स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इमारत खड़ी कर दी, अब विद्युतीकरण का पैसा नही...

Jitendra Jaikey

Publish: Oct 20, 2019 19:18 PM | Updated: Oct 20, 2019 19:18 PM

Jhalawar

-एक साल बाद भी अधूरे ऑडिटोरियम का निर्माण अटका
-राजकीय महाविद्यालय में टेंट लगा कर करने पड़ते है आयोजन

इमारत खड़ी कर दी, अब विद्युतीकरण का पैसा नही...
-एक साल बाद भी अधूरे ऑडिटोरियम का निर्माण अटका
-राजकीय महाविद्यालय में टेंट लगा कर करने पड़ते है आयोजन
-जितेंद्र जैकी-
झालावाड़. राजकीय महाविद्यालय में सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के तहत चार करोड़ रुपए की लागत से ऑडिटोरियम का निर्माण किया जा रहा है। इसका निर्माण 21 सितम्बर 2018 तक पूरा करना था लेकिन इसके निर्माण की कार्यकारी एजेंसी सार्वजनिक निर्माण विभाग को योजना के तहत जिला परिषद की ओर से इस वर्ष मार्च तक तीन करोड़ रुपए ही उपलब्ध हो सके। इसके तहत ऑडिटोरियम की इमारत तो करीब करीब बन गई लेकिन सार्वजनिक निर्माण विभाग के विद्युत खंड वालों ने भवन में विद्युतीकरण के लिए 8 मार्च 2019 को 88 लाख 14 हजार की मांग रख दी। इस पर सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से महाविद्यालय के प्राचार्य को 9 अप्रेल 2019 को पत्र लिखकर विद्युत खंड़ के पत्र के आधार पर 88.14 लाख रुपए उपलब्ध कराने को कहा। इस दौरान भवन का काम अटक गया। वही जिला परिषद का कहना है कि कार्यकारी ऐजेेंसी को नियम के अनुरुप स्वीकृत राशी का करीब 80 प्रतिशत उपलब्ध करा दिया गया है। अगर वह पूर्णता प्रमाण पत्र या समायोजन का पत्र देगें तो शेष राशि उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाएगा। वहीं सार्वजनिक निर्माण विभाग का कहना है कि बजट के लिए शीघ्र प्रयास किया जाएगा।
-अभी टेंट में करते पड़ते है आयोजन
वर्तमान में राजकीय महाविद्यालय में छात्रसंघ शपथ ग्रहण कार्यक्रम हो या बड़ा सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि के लिए महाविद्यालय परिसर में टेंट लगा कर व कुर्सिया आदि लगा कर कार्यक्रम किया जाता है, इसमें खर्चा भी बहुत आता है।
-यह है निर्माण कार्य की जानकारी
सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से राजकीय महाविद्यालय में 4 करोड की लागत से 22 सितम्बर 2017 को ऑडोटोरियम का निर्माण कार्य शुरु किया गया था इस काम को पूरे एक वर्ष में 21 सितम्बर 2018 को पूरा करना था लेकिन एक वर्ष बीत जाने के बाद भी अभी तक ऑडोटोरियम का निर्माण काम पूरा नही हो सका है।
-इस तरह बनेगा ऑडोटोरियम
राजकीय महाविद्यालय के पीछे ऑडिटोरियम में जाने के लिए सड़क किनारे से दायीं व बायीं ओर से दो द्वार बनाए जाएगे। इसके बाद परिसर में पार्किग स्थल होगा। मुख्य ऑडिटोरियम में जाने से पहले पोर्च होगा व सिढिय़ां चढ़ कर ऑडिटोरियम में प्रवेश किया जा सकेगा। यहां सबसे पहले स्वागत कक्ष का हॉल होगा इसके आसपास टायलेट की सुविधा व नीचे रसोईघर होगेें। इसके बाद मुख्य ऑडिटोरियम में प्रवेश के लिए तीन दरवाजे होगे। मुख्य ऑडिटोरियम के ऊपर टीन शेड़ होगा व आसपास दिवारे बनाई जा रही है। ऑडिटोरियम गोलाकार होगा व इसमें 40 बाई 25 का व करीब 25 फिट ऊंचा स्टेज बनाया गया है। स्टेज से ऑडिटोरियम में ऊपर की ओर जाती कुर्सिया फिट होगी, जिस पर बैठ कर दर्शक कार्यक्रम का आनंद उठा सकेगे। मंच के दोनो ओर चेंजिग रुम होगे इसमें महिला व पुरुष के अलग अलग होगे। यहां दोनो ओर टायलेट की भी सुविधा रहेगी।
-अंदर तक जाएगी अतिथियों की गाड़ी
राजकीय महाविद्यालय के इस मुख्य ऑडिटोरियम के बायी ओर द्वार होगा जहां तक अतिथियों के वाहन जा सकेगे। अतिथि वाहन से उतर कर सीधे मंच पर प्रवेश कर सकेगे।
-बहुत सुविधा हो जाएगी
इस सम्बंध में राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य बी.सी.मीणा ने बताया कि राजकीय महाविद्यालय में नये ऑडिटोरियम हेण्ड ओवर होते ही हम इसें कार्यक्रम के लिए उपयोग में ले लेगे इससे बहुत सुविधा हो जाएगी। वर्तमान में टेट आदि लगाकर बड़े कार्यक्रम करने पड़ते है वहीं छोटे कार्यक्रम संगोष्ठी आदि कक्षा कक्षों में करने पड़ते है। नये ऑडिटोरियम में सारी सुविधा वेलसेट रहेगी बस अब तो इसके पूरी तरह तैयार होकर हेण्ड ओवर होने का इंतजार है।
-बजट उपलब्ध होने पर पूरा होगा काम
इस सम्बंध में सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीशाषी अभियंता आर.के.सोनी का कहना है कि राजकीय महाविद्यालय में ऑडिटोरियम के निर्माण में अभी तीन करोड़ रुपए ही उपलब्ध हो पाए है। अब विद्युतीकरण का काम बाकी है। बजट के लिए शीघ्र पूरी औपचारिता कर ली जाएगी और इसका बजट आते ही काम शीघ्र पूरा कर दिया जाएगा।