने कहा कि सरहद की चौकसी करते हुए न जाने कितने लाल शहीद हो गए। अब सरकार के इस फैसले से सैनिकों को भी राहत मिलेगी। पुलवामा हमले के बाद गुस्से से लवरेज सैनिक परिवारों के तेवर बदले नजर आए।

झुंझुनूं. देश की सीमाओं की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वाले शेखावाटी के अमर शहीदों को सरकार ने जम्मू-कश्मीर को केन्द्रशासित राज्य बनाकर अब सच्ची श्रद्धांजलि दी है। सरकार के इस फैसले के बाद आतंकवाद का खात्मा होगा। सरकार की घोषणा के बाद राजस्थान पत्रिका की टीम शहीद वीरांगनाओं के घर पहुंची। शहीदों के परिवारों में सोमवार को होली-दिवाली जैसी खुशियां नजर आई। शहीदों वीरांगनाओं ने कहा कि सरहद की चौकसी करते हुए न जाने कितने लाल शहीद हो गए। अब सरकार के इस फैसले से सैनिकों को भी राहत मिलेगी। पुलवामा हमले के बाद गुस्से से लवरेज सैनिक परिवारों के तेवर बदले नजर आए। वीरांगनाओं ने कहा कि पाक को भारत ने पक्का जवाब अब ७० साल बाद दिया है। झुंझुनूं में सांझी छत सैनिक बालिका छात्रावास में रहने वाली शहीद की वीरांगना सुनील कंवर, बदामी देवी, किरण देवी, रोशन देवी, सुनीता आदि ने सरकार के निर्णय की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इसके लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह फैसला ऐतिहासिक है। इसे पूरा भारत सदियों तक याद रखेगा। यह हमारे जाबांजों को सच्ची श्रद्धांजलि है। शेखावाटी के लाडले सबसे ज्यादा जम्मू कश्मीर में ही शहीद हुए हैं।


अब सुनी मां भारती की पुकार
शहीद वीरांगनाओं के साथ गौरव सेनानी भी खुशी से लबरेज दिखे। पूर्व सैनिक राजपाल फौगाट, रामदेव सिंह, देबूराम, नत्थाराम थालौर, शेरसिंह, राजस्था एक्समैन निगम के जिला संयोजक मोहर सिंह, बनवारी लाल, भगवान सिंह व मुकेश ने बताया कि इसकों लेकर देश की जनता काफी समय से मांग कर रही थी। इसके हटने से जम्मू कश्मीर में शेखावाटी के लोग व्यापार शुरू कर सकेंगे। इससे बेरोजगारों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

 

धारा ३७० हटाने पर संत समाज ने जताई खुशी
झुंझुनूं. केंद्र सरकार की ओर से जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पेश करने पर संत समाज ने भी खुशी जताई है। संत समाज ने कहा कि इससे पूर्व किसी भी सरकार में इच्छा शक्ति नहीं थी, जिसके चलते अभी तक विधेयक पेश नहीं हो पाया। इससे अब जम्मू कश्मीर के विकास को गति मिलेगी। धारा ३७० की समाप्ति पर सबसे ज्यादा फायदा जम्मू कश्मीर के लोगों को ही होगा।