स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रवेश राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय में लिया है, हमें डिग्री भी इसी नाम से चाहिए

Arun Tripathi

Publish: Sep 12, 2019 15:51 PM | Updated: Sep 12, 2019 15:51 PM

Jhalawar

राजकीय शब्द हटाने को लेकर हंगामा, छात्रों का प्रदर्शन

झालरापाटन. राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय के नाम से राजकीय शब्द हटाएने व अन्य समस्याओं को लेकर विद्यार्थियों ने गेट पर ताला लगाकर नारेबाजी व विरोध प्रदर्शन किया। 3 घंटे तक लगातार प्रदर्शन के बाद अधिकारियों के समझाने पर गेट का ताला खोला।
सुबह विद्यार्थियों को तकनीकी शिक्षा विभाग जयपुर के संयुक्त निदेशक की और से 27 अगस्त 2019 को झालावाड़ सहित राज्य के 9 अभियांत्रिकी महाविद्यालयों के साथ राजकीय शब्द का उपयोग नहीं कर सोसायटी मोड में संचालित अभियांत्रिकी महाविद्यालयों के साथ अब एन ऑटोनोमस इंस्टीट्यूट ऑफ गर्वमेंट ऑफ राजस्थान का प्रयोग किया जाना सुनिश्चित करने के जारी आदेश की सूचना मिली।
--स्टाफ को भी अंदर नहीं जाने दिया
छात्र सुबह 10 बजे विरोध में गेट पर एकत्र हो गए और मुख्य द्वार का ताला लगाकर प्राचार्य सहित अन्य स्टाफ को भी अंदर जाने से रोक दिया। एबीवीपी के विशाल नामदेव, राहुल गुर्जर, अक्षय पांचाल, छात्र नेता आमीर हुसेन, सौरव मीणा, अमित पटेल, सोयब अली, पूजा विश्वकर्मा, भावना मीणा की अगुवाई में छात्र एवं छात्राओं ने राज्य सरकार व जिला प्रशासन के विरोध में नारेबाजी की। प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने गेट के सामने टायर जलाए। इसी दौरान वहां पहुंचे महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. करतार सिंह ने प्रदर्शनकारियों को समझाते हुए गेट खोलने को कहा, लेकिन वे सहमत नहीं हुए।
--सरकार धोखा दे रही
प्रदर्शनकारियों ने बताया कि उनके यहां पर संचालित निजी अभियांत्रिकी महाविद्यालय में दाखिला छोड़कर राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय में प्रवेश लेकर यहां अध्यन कर रहे हैं। इनमें से बीटेक के कई विद्यार्थियों को 3 वर्ष तक राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय की अंक तालिकाएं मिली हैं और अब इस निर्णय के बाद अभियांत्रिकी महाविद्यालय की तालिका व डिग्री ही मिलेगी। इससे उन्हें आगे नौकरी करने में असुविधा होगी। सरकार विद्यार्थियों के साथ धोखा कर रही है। महाविद्यालय प्रत्येक छात्र से हर वर्ष विकास शुल्क के नाम पर 21 हजार रुपए वसूल कर रहा है, जबकि विकास के नाम पर कोई सुविधा नहीं है। छात्रावास में रहने वाले विद्यार्थियों को मूलभूत सुविधाओं के लिए भी तरसना पड़ता है। पार्किंग की व्यवस्था सही नहीं है, आएदिन वाहन चोरी होते हैं। महाविद्यालय परिसर में छात्रानुपात में गार्ड की सुविधा नहीं है।
--प्रदर्शनकारी नहीं माने
सूचना पर तहसीलदार हरजिंदर ढिल्लन, शहर थाना प्रभारी जगदीश प्रसाद पुलिस बल के साथ पहुंचे, जिन्होंने प्रदर्शनकारियों को गेट खोलने व बैठकर वार्ता करने को लेकर 1 घंटे तक समझाया, लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं माने।
--कलक्टर से वार्ता पर सहमत
तहसीलदार ने कहा कि वह विद्यार्थियों की भावना को समझ रही हैं इसके लिए वह विद्यार्थियों के प्रतिनिधिमंडल व प्राचार्य को साथ लेकर कलक्टर से मुलाकात कर उन्हें हालात से अवगत कराने को तैयार हंै। महाविद्यालय में बैठ कलक्टर को दिया जाने वाला पत्र तैयार करने की बात पर प्रदर्शनकारी सहमत हुए। इसके बाद तहसीलदार ने उनके प्रतिनिधियों को साथ ले जाकर प्रशासनिक भवन में बैठ सहमति से राज्य सरकार के नाम कलक्टर को दिया जाने वाला पत्र तैयार कराया और गेट पर आकर इसकी सूचना दी। इस पर प्रदर्शनकारियों ने आंदोलन स्थगित करने की घोषणा कर गेट खोल दिए। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि समस्या का उचित समाधान नहीं होने पर वह इस अंादोलन को फिर से तेज कर सकते हैं।

म्हारे कीर्तन में रस बरसाओ आओजी गजानन्द आओ...
--सांस्कृतिक संध्या में देर रात तक डटे रहे श्रोता
झालरापाटन. बड़ा मन्दिर बालाजी सेवादल के तत्वावधान में जलझूलनी एकादशी महोत्सव के तहत रात द्वारिकाधीश मंदिर परिसर में माइकल जोन एंड पार्टी के कलाकारों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां देकर दर्शकों को देर रात तक बांधे रखा।
सेवादल अध्यक्ष गुड्डीलाल शर्मा, संरक्षक पंडित सुरेश शर्मा, तूफान गुर्जर, ब्रजेश शर्मा, जीवन, रामबाबू शर्मा, दीपक शर्मा, राधेश्याम चौरासिया, सुरेश गर्ग, गुड्डा सेन, ईश्वर खत्री, नितेश परमार, राजेन्द्र शर्मा, सुनील सोनी मौजूद रहे। इस दौरान मां सरस्वती व हनुमानजी की आरती हुई।
--आया बप्पा मोरिया
कलाकारों के म्हारे कीर्तन में रस बरसाओ आओजी गजानन्द आओ..., गणपति राखो मेरी लाज ..., भजन व एक बार आओजी बाबा जी म्हारे आंगणे .
.., पूजन के साथ कार्यक्रम की शुरूआत हुई। नन्हे कलाकारों ने आया बप्पा मोरिया..., नवदुर्गा आए गिरी नंदिनी..., तेरी मिट्टी में मिल जाऊ..., संदेशे आते हंै..., चिठ्ठी आई रे..., जैसे देश भक्ति गीत, नन्हे कलाकारों ने ले फोटो ले..., ढोला आयो रे आयो रे..., घूमर नृत्य..., शुभ दिन आयो रे... वेलकम गीत, तो बोलो हर हर महादेव शंभू गीत पर तांडव नृत्य, अचूतम केशवम रामनारायणम..., नैनो वालो ने केसा मन का प्याला डाला..., काली काली औ महांकाली पर काली माता के चित्र का प्रदर्शन, सुनो गौर से दुनिया वालो बुरी नजर ना हमपर डालो..., जैसे गीतों पर नृत्य की प्रस्तुतियां व भाव भंगिमाएं प्रस्तुत की। संचालन अजय शर्मा व राजेन्द्र शर्मा ने किया।
--गायकों ने भी बांधे रखा
इसके बाद गायक कलाकार ने अंजनी माता लाडला हाथों में खडताल लिए ..., तेरी शक्ति का क्या कहना तेरी भक्ति का कया कहना..., दुनिया में देव हजारो है बजरंग बली का क्या कहना..., प्रस्तुत कर माहोल को भक्तिमय बना डाला गायिका जसमीत कोर ने चल छइया छइया चल..., र्ईश्क की राह पर चल..., यही मरना ओर यही जीना है..., बडी तडफावें तेरी गलिया तेरी गलिया..., इंतजार तेरा मेरे सर पर दुपटटा तेरे प्यार का..., पधारो म्हारे देश की प्रस्तुति देकर श्रोताओं में कशीश जगा दी । गायिका एश्वर्या ने ओ राम जी बडा दुख दीना तेरे लखन ने..., गायिका खुशबू ने म्हारे हिवडे में बेठी रे कटार रे कटार..., मोरिया आच्छो बोल्यिो रे ढलती रात में..., मोरनी बोली आधी रात में..., मुखड़ा चांद का टुकड़ा..., मेरे नैन शराब के प्याले..., जैसे गीत प्रस्तुत कर श्रोताओं को रोमाचिंत कर दिया।