स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हजारों धरतीपुत्रों की जगी उम्मीदें

Hari Singh Gujar

Publish: Jan 21, 2020 11:52 AM | Updated: Jan 21, 2020 11:52 AM

Jhalawar

 

- सरकार कराती है दस लाख रुपए तक का बीमा
- सलाहकार नियुक्ति पर कवायद शुरू
- दिन-रात किसान खतरे के बीच काम करते है

झालावाड़.सहकारिता विभाग जिले में इस बार 80 हजारसे अधिक नए किसानों का दस लाख रूपए तक का दुर्घटना बीमा कराएगा। वहीं में प्रदेश में इस वर्ष साल चार लाख से अधिक किसानों का बीमा होगा। अभी तक राज्य सरकार के स्तर पर दुर्घटना बीमा में देरी हो रही थी। लेकिन अब सलाहकार नियुक्ति की प्रक्रिया तेज होने से किसानों को आस बंदी है। किसान हर रोज रात-दिन में खतरे के बीच काम करता है।

ऐसे में कभी किसी किसान के साथ कोई दुर्घटना होने पर बीमा नहीं होने से आर्थिक सहायता नहीं मिल सकती है।


बता दें कि इससे पहले किसानों का 5 लाख रूपए तक का दुर्घटना बीमा होता था। ये वे ऋणी किसान है, जो हाल ही में सहकारी समितियों से नया ऋण लेकर जुड़े हैं। इसके लिए राज्य सरकार ने सलाहकार नियुक्ति की कवायद शुरू कर दी है। सलाहकार की नियुक्ति के बाद किसानों का बीमा कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में अपेक्स बैंक की छवि खराब होने के बाद इस बार बीमा कंपनियों ने दूरी बना ली है।सरकार ने इसके लिए दो बार टेंडर जारी किए, लेकिन एक भी कंपनी आगे नहीं आई। ऐसे में अब सरकार ने फैसला किया है कि किसी सलाहकार को नियुक्त किया जाए। जो नए ऋणी किसानों का दुर्घटना बीमा करवा सके।

योजना का लाभ मिले-
हाल में सहकारिता विभाग द्वारा घोषणा की गई थी कि जिन किसानों को योजना का लाभ नहीं मिल रहा है, उन्हें तुरंत लाभ मिले, इसके लिए सलाहकार नियुक्त किया जा रहा है। अपेक्स बैंक की ओर से कंसलटेंट नियुक्ति के लिए टेंडर किए गए है। इसमें शर्त रखी गई है कि सलाहकार की पूरी जिम्मेदारी होगी कि वह नए किसानों का दुर्घटना बीमा कराए। और जरूरत पडऩे पर उन्हें क्लेम की राशि का भुगतान करवा सके। इसके लिए कंसलटेंट को पंाच वर्ष का अनुभव होना जरूरी होगा। पिछली सरकार के कार्यकाल में जिन किसानों का दुर्घटना बीमा कराया गया था, उनमें करीब पांच लाख किसानों का क्लेम आज तक नहीं मिल पाया है। जिले मेें इस बार करीब 80 हजार से अधिक किसानों का दुर्घटना बीमा व जीवन बीमा करवाया जाना है।

ऋणी किसानों को मिलेगा फायदा-
जिन ऋणी किसानों की खेत में काम करते समय अकाल मौत हो जाती है, उन किसानों को अब 5 लाख की बजाए 10 लाख की बीमा राशि का भुगतान किया जाएगा। इनमें करंट, सर्पदंश, दुर्घटना और आग में झुलसने से मौत के मामले में शामिल है। योजना के तहत किसी भी किसान के खेत में काम करते समय घायल होने या मौत होने पर 10 लाख रुपए तक का क्लेम मिलेगा।

केन्द्रीय सहकारी बैंक ऋणी किसान
अकलेरा 5413
असनावर 2358
बकानी 7032
भ.मंडी 5960
चौमहला 2560
डग 3269
झालावाड़ 1689
झालरापाटन 5737
खानपुर 8724
मनोहरथाना 7453
पगारिया 4489
पिड़ावा 10455
रायपुर 5594
सारोला 3207
सुनेल 10602

कुल 84525

-जिले में पंजीकृत किसान- 91 हजार 449

दिशा निर्देश नहीं मिले-
जिले में 80 हजार से अधिक ऋणी किसान है। लेकिन किसानों के दुर्घटना बीमा के बारे में राज्य सरकार से अभी कोई दिशा निर्देश नहीं आए है। सूचना आने के बाद 2019-20 का बीमा की राशि किसानों के खाते से काटकर संबंधित कंपनी को जमा करानी होती है। इससे कभी कोई दुर्घटना होने पर किसान को आर्थिक सहायता मिल जाती है।


रामनिवास मीणा, मैनेजर केन्द्रीय सहकारी बैंक, झालावाड़।

[MORE_ADVERTISE1]