स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Raksha Banadhan Special इस पूर्व विधायक की हैं 1000 बहनें, दूर-दूर से आती हैं राखी बांधने

Brij Kishore Gupta

Publish: Aug 11, 2019 13:27 PM | Updated: Aug 11, 2019 13:27 PM

Jhansi

इस बार 17 अगस्त को मोंठ में होगा रक्षाबंधन कार्यक्रम का भव्य आयोजन

झांसी। गरौठा विधानसभा सीट से लगातार दो बार समाजवादी पार्टी से विधायक रह चुके दीपनारायण सिंह यादव के लिए रक्षाबंधन पर्व कुछ अलग ही तरह की खुशियों की सौगात लेकर आता है। उनके यहां पर विशेष प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन होता है। इसमें उनकी करीब एक हजार बहनें शामिल होकर उन्हें राखी बांधती हैं। इसके बाद पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव उन्हें उपहार देकर विदाई करते हैं। इस बार भी इसी तरह का आयोजन यहां मोंठ नगर में 17 अगस्त को होने जा रहा है। इसकी तैयारियां जोरों से चल रही हैं।

यूं ही नहीं बन गईं एक हजार बहनें

पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव की एक हजार बहनें एक ही दिन में नहीं बन गईं। उनके बारे में रामनरेश यादव बताते हैं कि जब दीपनारायण विधायक नहीं बने थए, तो उसके पहले ही उन्होंने गरीबों की लड़कियों की शादी करवानी शुरू कर दी थी। पहली बार उन्होंने 2004 में सामूहिक विवाह का आयोजन कराया था। इसमें 111 गरीब कन्याओं की शादी करवाई थी। इस आयोजन का पूरा खर्च वह अपनी तरफ से ही उठाते रहे हैं। इसके बाद से हर साल वह लगभग इतनी ही गरीब लड़कियों की शादी करवाने लगे। इस तरह धीरे-धीरे यह संख्या 1000 तक पहुंच गई। ये सभी गरीब बेटियां उन्हें अपना भाई मानने लगीं। हर रक्षाबंधन पर वह पूर्व विधायक को राखी बांधने आती हैं।

सभी वर्गों की हैं बहनें

पूर्व विधायक दीपनारायण की 1000 बहनों में सभी वर्गों की शामिल हैं। इससे पहले रक्षाबंधन का कार्यक्रम निवाड़ी विधानसभा क्षेत्र में हुआ था। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के निवाड़ी विधानसभा क्षेत्र से दीपनारायण सिंह यादव की पत्नी मीरा यादव विधायक रही हैं। इसलिए वहां आयोजन कराया गया था। इस बार यह आयोजन पूर्व विधायक के क्षेत्र मोंठ में होने जा रहा है। इसके लिए 17 अगस्त की तारीख निर्धारित की गई है। पूर्व विधायक के रक्षाबंधऩ के कार्यक्रम में दूर-दूर से ऐसी बहनें शामिल होती हैं, जिनकी शादी उन्होंने कराई है। सभी उनको राखी बांधती हैं और पूर्व विधायक उन्हें उपहार देकर विदा करते हैं।