स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इमित्र संचालक सुनील बोला, लिपिक योगेश ने पैसे के अलावा पार्टी भी ली थी

rajesh sharma

Publish: Aug 09, 2019 12:04 PM | Updated: Aug 09, 2019 12:04 PM

Jhunjhunu

सुनील ने एसडीएम सुरेन्द्र यादव को बताया कि उपखंड अधिकारी झुंझुनूं के एसएसओ आइडी व पासवर्ड लेने के लिए बुडाना के लिपिक योगेश ने रुपए लेने के अलावा पीरू सिंह सर्किल स्थित एक रेस्टोरेंट में पार्टी भी ली थी। इसी रेस्टोरेंट में पैसे व पार्टी लेने के बाद योगेश ने सुनील को आइडी व पासवर्ड बताए थे। इसके बाद सुनील लगातार पासवर्ड का उपयोग कर अनाधिकृत रूप से खाद्य सुरक्षा के फार्मों को ऑनलाइन कर रहा था।


कलक्टर ने लिपिक योगेश को किया निलंबित
झुंझुनूं. पैसे लेकर एसडीएम के अधिकार बेचने का सनीसनीखेज मामला उजागर होने के बाद जिला कलक्टर ने कलक्ट्रेट की न्याय शाखा में कार्यरत लिपिक बुडाना गांव के योगेश कृष्णिया को निलंबित कर दिया है। साथ ही 16 सीसी का नोटिस भी जारी कर दिया है। इधर लिपिक के बारे में इमित्र संचालक सुनील ने एक और खुलासा किया है। सुनील ने एसडीएम सुरेन्द्र यादव को बताया कि उपखंड अधिकारी झुंझुनूं के एसएसओ आइडी व पासवर्ड लेने के लिए बुडाना के लिपिक योगेश ने रुपए लेने के अलावा पीरू सिंह सर्किल स्थित एक रेस्टोरेंट में पार्टी भी ली थी। इसी रेस्टोरेंट में पैसे व पार्टी लेने के बाद योगेश ने सुनील को आइडी व पासवर्ड बताए थे। इसके बाद सुनील लगातार पासवर्ड का उपयोग कर अनाधिकृत रूप से खाद्य सुरक्षा के फार्मों को ऑनलाइन कर रहा था। जिला कलक्टर रवि जैन बताया कि शिकायत के बाद लिपिक योगेश को निलंबित कर दिया है तथा 16 सीसी का नोटिस दिया गया है।

पहले लिया इमरान का नाम, बाद में कहा लिपिक योगेश ने दिए पासवर्ड व आइडी
एसडीएम सुरेंद्र यादव को गड़बड़ी का पता चलने पर उन्होंने अपने स्टाफ के कर्मचारियों को इस बारे में पूछा। बाद में आइडी के आधार पर इमित्र संचालक सुनील को बुलाकर पूछताछ की। इस पर सुनील ने एसडीएम को बताया कि पूर्व में इसी कार्यालय में अनुबंध पर काम करने वाले इमरान ने उसे आइडी व पासवर्ड बताए हैं। एसडीएम ने इमरान को कार्यालय बुला लिया तथा सुनील के सामने ही पूछताछ की तो सुनील अपनी बात से मुकर गया तथा कहा कि उसे लिपिक योगेश ने जानकारी दी। इस पर योगेश को बुलाकार उसके सामने पूछताछ की, तो सुनील ने योगेश के सामने ही उस पर आइडी व पासवर्ड देने की बात स्वीकारी तथा अपना उक्त बयान एसडीएम को लिखित में भी दिया।

 

लाइसेंस निरस्त करने के लिए कलक्टर को भेजी रिपोर्ट
एसडीएम सुरेंद्र यादव ने इमित्र संचालक सुनील कुमार की ओर से अनाधिकृत रूप से खाद्य सुरक्षा के फार्मांे को ऑनलाइन करने वाली आइडी को निरस्त करने की रिपोर्ट जिला कलक्टर को भेजी है। जिस पर कार्रवाई की जा रही है।

जयपुर से आए रेकॉर्ड
इधर, दोनो आइडी से ऑनलाइन किए गए फार्मों के रेकॉर्ड भी जयपुर से आने शुरू हो गए हैं। गुरुवार शाम तक करीब 53 फार्मों के रेकॉर्ड एसडीएम कार्यालय में आ चुके हैं।वहीं एक आइडी से ऑनलाइन किए गए 29 फार्मों की जांच की जा रही है।

पुलिस नहीं कर रही योगेश को गिरफ्तार
पुलिस ने इमित्र संचालक सुनील को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।बाद में उसे जेल भेज दिया गया। वहीं योगेश को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर रही है। पुलिस ने बताया कि जांच की जा रही है। जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा।

जांच कमेटी गठित
दोनों आइडी से ऑनलाइन किए गए फार्मों की जांच के लिए जांच कमेटी का गठन किया गया है। पंचायत समिति की प्रोग्रामर दीपा देवड़ा की अध्यक्षता में गठित टीम में सूचना सहायक अरविंद मील, विजय टेलर व कनिष्ठ लिपिक सुनील कुमार को शामिल किया गया है। उक्त टीम सात दिन में अपनी रिपोर्ट पेश करेगी।