स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मूर्ति का चौला हटा, बाल हनुमान का स्वरूप देखने उमड़ पड़े भक्त

Arun Tripathi

Publish: Jul 20, 2019 15:48 PM | Updated: Jul 20, 2019 15:48 PM

Jhalawar

दादाबाड़ी स्थित मंदिर में 1892 में स्थापित मूर्ति

झालरापाटन. कस्बे के दादाबाड़ी स्थित मंदिर में जीर्णोद्धार के दौरान शुक्रवार को बालहनुमानजी की प्राचीन मूर्ति का मूल स्वरूप दिखाई दिया। चंद्रावती ग्रोथ सेंटर इण्डस्ट्रीज एसोसियशन अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा ने बताया कि दादाबाड़ी परिसर में प्राचीन हनुमान मंदिर है, यहां 1892 में स्थापित हनुमानजी की मूर्ति की श्रद्धालु सेवापूजा करते चले आ रहे हंै। पुराने समय में प्राचीन मूर्ति पर चढ़ाए गए चोले पर हर वर्ष चोला चढ़ाया जाता है। परिसर में ही बनाए चबूतरे पर जीर्णोद्धार के तहत शुक्रवार को हनुमानजी की प्राचीन मूर्ति को निकाला जा रहा था, इसी दौरान मूर्ति के ऊपर चढ़ा चौला हट गया, इससे मूर्ति का मूल स्वरूप नजर आया, इसे देखकर श्रद्धालु आश्चर्यचकित रह गए। इसकी जानकारी मिलने पर मंदिर में दिनभर मूर्ति को देखने आने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।

दो साल कारावास की सजा बरकार
अकलेरा. करीब सात साल पहले लापरवाही से बस चलाने के मामले में सुनाई सजा के विरुद्ध अपील को खरिज किया। अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश असीम कुलश्रेष्ठ ने अभियुक्त अब्दुल करीम निवासी बकानी की ओर से अधीनस्थ न्यायालय सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट अकलेरा में बस को गफलत एवं लापरवाही से चलाकर पलटने के मामले में अपील को खारिज कर दिया। 2 जून 2008 को परिवादी शिवनारायण पुत्र हीरालाल कुम्हार निवासी बैरागढ़ ने सीएचसी अकलेरा में किलेदारसिंह एएसआई पुलिस थाना अकलेरा को पर्चा बयान में बताया कि वह शाम करीब 4 बजे अकलेरा से बस में बैठकर बैरागढ़ आ रहा था। बैरागढ़ से कुछ दूर पहले बस के चालक अब्दुल करीम ने बस को तेजगति व लापरवाही से चलाकर पलट दिया। इससे बस में सवार यात्रियों ओर उसके शरीर पर भी कई चोटें आई। यात्रियों में से विष्णु शर्मा की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। अब्दुल करीम के खिलाफ अपराध में अधीनस्थ न्यायालय में आरोप पत्र पेश किया। इस पर बाद विचार अधीनस्थ न्यायालय ने अभियुक्त अब्दुल करीम को दोषसिद्ध करार देते हुए 3 माह के साधारण कारावास व सौ रुपए के अर्थदंड से दण्डित किया।

10 साल पुराने मामले में राजीनामा कराया
भवानीमंडी. उप जिला मजिस्ट्रेट के समक्ष करीब 10 वर्ष पूर्व मुखर्जी नगर में संचालित सिलाई कारखाने से उत्पन्न ध्वनि प्रदुषण से परेशान राजेश शर्मा द्वारा वाद दायर करने के बाद उपखण्ड मजिस्ट्रेट राजेश डागा ने शुक्रवार को समझौता कराया। 22 जुलाई 2010 को दायर वाद में बताया कि मुखर्जी नगर में पारसमल लोढ़ा द्वारा सिलाई कारखाने का संचालन किया जा है। उपकरणों की आवाजों से ध्वनि प्रदुषण हो रहा है। शुक्रवार को उप जिला मजिस्ट्रेट ने मौका निरीक्षण कर कारखाना संचालक जनरेटर नहीं चलाने एवं मशीनों को पीछे के कमरों में स्थनान्तरित करने के आदेश दिए। इस पर डागा ने दोनों पक्षों के बीच राजीनामा कराया।

ग्रामीणों से झड़प के बाद पुलिस ने की फायरिंग, युवक घायल
-खानपुरिया में गुना जिले के चाचौड़ा से पुलिस पहुंची थी वारंटी पकडऩे
मनोहरथाना. थानाक्षेत्र के खानपुरिया गांव में स्थाई वारंटियों व वांछित अपराधियों को पकडऩे आई मध्यप्रदेश के गुना जिले के चाचौड़ा पुलिस और गांववालों के बीच झड़प के बाद एमपी पुलिस ने फायरिंग कर दी। इसमें खानपुरिया निवासी युवक गंभीर घायल हो गया। थानाप्रभारी धनराज मीणा ने बताया कि शुक्रवार सुबह सूचना मिली कि एमपी के गुना जिले की पुलिस किसी वारंटी एवं वांछित अपराधियों की तलाश में खानपुरिया आई थी। इस दौरान गांववासियों के बीच पुलिस की झड़प हो गई। इसमें पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी। इससे खानपुरिया निवासी गंगाराम (22) पुत्र कंवरलाल तंवर के गोली लगी। इस पर जिला पुलिस अधीक्षक व अतिरिक्त जिल पुलिस अधीक्षक को अवगत करा वे मनोहरथाना डिप्टी के साथ आ-पास के थानों के पुलिस जाप्ता के साथ मौके पर पहुंचे। फायरिंग में पुलिस की गोली से गंभीर घायल गंगाराम तंवर को मनोहरथाना इलाज के लिए रवाना किया। वहां से भी हालत गंभीर होने पर झालावाड़ एसआरजी ले जाकर भर्ती कराया।
-ये था मामला
मनोहरथाना एसएचओ और पुलिस उपअधीक्षक को ग्रामीणों ने बताया कि गांव की एक लड़की कैली बाई राज्य की सीमा के पड़ौसी गांव मध्यप्रदेश के गुना जिले के कालापीपल निवासी नारायण सिंह के साथ चली गई। इसके मामले में गुरुवार को कालापीपल गांव में समाज की पंचायत जुटी थी। इसमें कोई फैसला नहीं हुआ। इससे खानपुरिया के ग्रामीणों ने कालापीपल गांव के मकान टापर
ों में तौड़-फोड़ कर दी। जैसे ही शुक्रवार को मध्यप्रदेश की पुलिस खानपुरिया पहुंची तो उसी मामले में पुलिस के आने का कारण समझने से पुलिस व ग्रामीणों में झड़प हो गई। इस पर एमपी पुलिस ने फायरिंग कर दी। इसमें गंगाराम तंवर के गोली लगी। वहीं मौके पर से ही मनोहरथाना एसएचओ एवं पुलिस उपअधीक्षक ने चाचौड़ा थाने से फोन पर जानकारी ली। चाचौड़ा एसएचओ रामशर्मा ने बताया कि पुलिस कालापीपल में स्थाई वारंटियों को पकडऩे गई, तो वे खानपुरिया गांव की ओर भागे। उनका पीछा करते हुए पुलिस खानपुरिया पहुंच गई। खानपुरिया वालों ने समझा कि उन्हे पकडऩे आई है। झड़प के बाद बचाव में फायरिंग कर जान बचाकर भागे। एसएचओ ने बताया कि समस्त जानकारी से जिला पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया।