स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किसानों के लिए खुशखबरी, ये है अंतिम तिथि, जल्द करा लें अपनी फसल का बीमा

Brij Kishore Gupta

Publish: Jul 18, 2019 15:00 PM | Updated: Jul 18, 2019 15:00 PM

Jhansi

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना की अंतिम तिथि 31 जुलाई तक है।

झांसी। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (pm kisan fasal bima yogna) एवं पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना की अंतिम तिथि 31 जुलाई तक है। इसलिए किसान अपनी फसल का बीमा तय समय सीमा में करा लें। यह बात अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) नगेंद्र शर्मा ने विकास भवन प्रांगण से फसल बीमा रथ को हरी झंडी दिखाकर गांव की ओर रवाना करने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कही। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा का जनपद में व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि कोई भी किसान फसल बीमा कराने से न छूट जाए।

इस पर है पीएम व सीएम का फोकस

इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) नगेंद्र शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को फोकस किसानों के विकास और उनकी आय दोगुनी करने पर है। बुंदेलखंड के किसानों के प्रति शासन बेहद गंभीर है। यहां खेती कार्य चुनौतीपूर्ण है। अतः दैवीय आपदा से क्षति न हो। उसके लिए अनिवार्य है कि किसान अपनी फसल का बीमा कराएं। उन्होंने कहा कि अधिसूचित फसल के स्थान पर अन्य फसल की बुवाई करते हैं तो किसान अपने बैंक फसल परिवर्तन का शपथ-पत्र अवश्य दें, ताकि पीएम किसान फसल बीमा योजना (pm kisan fasal bima yogna) के तहत उन्हें फसल क्षति का मुआवजा मिल सके।

ये बीमा कंपनी की गई है नामित

इस अवसर पर उप कृषि निदेशक कमल कटियार ने बताया कि खरीफ वर्ष २०१९-२० के लिए जिले के लिए नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड नामित की गई है। फसलों का बीमा कराने की अंतिम तिथि ३१ जुलाई निर्धारित की गई है। जिन किसानों को उड़द, मूंग, तिल, मूगफली, ज्वार, अरहर व धान की फसल का बीमा करवाना है, उन्हें अपना आधार कार्ड, खतौनी, बैंक पासबुक एवं स्वयं प्रमाणित फसल प्रमाणपत्र देना होगा। सूखा या अति बारिश के कारण बुवाई न कर पाने की स्थिति में बीमित राशि का २५ प्रतिशत तक क्षतिपूर्ति देने का प्रावधान है।

ये लोग रहे उपस्थित

इस अवसर पर किसान नेता कमलेश लंबरदार, विषय वस्तु विशेषज्ञ दीपक कुशवाहा, लल्ला सिंह, अनिल, अरविंद पिपरैया समेत अनेक किसान व अन्य विभागों के लोग उपस्थित रहे।