स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शादी के लाल जोड़े में आई थी दोनों, अब एक साथ कफन में लिपटकर निकली बहनें

rajesh sharma

Publish: Nov 13, 2019 13:07 PM | Updated: Nov 13, 2019 13:07 PM

Jhunjhunu

दोनों साथ रहती थी। दोनों में प्रेम भी खूब था। हर किसी की मदद करना मानों दोनों की दिनचर्या में शुमार था। हर समय चेहरे पर मुस्कान और हर किसी का सम्मान करती थी।


सूरजगढ़/ झुंझुनूं. जिले के सूरजगढ़ का काकोड़ा गांव। यहां कुछ साल पहले चूरू जिले की सरदारशहर तहसील के अडसीसर गांव की दो सगे बहनें शादी के लाल जोड़े में आई थी। दोनों लाडली बहनें जब इस गांव में एक घर की बहू बनकर आई थी तब खुशियां मनी थी। दोनों साथ रहती थी। दोनों में प्रेम भी खूब था। हर किसी की मदद करना मानों दोनों की दिनचर्या में शुमार था। हर समय चेहरे पर मुस्कान और हर किसी का सम्मान करती थी। अब एक घटना ने काकोडा गांव को गम में डुबो दिया। शादी के लाल जोड़े में आई दोनों सगी बहनें अब सफेद कफन में एक साथ लिपटकर रवाना हुई। दोनों बहनों की अर्थी एक साथ उठी तो हर आंख छलक पड़ी।
बीकानेर में हुए सड़क हादसे में काकोड़ा गांव की दो सगी बहनों की भी मौत हो गई। दोनों आपस में देवरानी-जेठानी भी थी। इसी हादसे में दोनों की तीसरी बहन मीना व जीजा करणी ङ्क्षसह की भी मौत हो गई। तीसरी बहन का ससुराल चूरू के ठठावता गांव में है।
घटना की जानकारी पर गांव में शोक की लहर दौड़ गई। जानकारी के अनुसार बिंदू कंवर व बबलू कंवर की मौत हो गई। दोनों सगी बहने सोमवार को अपने ससुराल काकोड़ा गांव से सुबह करीब 5 बजे की बस से देशनोक स्थित करणी माता मंदिर के दर्शन के लिए गई थी। परिजनों के अनुसार इन्द्रसिंह व सत्यनारायण दोनों सगे भाई हैं और दोनों दुबई में नौकरी करते हैं। जिनकी वर्ष 2003 में शादी हुई थी। दोनों बहनों का पीहर अड़सीसर सरदारशहर (चूरू) में है। बिंदू कंवर के दो पुत्री व एक पुत्र तथा बबलू कंवर के दो पुत्र व एक पुत्री है, जो पढ़ाई करते हैं। बिंदू कंवर का पति हाल ही में 26 अक्टूबर को ही छुट्टी पूरी करने के बाद गांव से दुबई गया था।

मां-बाप का उठा साया
पुलिस के अनुसार हादसे में जान गंवाने वाले ठठावता गांव निवासी करणीसिंह सेना में थे और वे एक माह पूर्व ही सेवानिवृत होकर गांव लौटे थे। इनके दो लड़के हैं। दोनों पुत्र पढ़ रहे हैं। इस दुर्घटना मे ंउनकी पत्नी मीना कंवर की मौत हो गई। ऐसे में दोनों बच्चों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।
देशनोक के पास हुए हादसे में करणीसिंह व पत्नी मीना कंवर की चिता एक साथ जली तो लोगों की रुलाई फूट पड़ी। उनके बड़े पुत्र शक्तिसिंह व छोटे पुत्र अभयसिंह ने मुखाग्नि दी।


इधर दूल्हे के जीजा की मौत
बाइपास पर देर रात दो गाडिय़ों की भिडंत का मामला
मुकुंदगढ़.कस्बे में बाइपास रोड पर सोमवार देर रात हुए सड़क हादसे में घायल हुए दूल्हे के जीजा की झुंझुनूूं से जयपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। थानाप्रभारी रामस्वरूप बराला ने बताया कि हादसे में घायल हुए गांव लांबा गोठड़ा निवासी विकास जाट (30) की हालत गंभीर होने पर रात को झुंझुनंू से जयपुर रैफर कर दिया गया। रास्ते में रींगस के निकट उसने दम तोड़ दिया। पुलिस ने मंगलवार को झुंझुनूं अस्पताल में पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंप दिया। गौरतलब है कि सोमवार देर रात बाइपास पर अजीतपुरा-घोड़ीवारा के बीच झुंझुनूं से आ रही एक स्कॉर्पियो गाड़ी सड़क पर मृत पड़ी गाय से टकराकर अनियंत्रित होने के बाद डिवाइडर को पार कर सड़क की दूसरी ओर जाकर सामने से आ रही कार से टकरा गई। हादसे में गांव मोहब्बतसरी निवासी संजीव,पूजा, बंटी, लांबा निवासी विकास,सीकर निवासी बजरंग लाल,मनीष,मदनलाल व करणसर निवासी कुलदीप घायल हो गए।सभी घायलों को 108 एंबुलैंस व निजी वाहनों से झुंझुनूं के बीडीके अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां से संजीव,पूजा,विकास, कुलदीप,बजरंगलाल व मनीष को देर रात जयपुर रैफर कर दिया गया।
...................................
फेरमोहड़े कर वापस लौटते समय हुआ हादसा
मृतक लांबा गोठड़ा निवासी विकास हादसे में घायल हुए मोहब्बतरी निवासी दूल्हे संजीव का जीजा था। संजीव व पूजा की शादी 10 नवंबर को ही हुई थी। सोमवार रात को ये फेरमोहड़े कर वापस लौट रहे थे। इसी दौरान यह हादसा हो गया। इसके बाद शादी की खुशियां मातम में बदल गई। गांव मोहब्बतसरी में दिनभर हादसे की चर्चा रही।

[MORE_ADVERTISE1]