स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झुंझुनूं के इस शहर में बसाया अभिनेत्री कीर्ति सॅनोन ने अपना घर

Gunjan Shekhawat

Publish: Nov 18, 2019 12:22 PM | Updated: Nov 18, 2019 12:22 PM

Jhunjhunu

jhunjhunu news: कस्बे में सर्राफा की हवेली के सामने वाली गली में एक घर को मिमि हाउस का नाम दिया गया। जो अभिनेत्री कृति सॅनोन का घर है। जिसमें रविवार को शूटिंग के दौरान गायन के साथ वाद्य यंत्रों को बजाने के दृश्य फिल्माएं गए।

मंडावा (झुंझुनूं). कस्बे में सर्राफा की हवेली के सामने वाली गली में एक घर को मिमि हाउस का नाम दिया गया। जो अभिनेत्री कृति सॅनोन का घर है। जिसमें रविवार को शूटिंग के दौरान गायन के साथ वाद्य यंत्रों को बजाने के दृश्य फिल्माएं गए। मुख्य अभिनेत्री कृति सॅनोन व मुख्य अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने शूटिंग नहीं की। फिल्म के अन्य कलाकारों ने द्श्य फिल्माएं। स्थानीय कोर्डिनेटर किशोर सिंह ने बताया कि अभिनेता पंकज त्रिपाठी शूटिंग करके चले गए हैं। अब आगामी फरवरी में फिर शूटिंग करने मंडावा आएंगे। मिमि फिल्म के निर्माता निदेशक लक्ष्मण उत्तेकर है। यह फिल्म सरोगेसी पर अधारित है। इसमें एक विदेशी महिला और एक गरीब महिला के बीच की कहानी है, जो एक बच्चे से जुड़ी है।

कस्बे में पंजाबी गानों की भी हुई शूटिंग

मंडावा. कस्बेमें रविवार को एक तरफ हिन्दी फिल्म मिमि की शूटिंग चल रही थी। वहीं दूसरी ओर इसी वार्ड में एक पंजाबी एलबम के लिए पंजाबी गानों की शूटिंग भी की गई।

अवहेलना करने पर गिडानियां का ग्राम विकास अधिकारी निलंबित
चिड़ावा. पंचायत समिति की गिडानिया ग्राम पंचायत के ग्राम विकास अधिकारी मनोज कुमार को निलंबित कर दिया गया है। इस संबंध में विकास अधिकारी दारासिंह ने आदेश जारी किए हैं। विकास अधिकारी ने बताया कि ग्राम विकास अधिकारी मनोज को विभिन्न तारीखों को राजस्थान सिविल सेवा नियम 1958 के नियम 17 के तहत आरोप पत्र जारी किए गए। जिसका ग्राम विकास अधिकारी ने कोई प्रति उत्तर नहीं दिया। जिसको उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना माना गया। ऐसे में उच्चाधिकारियों के निर्देश पर ग्राम विकास अधिकारी को निलंबित किया गया। जिसका मुख्यालय चिड़ावा पंचायत समिति रखा
गया है। वहीं, केहरपुरा कलां ग्राम विकास अधिकारी हरफूलसिंह को गिडानिया पंचायत का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है। गौरतलब है कि इससे पहले भी उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना के चलते कई कर्मचारी निलंबित हो चुके हैं।

[MORE_ADVERTISE1]