स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

परम्परागत तरीके से मातमी धुन के बीच निकले चालिसवें के ताजिए

Jitendra Jaikey

Publish: Oct 20, 2019 15:53 PM | Updated: Oct 20, 2019 15:53 PM

Jhalawar

-युवकों ने दिखाए अखाड़े के करतब

परम्परागत तरीके से मातमी धुन के बीच निकले चालिसवें के ताजिए
-युवकों ने दिखाए अखाड़े के करतब
-जितेंद्र जैकी-
झालावाड़.चालिसवें के मोहर्रम पर रविवार को परम्परागत तरीके से मातमी धुन के बीच ताजिए निकाले गए। इस दौरान शहर में करीब तीन दर्जन ताजिए निकाले गए। दोपहर में शहर के सभी ताजिए सीमेंट रोड़ पर एकत्र हुए। यहां हुसैनी हैदरी अखाड़े के उस्ताद मेहमूद पहलवान की अगुवाई में अखाड़े के कलाकारों ने कई हेरतअंग्रेज करतब दिखाए, पट्टा बाजी व तलवाजी बाजी का प्रदर्शन किया। कई ताजियों के आगे युवकों की टोली ने ताशे व ढोल पर मातमी धुन बजाई। डीजे पर भी इस्लामी कलाम पेश किए किए। इस दौरान बड़ा बाजार सीमेंट रोड़ पर मेले जैसा महौल बना रहा। दोपहर बाद करीब तीन बजे सभी ताजिए कर्बला के लिए रवाना हुए। बड़ा बाजार से, चौथमाता मंदिर, धोकड़े के बालाजी, मल्ल मोहल्ला व गागरोन रोड़ होकर रात तक कालीसिंध नदी के काला कांकरा दह स्थित कर्बला तक पहुंचे। यहांं ताजियों को ठंड़ा किया गया।