स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झालावाड़ में बाढ़ से हालात, कई मकान गिरे, पानी में डूबी रेल की पटरियां, स्टेट हाइवे हुए बंद

Dinesh Saini

Publish: Sep 14, 2019 14:57 PM | Updated: Sep 14, 2019 14:59 PM

Jhalawar

Flood Condition in Jhalawar: झालावाड़ जिले में इन दिनों लगातार हो रही बारिश से बाढ़ के हालात ( Flood in Jhalawar ) बन रहे है। शनिवार को भी अलसुबह से ही लगातार बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) का दौर जारी है...

झालावाड़। जिले में इन दिनों लगातार हो रही बारिश से बाढ़ के हालात ( Flood Condition in Jhalawar ) बन रहे है। शनिवार को भी अलसुबह से ही लगातार बारिश ( Heavy Rain in Rajasthan ) का दौर जारी है। मध्यप्रदेश में भी हो रही लगातर बारिश से जिले में आने वाली सभी नदियों में पानी की जोरदार आवक हो रही है इससे नदियों का पानी उफान पर चल रहा है। शनिवार को इस दौरान कालीसिंध बांध के 14 गेट 84 मीटर तक खोल कर 2 लाख 91 हजार 608 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। इससे कालीसिंध नदी में भी उफान आ गया। नदी का पानी आसपास के क्षेत्र में घुस गया। रायपुर क्षेत्र के चंवली बांध पर करीब एक मीटर की चादर चल रही है। इससे आसपास के गांवों में बाढ़ के हालत बन गए। गांव हिम्मतगढ़ सहित आसपास के गांव तो टापू बन गए, वहीं झालावाड़ से इंदौर के बीच स्थित चंवली नदी का पानी शुक्रवार देर रात करीब दो बजे पुलिया पर आने से मार्ग बंद हो गया। चंवली नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। चौमहला के निकट छोटी कालीसिंध नदी मे उफान से गंगधर कस्बे के कई मोहल्लों में पानी भर गया।

चौमहला रेलवे स्टेशन पर भी रेल की पटरियां पानी में डूब गई। भीमसागर बांध के चार गेट 13 फिट खोलकर 13 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। पिड़ावा में भी चंवली नदी का पानी घुसा। डग क्षेत्र में मूसलाधर बारिश से कई कच्चें मकान गिर गए। क्यासरा गांव के निकट सडक़ पर नाले का पानी आने से भवानीमंडी मार्ग बंद हो गया। जिले में अन्य सभी जगह जोरदार बारिश से हालात बिगड़ रहे है। डग में पिछले 24 घंटे में करीब 10 इंच बरसात रिकार्ड की गई।

कालीसिंध बांध के 20 गेट खोले ( Flood Condition in Rajasthan )
कस्बे समेत क्षेत्र में शुक्रवार रात व शनिवार तडक़े झमाझम मूसलाधार बारिश हुई। झमाझम जोरदार बरसात का दौर शुरू होने से लोगों की दिनचर्या प्रभावित हुई। साथ ही खेतों में पानी भरा जाने से खरीफ की फसलों में नुकसान की आशंका बढ़ गई है। पडौसी राज्य मध्य प्रदेश में भी बारिश होने से शनिवार दोपहर 12 बजे कालीसिंध बांध के 33 में से 20 गेट 108 मीटर तक खोलकर पानी की निकासी की जा रही है। जलसंसाधन विभाग के अधिशाषी अभियंता महेंद्र कुमार जैन ने बताया कि मध्यप्रदेश में भी बारिश हो रही है। जिससे बांध में पानी की आवक तेजी से हो रही है। शनिवार दोपहर को बांध से करीब 4 लाख 11 हजार 085 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। इस मानसून सीजन में पहली बार 20 गेट खोले गए है।