स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जलापूर्ति सुचारु करने में जुटे रहे जलदाय कर्मचारी

Jitendra Jaikey

Publish: Sep 16, 2019 18:56 PM | Updated: Sep 16, 2019 18:56 PM

Jhalawar

-कालीसिंध नदी के उफान से डूबा था पम्प हाउस

जलापूर्ति सुचारु करने में जुटे रहे जलदाय कर्मचारी
-कालीसिंध नदी के उफान से डूबा था पम्प हाउस
-जितेंद्र जैकी-
झालावाड़. शहर मेंं जलापूर्ति के मुख्य स्त्रोत कालीसिंध नदी के पीपाजी दह पर स्थित पम्प हाउस के नदी के उफान से डूब जाने से बाधित हुई जलापूर्ति को दुरस्त करने में सोमवार को विभाग के कर्मचारी जुटे रहे। नदी के उफान में पम्प हाउस, मोटर, विद्युत पेनल व वायरिंग आदि डूब गए थे। यहां स्थित विद्युत ट्रांसफार्मर भी क्षतिग्रस्त हो चुका था। वहीं पम्प हाउस का कक्ष भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। इससे शहर की जलापूर्ति ठप हो गई थी। जलदाय विभाग के कर्मचारी भी रास्ते में नदी के उफान के कारण पम्प हाउस तक नही पहुंच पा रहे थे। सोमवार को नदी का पानी उतरने पर कर्मचारी पम्प हाउस पहुंचे व जलापूर्ति में जुटे रहे। बाद में पम्प हाउस की प्रथम मंजिल पर अमृत योजना के तहत स्थापित किए गए विद्युत पेनल व नदी में अंडरग्राउंड वाटर प्रुफ विद्युत मोटर से जलापूर्ति सुचारु करने का प्रयास किया गया।
-मोटर व पेनल हुए खराब
पम्प हाउस पर लगी दोनो मोटर पानी में डूबने से खराब हो गई। कक्ष में लगे दोनो विद्युत पेनल खराब हो गए। यहां विद्युत ट्रांसफार्मर में भी खराबी आ गई थी। सोमवार को सबसे पहले विद्युत कर्मचारी ने ट्रंासफार्मर को ठीक कर विद्युत सप्लाई शुरु की। इसके बाद जलदाय विभाग के कर्मचारियों ने अमृत योजना में लगी मोटर व पेनल को शुरु कर जलापूर्ति सुचारु की। लेकिन फिर भी कुछ क्षेत्रों में जलापूर्ति नही हो सकी।
-कक्ष हुआ क्षतिग्रस्त कभी भी हो सकता है हादसा
कालीसिंध नदी के पीपाजी दह के किनारे पर जलदाय विभाग का पम्प हाउस स्थित है। नदी के उफान से यहां निर्मित कक्ष क्षतिग्रस्त हो गया। इसकी दीवारों में बड़ी बड़ी दरारे चल गई। इससे यहां कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।
-जलापूर्ति सुचारु करने का प्रयास कर रहे है
इस सम्बंध में पम्प हाउस पर जलापूर्ति सुचारु करने की मशक्कत करते जलदाय विभाग के कनिष्ठ अभियंता आर.एन.पंकज का कहना है कि नदी के उफान में पूरा पम्प हाउस डूब गया था। आज नदी का पानी उतरने पर कर्मचारी जलापूर्ति ठीक करने में जुटे है। नदी में डूबने से दोनो मोटरे व दोनो विद्युत पेनल खराब हो गए। अमृत योजना के तहत नदी के लगाई अंडरग्राउड वाटर प्रुफ मोटर को व प्रथम मंजिल पर लगाए विद्युत पेनल को शुरु कर जलापूर्ति सुचारु करने का प्रयास कर रहे है। कक्ष भी क्षतिग्रस्त हो गया। इसे भी ठीक करवाने का प्रयास किया जाएगा। शहर में छापी परियोजना की पाइप लाइन से जलापूर्ति सुचारु हो गई है। कुछ जगह बाधित होने से टेंकर से पेयजल पहुंचा दिया गया है। मंगलवार से पूरे शहर मेें जलापूर्ति सुचारु हो जाएगी।
-टेंकर से हुई जलापूर्ति
झालावाड़. जलदाय विभाग के कालीसिंध नदी के पीपाजी दह पर स्थित पम्प हाउस के डूबने से शहर में जलापूर्ति ठप हो गई थी। सोमवार को विभाग की ओर से कई प्रभावित क्षेत्रों मेंं टंकरों से जलापूर्ति की गई। नगर परिषद के वार्ड 35 की पार्षद अमरीन कुरैशी ने बताया कि गत तीन दिनों से वार्डवासी पानी के लिए परेशान रहे। उन्होने विभाग के अधिकारियों से वार्ता कर वार्ड में टेंकरों की व्यवस्था की। इस दौरान इमामबाड़ा, कसाई मोहल्ला, तम्बोली मोहल्ला, हरिजन मोहल्ला आदि में टेंकर से जलापूर्ति हुई इससे लोगों ने राहत महसूस की।