स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

साबुन नहीं काली मिट्टी से मूंछों को धोते हैं चैम्पियन धन्नालाल

Arun Tripathi

Publish: Nov 13, 2019 15:37 PM | Updated: Nov 13, 2019 15:37 PM

Jhalawar

-रंगोली, मेहंदी, मूंछ, म्यूजिकल चैयररेस व साफा बंधन प्रतियोगिताएं हुई

झालरापाटन. राजस्थान पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन की ओर से चंद्रभागा कार्तिक मेले के रंगमंच पर हुई मूंछ प्रतियोगिता में धन्नालाल गुर्जर चैम्पियन बने। प्रतियोगिता में कई प्रतिभागियों ने भाग लिया। निर्णायकों के नाप में गुर्जर की मूंछों की लंबाई सबसे ज्यादा निकली। इस पर उन्हें प्रथम विजेता घोषित किया। गुर्जर रोजाना मूछों पर नारियल का तेल लगाते हैं और सोते समय मूंछों को कपड़े में लपेट कर बांध देते है ताकि टूटे नहीं। मूंछों के साबुन नहीं लगाते काली मिट्टी से धोते हैं। प्रतियोगिता में द्वितीय गुना पटना बाड़ी निवासी मुंशीलाल व तृतीय देवरीमान निवासी रामकिशन व चतुर्थ झालरापाटन निवासी आकाश कलोसिया रहे।
-रंगोली प्रतियोगिता
रंगोली प्रतियोगिता में महिला व बालिकाओं ने चावल, लकड़ी के बुरादे, रंगीन चिप्स से रंगोलियां बनाई। प्रथम निशा ओम गुप्ता, द्वितीय ज्योति जिंदल, तृतीय पूजा, रेणु, पलक, ममता का चयन नेचुरल रंगोली के आधार पर किया।
-राजपूती साफे की शान
मेले के रंगमंच पर शाम को हुई साफा बांधो प्रतियोगिता में तय समय में साफा बांधने वाले तीन जनों का चयन किया। इनमें प्रथम झालरापाटन निवासी विनित कुमार राठौर, द्वितीय महिपाल सोलंकी व हर्षित शर्मा, तृतीय गुलाबचंद रहे।
-मेहंदी प्रतियोगिता
मेहंदी प्रतियोगिता में प्रथम पूजा सोनी, द्वितीय कमलेश कुमारी बैरवा, तृतीय खुशबू पहाडिय़ा रहीं।
-पावणो ने भी दिखाया दमखम
रंगमंच पर विदेशी सैलानियों की म्यूजिकल चैयररेस हुई। जिसमें प्रथम इंग्लैण्ड की सिल्विया, द्वितीय लोरेल, तृतीय जैकी, चतुर्थ मैरी रहे। विजेताओं को पर्यटन विभाग की और से प्रमाण-पत्र दिए।

सेहत के राज से जीती बाजी
पशु पालन विभाग के तत्वावधान में आयोजित राज्य स्तरीय चंद्रभागा कार्तिक मेले में मंगलवार को पशु प्रतियोगिता हुई। अश्ववंश घोड़ी प्रजनन में प्रथम पिड़ावा तहसील के मगीसपुर निवासी भैरूलाल गुर्जर, द्वितीय कोटा जिले के दीगोद तहसील के गंाव गंदीफली निवासी राजू सुमन, तृतीय रायपुर तहसील के गंाव सुवांस निवासी लक्ष्मीनारायण दांगी, सांत्वना बारां निवासी जयप्रकाश नागर, अश्ववंश घोड़ा सांड में प्रथम बकानी तहसील के बकानीखेड़ा निवासी हंसराज शर्मा, द्वितीय रायपुर तहसील के गंाव सुवांस निवासी हरिराम दांगी, तृतीय मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले के बडनगर निवासी दीपक जाट, सांत्वना निमोदा निवासी कन्हैयालाल गुर्जर, अश्ववंश बछेरा बछेरी में प्रथम सुनेल तहसील के सलोतियां निवासी भगवान सिंह दांगी, द्वितीय मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले की श्यामगढ़ तहसील के बकानी निवासी रामनारायण मीणा, तृतीय रायपुर तहसील के गंाव सुवांस निवासी बजंरग सिंह राजपूत, सांत्वना कोटा जिले के लटूरी निवासी गुलाबचंद राव, उष्ट्र वंश ऊंट सवारी में प्रथम पाली जिले के तोगावास निवासी हरिराम रायका, द्वितीय भीलवाड़ा जिले के चेनपुरा निवासी देवाराम रायका, तृतीय पाली जिले के ठाकुरला निवासी नारायणलाल रायका, उष्ट वंश ऊंट सांड में प्रथम खानपुर तहसील के शिवनगर ढाणी निवासी महेन्द्र रायका, द्वितीय आवर तहसील के पचपहाड़ निवासी फारूख, तृतीय जयपुर जिले की मावली तहसील के नुरड़ाढाणी निवासी बद्रीलाल रायका,सांत्वना में पाली जिले की जेतारण तहसील के गंाव बस्सी निवासी शंकरलाल रायका के पशु विजेता रहे।

परम्परागत वाद्य यंत्रोंं के साथ छेड़ी सुरीली तान
-चन्द्रभागा मेले में गूंजा धोरों का संगीत
-बाड़मेर व पाली के लोक कलाकारों ने प्रस्तुत किए परम्परागत लोकगीत
पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन के तत्वावधान में चंद्रभागा कार्तिक मेले में रात को चन्द्रभागा नदी के तट पर आयोजित लोकरंग समागम कार्यक्रम की सुरमयी शाम में राजस्थानी लोक कलाकारों की प्रस्तुतियों का श्रोताओं ने जमकर आनन्द लिया।
कलाकारों ने परम्परागत वाद्य यंत्रोंं के साथ सुरीली तान छेड़ी तो मौजूद लोग मंत्र मुग्ध हो गए। कोटा की संजय एण्ड पार्टी के गणेश वंदना के साथ कार्यक्रम की शुरूआत हुई। कलाकारों ने कटपुतली, चरी नृत्य, पाली की गंगा देवी एंड पार्टी के कलाकारों ने कामड़ जाति के लोगों द्वारा रामदेव की आराधना गीत 'म्हारो हेलो सुनो रामापीरÓ पर तेरह ताली नृत्य किया। इसमें कलाकार ने ढोल-मंजिरे की थाप पर मुंह पर धारदार तलवार रखकर सिर पर चरी रख नृत्य की शानदार प्रस्तुति दी व ओ म्हारी नखराली नार...,गीत पर घूमर नृत्य प्रस्तुत किया।
बाड़मेर के गौतम परमार एंड पार्टी के कलाकारों ने आओ जी जवांई जी पांवणा..., गीत पर चकरी लोक नृत्य की प्रस्तुति दी। बाड़मेर के खातू सपेरा एण्ड पार्टी ने अरे रे रे छोरी म्हने..., काल्यो कूद पड्यो मेला में रे..., चमक चम चमके रे चुंदड़ी बंजारा रे... गीत पर कालबेलिया नृत्य प्रस्तुत किया। शाहबाद की हरिकेश सिंह एंड पार्टी के कलाकारों ने मेरी शारदा भवानी..., होलिया में उड़े रे गुलाल..., गीत पर सहरिया नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकोंं का जमकर मनोरंजन किया। बारां की अमित एंड पार्टी ने मांगलिक कार्य पर किए जाने वाला चरी नृत्य प्रस्तुत किया। इसमें कलाकारों ने म्हारी सवा लाख री लूम गम गई रे..., गीत पर सिर पर आग जलाकर व मटकी रखकर नृत्य की प्रस्तुति दी। कोटा की जुगल किशोर एंड पार्टी के कलाकारों ने वर्तमान में बदलते परिवेश, खानपान व संस्कृति पर कटाक्ष करते हुए कान्ह गवाली नृत्य की प्रस्तुति के माध्यम से भारतीय संस्कृति को बनाए रखने की सीख दी। कार्यक्रम में नगरपालिका अध्यक्ष अनिल पोरवाल, उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश लाला राठौर, पार्षद नवीन मेघवाल अधिशाषी अधिकारी महावीर सिंह सिसोदिया भी मौजूद थे। संचालन डॉ. रेणु श्रीवास्तव ने किया।

[MORE_ADVERTISE1]

c