स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झालावाड़ में बाढ़ से कई घरों के सामान हुए खराब, 237 लोगों का किया रेस्क्यू, स्कूलों में सोमवार का अवकाश

kamlesh sharma

Publish: Sep 15, 2019 18:40 PM | Updated: Sep 15, 2019 18:40 PM

Jhalawar

जिले में हो रही लगातार बारिश से बाढ़ के हालात बने हुए है। हालांकि अभी नदियों व बांधों से पानी उतार पर है।

झालावाड़। जिले में हो रही लगातार बारिश से बाढ़ के हालात बने हुए है। हालांकि अभी नदियों व बांधों से पानी उतार पर है। जिले में दो दिन में 782 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। शनिवार रात व रविवार को अलग-अलग स्थानों से करीब 237 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। बाढ़ के हालात को देखते हुए जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने जिले के सभी सरकारी व निजी स्कूलों में सोमवार को एक दिन का अवकाश घोषित किया। मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि विद्यार्थियों का ही अवकाश रहेगा, जबकि स्कूल का स्टाफ स्कूल में मौजूद रहेगा आवश्यकता बढऩे पर लोगों को स्कूल भवन मुहैया करवाए जाएंगे।


जिले में 24 घंटे में झालावाड़ में 46, झालरापाटन में 44, असनावर में 15,बकानी में 36, पिड़ावा में 43, पचपहाड़ में 84, गंगधार में 224,डग में195, अकलेरा में 109, मनोहरथाना में 35, खानपुर में 14, सुनेल में 55 एमएम बारिश हो चुकी है।

जिले में अभी तक औसत बारिश 1542.50 एमएम हो चुकी है,जबकि गत वर्ष इस समय तक 905.55 एमएम ही बारिश हुई थी। काली सिंध बांध के अभी 5 गेट खोलकर 1 लाख 15 हजार 684 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है।

जिले में 237 को किया रेस्क्यू-
जिले में रोड का काम करने वाले करीब 13 मजदूर जो भिलवाड़ा में आहू नदी के पास फंसे हुए थे उन्हें रेस्क्यू किया गया, तो कलमंडी में 17, बकानी के बढ़ाय में 2, पचपहाड़ के मोगरा में 11, सुनेल के अरनिया, आकोदिया में करीब 100, झालावाड़ बृजनगर कॉलोनी में 54, धनवाड़ा में करीब 40 लोगों को रैस्क्यू किया गया है। जिले में करीब 237 लोगों को रैस्क्यू किया गया।

पुलिस रेस्क्यू टीम के प्रभारी छोटासिंह ने बताया कि रात को करीब1.30 बजे बृज नगर में एक शिक्षक घनश्याम रैगर, उसकी पत्नी शोभा, पुत्री इतिका को निकाला। उसके बाद सुबह कालीसिंध पुलिया से 7 ग्रामीणों को रैस्क्यू कर निकाला। जिले में कोटा से सेना के 70 जवान, एनडीआरएफ के 30, एसडीआरएफ के 30 जवान बुलाए गए है।

हालांकि अभी तक सेना का काम नहीं पड़ा है, लेकिन जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने कहा सेना को बुलाया गया है, लेकिन अभी जरुरत नहीं पड़ी है, धीरे-धीरे पानी कम हो रहा है। फसलों में सहित बाढ़ से नुकसान का आंकलन करवा कर मुआवजा दिलाया जाएगा।