स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'देश की सीमाओं के प्रहरी सैनिक ही वास्तविक राष्ट्रनायक'

Brij Kishore Gupta

Publish: Aug 16, 2019 22:39 PM | Updated: Aug 16, 2019 22:39 PM

Jhansi

कुमाऊं रेजीमेंट के साइकिल अभियान दल के सदस्यों का यूनिवर्सिटी में स्वागत

झांसी। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति प्रो.वी.के.सहगल ने कहा कि देश की सीमाओं के प्रहरी सैनिक ही वास्तव में आज हमारे राष्ट्र के नायक हैं। प्रो. सहगल यहां बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर के प्रशासनिक भवन के सभागार में 11 कुमाऊं रेजीमेंट, ग्वालियर के 660 किमी के साइकिल जागरूकता अभियान दल के सदस्यों के स्वागत समारोह में अध्यक्षता करतेे हुए बोल रहे थे। प्रभारी कुलपति ने कहा यद्यपि सेना का काम देश व नागरिकों की रक्षा और शत्रुओं के प्रहारों को खदेड़ देना होता है परन्तु विभिन्न प्रकार की आपदाओं में सैनिकों ने नागरिक प्रशासन का भी सहयेाग किया है।

सेना की गतिविधियों की जानकारी दी

साइकिल अभियान के दल नेता कैप्टन ईशनाॅज ने सेना की विभिन्न गतिविधियों के बारे में बताया। उन्होंने छात्रों को भारतीय सेना में सेवा हेतु प्रेरित करते हुए कहा कि उनकी नजर में किसी भी युवा के लिए सेना में सम्मिलित होना सर्वश्रेष्ठ कार्य है। उन्होंने कहा कि एक सैन्यकर्मी को जो गौरव की अनुभूति होती है वह किसी अन्य सेवा या व्यवसाय में सम्भव ही नहीं है। उन्होेंने बताया कि यह साइकिल अभियान विशेष रूप से क्षेत्र के युवाओं को सेना में भर्ती हेतु जागरूक करने हेतु किया जा रहा है।

ये लोग रहे उपस्थित

अधिष्ठाता कला संकाय डा.सी.बी.सिंह ने दल के सदस्यों ने अभियान दल के सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि उनके अभियान की सफलता की कामना की। इस अवसर पर सूबेदार सुभाष चन्द ने बताया कि यह साइकिल अभियान ग्वालियर से दतिया, ओरछा, टीकमगढ़, अमनगंज, छतरपुर खजुराहो, पन्ना, गुलगंज, हटा व सागर होते हुए सागर तक कुल 660 किलोमीटर का है। 11कुमाऊं रेजीेमेंट के इस अभियान में कैप्टन ईशनाॅज, नायब सूबेदार राम दरस, सूबेदार सुभाष चंद्रा, सूबेदार आर.डी.यादव, नायक सुरेंद्र यादव, नायक ओंकार, मीनू, संदीप कुमार, देशराज, विमल, संदीप, प्रीतम आदि सम्मिलित हैं।