स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भवानीमंडी में 720 के बैग के 1040 रुपए लिए

Jagdish Paraliya

Publish: Nov 16, 2019 10:54 AM | Updated: Nov 16, 2019 10:54 AM

Jhalawar

समिति ने कहा, बीज उच्च किस्म का होने से ली ज्यादा राशि

किसानों को निराश लौटना पड़ा
भवानीमंडी. क्रय-विक्रय सहकारी समिति कार्यालय पर शुक्रवार को गेहूं के बीज वितरण किया तो वहां पर एक अनार सौ बीमार की स्थिति बन गई। वितरण के लिए मात्र 225 बैग आए जो थोड़ी देर में ही बिक गए। बाकी किसानों को निराश लौटना पड़ा।
बीज वितरण किए तो उसमेें किसानों से ४० किलो के गेहूं बीज बैग के७२० रुपए कि बजाय १०४० रुपए लिए। इस पर किसानों द्वारा विरोध किया गया। इस पर उपखण्ड अधिकारी राजेश डागा व तहसीलदार रामनिवास मीणा ने मौके का जायजा लिया व अधिक रुपए लेने कि जानकारी मांगी तो विभाग द्वारा बताया कि बीज उच्च किस्म के हैं। किसान को बिल भी दिया जा रहा है।


सरकारी बीज की मांग
गेहूं की उन्नत नस्ल का बीज खुले बाजार में भी उपलब्ध है, लेकिन उसकी रेट किस्म अनुसार ज्यादा है। बीज व्यापारी राजाभाई ने बताया कि लोकवान गेहूं के बीज के 40 किलो के बैग की कीमत 1350 रुपए है, जबकि उधर सरकारी अनुदानित बीज की क्रमश: किस्म अनुसार 720 व 1040 रुपए है। जाहिर है कि सरकारी बीज की फिर भी लगभग 300 रुपए प्रति बैग सस्ता है। इससे ही किसानों की सरकारी बीज पर निगाहें हैं।


आठ दिन से भटक रहे किसान
आठ दिन से गेहंू के बीज के लिए इन्तजार कर रहे गुढ़ा गाव निवासी किसान श्याम सिह, मोयाखेड़ा गाव निवासी सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि लाइन में खड़े रहे पर हमें नहीं मिला।

मोटर बंद करते करंट लगा, किसान की मौत

सुनेल. क्षेत्र के खामणी गांव में शुक्रवार को खेत के कुएं पर मोटर बंद करते समय करंट लगने से किसान की मौत हो गई। थानाधिकारी जितेन्द्र सिंह शेखावत ने बताया कि मृतक के पुत्र दिनेश धाकड़ ने दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि पिता भगवानसिंह धाकड़ (५०) खेत पर फसल को पानी पिलाने थे, कुएं पर मोटर बंद करते समय करंट लगने से अचेत हो गए। उन्हें परिजन सुनेल चिकित्सालय लाए, जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने मृतक भगवान सिंह धाकड़ का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंपा। वहीं मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

[MORE_ADVERTISE1]

c