स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गहलोत के अब 'उड़नखटोला' पर वसुंधरा राजे, कहा- 'अब भी भयावह है मंज़र'

Nakul Devarshi

Publish: Sep 19, 2019 11:14 AM | Updated: Sep 19, 2019 11:18 AM

Jhalawar

Vasundhara Raje aerial survey of flood affected areas: मुख्यमंत्री Ashok Gehlot के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री Vasundhara Raje ने हेलीकॉप्टर से बाढ़ प्रभावित क्षत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान उन्होंने झालावाड़-बारां सहित चम्बल नदी के आस-पास के क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया और जलभराव वाले क्षेत्रों को चिन्हित किया।

जयपुर।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हेलीकॉप्टर से बाढ़ प्रभावित क्षत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान उन्होंने झालावाड़-बारां सहित चम्बल नदी के आस-पास के क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया और जलभराव वाले क्षेत्रों को चिन्हित किया।

उन्होंने बारां शहर, बरखेड़ी, पीपलखेड़ी, सुनेल, अरनिया, आकोदिया, गंगधार व चौमहला सहित विभिन्न गांवों में जलभराव के कारण हुए नुकसान का निरीक्षण कर प्रभावित क्षेत्रों में शीघ्र सहायता पहुंचाने के संबंध में एक संक्षिप्त रिपोर्ट भी तैयार करवाई।

हवाई सर्वेक्षण के बाद पूर्व सीएम राजे ने कहा, कि हाड़ौती में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के हवाई सर्वेक्षण के दौरान भयावह मंजर को देखकर चिंतित हूं। पानी ने चारों तरफ ऐसी तबाही मचाई है कि कई जगह पूरे गांव के गांव पानी में डूब गए हैं। लोगों के पास खाने का सामान तक नहीं बचा है।


उन्होंने कहा, 'बारिश ने किसानों के अरमानों पर पूरी तरह पानी फेर दिया है। प्रथम दृष्टया फसलों का 70-80% नुकसान हो चुका है। वहीं सोयाबीन, मक्का, उड़द जैसी फसलें पूरी तरह नष्ट हो चुकी है। झालावाड़-बारां जिले में 700 से अधिक मकान क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जिसके चलते हजारों लोग बेघर हो गए हैं।'


सरकार पर साधा निशाना पूर्व सीएम राजे ने कहा, 'बाढ़ को लेकर राज्य सरकार से सिर्फ एक ही आश्वासन मिल रहा है कि हम हालात पर नजर रखे हुए हैं तथा राहत व बचाव कार्य में कमी नहीं आने दी जाएगी। लेकिन सरकार को समझना होगा कि सिर्फ आश्वासनों से लोगों के उजड़े हुए घर वापस नहीं बस सकते, सरकार को धरातल पर उतरकर लोगों की मदद करनी होगी।'


55 लाख रु का चंदा एकत्रित
राजे ने कहा, 'मुझे खुशी है कि मेरी अपील पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने 55 लाख रु का चंदा इकट्ठा कर बाढ़ पीड़ितों तक आर्थिक सहायता पहुंचाने का काम किया है। मैं उन सभी भामाशाहों का आभार व्यक्त करती हूं जिन्होंने प्राकृतिक आपदा की इस घड़ी में मदद के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाए हैं। मैं राज्य सरकार से आग्रह करती हूं कि यथाशीघ्र बाढ़ प्रभावितों को राहत और मुआवजा प्रदान कर जन-जीवन सामान्य बनाने में मदद करें। साथ ही प्रदेश की जनता से भी मेरी अपील है कि संकट की इस घड़ी में आप भी हरसंभव सहायता करने का प्रयास करें।'

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रदेश के कोटा, बूंंदी, झालावाड़ और धौलपुर जिले मेें बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे किया था।

ashok gehlot

गहलोत ने हेलीकाप्टर से इन क्षेेत्रों का दौरा कर सर्वे करते हुए हालात की जानकारी ली। सर्वे के बाद गहलोत ने कहा कि हालात पर नजर रखी जा रही है और प्रभावित क्षेत्रों में पूरी मदद पहुंचाई जा रही है। उन्होंने कहा कि हम सभी कदम उठा रहे हैं ताकि लोगों को राज्य में किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े।