स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान का यह उद्योगपति करोड़ों रुपए खर्च कर लंदन से लाया था गांधीजी की निशानी

rajesh sharma

Publish: Oct 02, 2019 12:12 PM | Updated: Oct 02, 2019 12:12 PM

Jhunjhunu

नवलगढ़ निवासी पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमल मोरारका ने इन धरोहर को खरीदा था। उन्होंने महात्मा गांधी से जुड़ी 29 निशानी को करोड़ों रुपए की बोली लगाकर खरीदा था। उनसे जुड़ी निशानी को बाद में देश में लाया गया था। इन वस्तुओं को बाद में सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे को भेंट कर दी गई थी।


झुंझुनूं/ नवलगढ़. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नवलगढ़ से भी विशेष रिश्ता रहा है। नवलगढ़ की आनन्दी लाल विद्या प्रचार संस्था (आनन्दी लाल पोदार ट्रस्ट) की मुम्बई में 1921 में हुई पहली बैठक की अध्यक्षता महात्मा गांधी ने ही की थी। उस समय नवलगढ़ के सेठआनन्दी लाल पोदार ने दो लाख 21 हजार रुपए शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए संस्था को दान किए थे। इस दौरान उन्होंने महात्मा गांधी से आग्रह किया था कि वे संस्था के ट्रस्टी बने। इस पर गांधी ने इस आग्रह को स्वीकार किया था। इसके बाद महात्मा गांधी 1922 में इस ट्रस्ट के पहले चेयरमैन बने थे। महात्मा गांधी नौ वर्ष तक संस्था के चेयरमैन रहे थे। वर्ष2012 में लंदन में महात्मा गांधी की कई वस्तुओं की नीलामी हुई थी। नवलगढ़ निवासी पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमल मोरारका ने इन धरोहर को खरीदा था। उन्होंने महात्मा गांधी से जुड़ी 29 निशानी को करोड़ों रुपए की बोली लगाकर खरीदा था। उनसे जुड़ी निशानी को बाद में देश में लाया गया था। इन वस्तुओं को बाद में सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे को भेंट कर दी गई थी।
..........................................................................................................
पत्र में दिए थे बालिका शिक्षा के संबंध में निर्देश
ट्रस्ट के चेयरमैन कांतिकुमार आर पोदार ने पोदार हवेली में म्यूजियम बनवाया है। इसमें गांधीजी की यादों के लिए गांधीजी की गैलरी भी बनाई हुई है। इस गैलरी में बापू का लिखा हुआ वह पत्र भी मौजूद है जिनमें बालिकाओं की शिक्षा के संबंध में पोदार कॉलेज प्रबंधन को निर्देशित किया गया था। गांधी गैलरी में महात्मा गांधी की आवाज को भी सुना जा सकता है। इसके लिए गैलरी में आधुनिक तकनीक की डीवीडी लगी हुई। इसमें गांधीजी के दिए गए भाषण आदि संग्रहित है। इसके अलावा गैलरी में महात्मा गांधी की काफी सारी फोटो भी लगी हुई थी।
......................................................................................
गांधी पार्क भी आकर्षण का केन्द्र
आनन्दी लाल पोदार ट्रस्ट के पहले ट्रस्टी चेयरमैन महात्मा गांधी थे। इसलिए गांधीजी को याद रखने के लिए नवलगढ़ में गांधी पार्क भी बनाया हुआ है। पार्कमें गांधीजी की मूर्ति लगी हुई है। यह पार्क लोगों के आकर्षण का केन्द्र भी रहता है। दो अक्टूबर यहां पर प्रार्थना सभा भी होती है।
.................................................................................................