स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान : भीमसागर बांध के 5 गेट खोले, इलाका हुआ जलमग्न, सेलीगढ़ी धाम महादेव मंदिर पूरा डूबा

rohit sharma

Publish: Sep 12, 2019 17:03 PM | Updated: Sep 12, 2019 17:03 PM

Jhalawar

Jhalawar Bhimsagar Dam Gate Open : Monsoon 2019 Rajasthan में जमकर मेहरबान हुआ। लंबे समय से सूखे पड़े तालाब, नदियां, बांध ( Rajasthan Dam Overflow ) पानी से लबालब हो गए। वहीं, कई जिलों में तो बारिश से ये हाल रहा कि वहां बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) ने कोहराम मचा दिया। इन दिनों Jhalawar जिले में बना हुआ है। पिछले दिनों जमकर हुई बारिश के बाद कई इलाकों में हालात बेकाबू हो गए हैं।

झालावाड़। मानसून 2019 राजस्थान ( Monsoon 2019 in Rajasthan ) में जमकर मेहरबान हुआ। लंबे समय से सूखे पड़े तालाब, नदियां, बांध ( Rajasthan Dam ) पानी से लबालब हो गए। वहीं, कई जिलों में तो बारिश से ये हाल रहा कि वहां बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) ने कोहराम मचा दिया। इन दिनों झालवाड़ जिले में बना हुआ है। पिछले दिनों जमकर हुई बारिश के बाद कई इलाकों में हालात बेकाबू हो गए हैं।

बांध के गेट खोलने से जलमग्न हुआ इलाका, डूबा मंदिर
बारिश के बाद से ही जिले के भीमसागर बांध ( Bhimsagar Dam ) में भी पानी की आवक लगातार जारी है। पानी की आवक को देखते हुए भीमसागर बांध के पांचों गेट 6 घंटे के लिए खोले गए हैं। बांध के पांचों गेट खोले जाने से सेलीगढ़ी धाम महादेव मंदिर पूरा जलमग्न हो गया। मंदिर पूरी तरह पानी में डूब गया है सिर्फ मंदिर का ऊपरी हिस्सा दिखाई दे रहा है। वहीं, सेलीगढ़ी सारोला सड़क मार्ग पूरी तरह से बंद हो चुका है। सेलीगढ़ी पुलिया पर 5 फीट पानी चल रहा है। इस दौरान लोगों को काफी दिक्क्तों का सामना करना पड़ रहा है।

बांध के पास पुलिस प्रशासन मुस्तैद
फिलहाल झालावाड़ के भीमसागर गेट के पांचों गेट खोले हुए हैं। पांच गेटों में से 3 के गेट 9 फिट तक खोले गए हैं। वहीं, बांध के पुल से भी पानी बह रहा है। ऐसे में पुलिस प्रशासन भी बांध और आस-पास के क्षेत्र में मुस्तैद है।

दो दिन पहले बकानी जिला बन गया था टापू
वहीं, पिछले दो दिनों में जमकर हुई मूसलाधार बारिश का दौर झालावाड़ के बकानी में भी चला। इस दौरान चले लगातार बारिश के दौर के कारण कई गांवों का कस्बे से संपर्क टूट गया था। साथ ही खेड़ा गांव टापू बन गया। इलाके के खेत भी जलमग्न हो गए जिससे फसलों को भी भारी नुकसान पहुंचा है।