स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद बोले CM गहलोत, पीड़ितों को मिलेगा मुआवजा

rohit sharma

Publish: Sep 16, 2019 20:21 PM | Updated: Sep 16, 2019 20:21 PM

Jhalawar

Heavy Rain Effect in Rajasthan : हाड़ौती में हुई भारी बारिश के बाद Rajasthan के Kota और Jhalawar जिला बाढ़ से प्रभावित हुआ है। इलाके में सैकड़ों मकान धाराशायी हो गए। वहीं लोग बेघर हो गए। ऐसे में स्थिति का जायजा लेने के लिए CM Ashok Gehlot, मंत्री Master Bhanwar Lal और नगरीय विकास मंत्री Shanti Dhariwal ने सोमवार को हाड़ौती के बाढ़ प्रभावित इलाके का दौरा किया।

झालावाड़। Heavy Rain Effect in Rajasthan : मध्यप्रदेश और हाड़ौती में हुई भारी बारिश के बाद राजस्थान के कोटा और झालावाड़ जिला बाढ़ से प्रभावित ( Flood in Rajasthan ) हुआ है। इलाके में सैकड़ों मकान धाराशायी हो गए। वहीं लोग बेघर हो गए। ऐसे में स्थिति का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Ashok Gehlot ), मंत्री मास्टर भंवर लाल ( Master Bhanwar Lal ) और नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ( Shanti Dhariwal ) ने सोमवार को हाड़ौती के बाढ़ प्रभावित इलाके का दौरा किया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बाढ़ प्रभावित जिलों का दौरा करने के बाद कहा कि राज्य में पांच जिले करौली, अलवर, भरतपुर, गंगानगर और हनुमानगढ़ को छोड़कर सभी जिलों में इस बार औसत से 40 प्रतिशत बारिश ज्यादा हुई है। कई जिलों में बहुत ज्यादा बारिश हुई है। अब तक राज्य में विभिन्न हादसों में 54 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से ज्यादातर को नियमों के अनुसार मुआवजा मिल चुका है। सीएम गहलोत ने कहा, मुख्य सचिव पूरे राज्य की निगरानी कर रहे हैं।

वहीं, अापदा राहत मंत्री मास्टर भंवरलाल ने कहा, आपदा नियमों के अनुसार मुआवजे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। स्वायत्त शासन मंत्री ने बाढ़ की चपेट में आए कोटा जिलों को लेकर कहा कि कोटा में रिवरफ्रंट को इस तरह डिजाइन किया जाएगा कि नदी का पानी शहर में नहीं आए। सरकार बाढ़ पीडि़तों के साथ है।

वहीं, पानी का सैलाब चारो तरफ करोड़ों की बर्बादी का मंजर छोड़ गया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सैकड़ों मकान व दुकान धराशायी हो गए। मध्यप्रदेश से पानी की आवक के बाद उफान पर आए प्रदेश के बांध और नदियों ने विकराल रूप ले लिया। इस दौरान उफान के चलते बस्तियों में पानी भर गया और इलाके में तबाही मच गई। कई लोग बेघर हो गए। मुख्यमंत्री गहलोत ने बाढ़ प्रभावित लोगों